स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY फ्रंट लाइन लेख / Front Line Article विविध / Diverse स्वस्थ भारत अभियान / Healthy India Campaign स्वस्थ भारत यात्रा / Healthy India Travel स्वस्थ भारत यात्रा रपट / Healthy India Travel Report

चेन्नई के गुरुद्वारे में स्वस्थ भारत यात्रियों का हार्दिक स्वागत

चेन्नई के गुरुद्वारे में स्वस्थ भारत यात्रियों का हार्दिक स्वागत, गुरुद्वारे में हुई सभा, विभिन्न प्रदेशों के लोग हुए शामिल, जनऔषधि में ली दिलचस्पी
• तमिलनाडू में पर्याप्त जनऔषधि की पहुंच होगी सुनिश्चित,
• ड्रग कंट्रोल ऑफिस पहुंचे स्वस्थ भारत यात्री, लिया सरकारी नियमों का जायजा
• ड्रग कंट्रोल ऑफिस और जनऔषधि केन्द्र संचालकों के बीच हुआ विमर्श, यात्रा के उद्देश्यों का किया समर्थन
• प्रदेश ड्रग कंट्रोल ऑफिस ने कहा बिना देरी मिलेगा लाइसेंस
• तांबरम स्थित हिन्दू मिशन हॉस्पिटल में भी हुआ यात्रियों का स्वागत, हॉस्पिटल में होता है जनऔषधि का अधिकतम इस्तेमाल
• मरिना बीच पर पहुंच किया लोगों को जनऔषधि, पोषण एवं आयुष्मान के बारे में जागरूक

