स्वस्थ भारत डॉट इन

Author : Amit Tyagi

6 Posts - 0 Comments
स्वास्थ्य की बात गांधी के साथ

राम धुन: एक अचूक इलाज़

Amit Tyagi
हमें शरीर के बदले आत्मा के चिकित्सकों की जरूरत है। अस्पतालों और डाक्टरों की वृद्धि कोई सच्ची सभ्यता की निशानी नहीं है।  इस विचार के बीस साल बाद 15 जून 1947 को हरिजन सेवक के अंक मे गांधी जी कहते हैं कि आपको यह जानकार खुशी होगी कि चालीस साल
समाचार स्वास्थ्य की बात गांधी के साथ

कुदरती ईलाज़ का महत्व

Amit Tyagi
हरिजन सेवक के 24 मार्च 1946 के अंक मे गांधी जी लिखते हैं, वैद्यो और डॉक्टरों के राम नाम रटने की सलाह देने से रोगी का दुख दूर नहीं होता। जब वैद्य स्वयं उसके चमत्कार को जानता हो, तभी रोगी को भी उसके चमत्कार का पता चलता है। राम नाम
समाचार स्वास्थ्य की बात गांधी के साथ

स्वास्थ्य की कुंजी गांधी के राम

Amit Tyagi
गांधी जी का कुदरती इलाज़ राम धुन एवं राम नाम में छुपा हुआ है। कुदरती इलाज़ से तात्पर्य है ऐसे उपचार या इलाज़ से है जो मनुष्य के लिये योग्य हो। मनुष्य का तात्पर्य प्राणी मात्र से है। मनुष्य में सिर्फ मनुष्य का शरीर शामिल नहीं है बल्कि मन और
SBA विशेष

कब तक ढोते रहेंगे बालिका भ्रूण हत्या जैसे कलंक

Amit Tyagi
सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक 1981 में 0-6 साल के बच्चों का लिंग अनुपात 1000-962 था जो 1991 में घटकर 1000-945 और 2001 में 1000-927 रह गया। केंद्रीय सांख्यिकी संगठन की रिपोर्ट के अनुसार भारत में वर्ष 2001 से 2005 के अंतराल में करीब 6,82,000 कन्या भ्रूण हत्याएं हुई हैं। इस
SBA विशेष

क्या आप जानते हैं एम्स में एक दिन के बच्चे का ईलाज नहीं होेता है!

Amit Tyagi
एनसीआर मे कार्यरत एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पत्नी को सोमवार रात बिजनौर के एक अस्पताल मे संतान प्राप्ति हुयी। मंगलवार दोपहर को अस्पताल ने बताया कि बच्चे की आहार नाल बंद है और इसका इलाज़ उनके पास नहीं है। बच्चे को रेफर कर दिया गया और आनन फानन मे परिजन
SBA विशेष

  योग : भारतीयता की अंतराष्ट्रीय पहचान

Amit Tyagi
अब भारत के युवा वर्ग और आम जनमानस मे ऐसा विश्वास हो चला है कि जिस समृद्ध परंपरा को हम किताबों मे पढ़ते आये हैं उस पर सम्पूर्ण विश्व मुहर लगा रहा है। और ये क्षण शायद सबसे ज़्यादा गौरव का क्षण होता है। अब वो गौरवशाली समय तो आने
swasthbharat.in में आपका स्वागत है। स्वास्थ्य से जुड़ी हुई प्रत्येक खबर, संस्मरण, साहित्य आप हमें प्रेषित कर सकते हैं। Contact Number :- +91- 9891 228 151