चेन्नई 14 फरवरी
पुड्डुचेरी से चलकर चेन्नई पहुंचे स्वस्थ भारत यात्री दल का टी नगर स्थित गुरुद्वारा में हार्दिक स्वागत हुआ। यहां की लाइब्रेरी में आयोजित एक सभा में विभिन्न प्रदेशों से चिकित्सा के लिए पहुंचे मरीजों और उनके तीमारदारों ने हिस्सा लिया। इसके पहले यात्री तमिलनाडू के ड्रग कंट्रोलर ऑफिस गए और अधिकारियों से जनऔषधि केन्द्रों के विस्तार को लेकर विचार-विमर्श किया। यात्रियों ने हिन्दू मिशन अस्पताल का भी दौरा किया और मरिना बीच पहुंचकर स्वस्थ भारत यात्रा का संदेश दिया।
गुरुद्वारा में आयोजित सभा में यात्रा दल के प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने गुरु गोविंद सिंह की कुर्बानियों को याद करते हुए कहा कि मैं भी उनकी जन्मस्थली से ताल्लुक रखता हूं। मुझे इस बात की खुशी है कि उनके द्वारा दिखाए मार्ग पर चलकर उनके अनुयायी गरीबों का ख्याल रख रहे हैं। इसलिए यहां आकर मुझे महसूस होता है कि स्वस्थ भारत यात्री भी उनकी परंपरा को ही आगे बढ़ा रहे हैं। श्री सिंह ने सभा में मौजूद विभिन्न प्रदेशों के लोगों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि जेनरिक मेडिसिन का प्रचार-प्रसार जरूरी है क्योंकि जबतक लोग नहीं जगेंगे तब तक दवा के नाम पर लूट करने वाली कंपनियों पर रोक नहीं लग सकेगी। उन्होंने कहा कि हमें चिकित्सकों को जेनरिक मेडिसिन की सिफारिश करने के लिए नैतिक दबाव डालते रहना चाहिए। अगर डॉक्टर उनकी बात न माने तो उनका विरोध करना चाहिए एवं कानून का सहारा लेना चाहिए।
सभा के शुरुआत में गांधीवादी चिंतक प्रसून लतांत ने कहा कि देश और दुनिया के गुरुद्वारे इंसानियत की खिदमत करने के लिए विख्यात हैं। गुरुद्वारों से गरीबों की जितनी मदद की जाती है उतना किसी और संस्थान से नहीं की जाती है। समाज में बराबरी, मानवता के लिए त्याग अंतिम जनों की सहायता के मामले में गुरुद्वारे दुनिया भर में मिशाल हैं। इस मौके पर जनऔषधि से संबंधित प्रश्नों का जवाब देते हुए दक्षिण भारत के बीपीपीआई प्रमुख विजय सिंह राजपूत ने कहा कि जनऔषधि को लेकर लोगों में जागरुकता बढ़ रही है, जनऔषधि केन्द्रों का विस्तार हो रहा है। उन्होंने अपने पांच साल के अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि शुरू में दक्षिण भारत में मात्र दो केन्द्र थे जो अब बढ़कर करीब 2,000 हो गए हैं। उन्होंने कहा कि जनता में ज्यों-ज्यों जागरुकता बढ़ेगी त्यों-त्यों चिकित्सकों को गरीब-गरीब मरीजों के पक्ष में खड़े होने को मजबूर होना पड़ेगा। चेन्नई में अधिकतम जनऔषधि की उपलब्धता को सुनिश्चित करने के लिए जल्द ही खुल रहे नए वेयरहाउस की जानकारी देते हुए यहां के अधिकारी सागर सेजपाल ने बताया कि बहुत जल्द ही चेन्नई में 60 हजार वर्गफूट में देश का सबसे बड़ा दवा भंडारण केन्द्र खुलने जा रहा है। इसके खुलने से दक्षिण भारत के जनऔषधि केन्द्रों पर पर्याप्त जनऔषधि की आपूर्ति संभव हो सकेगी।
तमिलनाडू में विभिन्न आयोजनों के सूत्रधार बने शक्तिश्वर सिंह ने स्वस्थ भारत यात्रा की विशेषताओं की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अभियान अधिक से अधिक होंगे तो चिकित्सा के क्षेत्र में एक नई क्रांति आयेगी। इस अवसर पर गुरुद्वारा साहिब, टी नगर चेन्नई, बीपीपीआई के दक्षिण भारत के जोनल ऑफिसर विजय सिंह राजपूत तथा तमिलनाडू और पुड्डूचेरी के एमओ शक्तिश्वर सिंह को स्वस्थ भारत न्यास की ओर से आभार पत्र प्रदान किया गया।
तांबरम पश्चिम स्थित चिकित्सा के क्षेत्र में विख्यात हिन्दू मिशन अस्पताल के पद्श्री प्राप्त डी.के श्रीनिवासन ने स्वस्थ भारत यात्रियों का स्वागत करते हुए कहा कि ऐसे अभियानों से गरीब मरीजों का बहुत भला होगा। उन्होंने स्वीकार किया कि उनके अस्पताल में जेनरिक दवाइयां ही बेची जाती हैं।
इसके पूर्व स्वस्थ भारत यात्री तमिलानाडू के जनऔषधि केंद्र के संचालको और बीपीपीआई के अधिकारियों के साथ तमिलनाडू के ड्रग कंट्रोलर ऑफिस पहुंचे और वहां अधिकारियों के साथ विचार- विमर्श किया। डायरेक्टर ऑफ ड्रग्स कंट्रोल, तमिलनाडू के. शिवाबालन ने यात्री दल का स्वागत करते हुए कहा कि यहां पर हमलोग 5 दिन में दवा दुकान खोलने के लिए लाइसेंस जारी कर देते हैं। हमारे यहां 35000 दवा की दुकानें चल रही हैं।
देर शाम यात्री दल यहां स्थित मरिना बीच पहुंचे और वहां मौजूद लोगों को पंपलेट व जेनरिकोनॉमिक्स आदि किताबें देकर जनऔषधि के बारे में जानकारी दी।
यात्रा के अगले पड़ाव के बारे में बताते हुए मीडिया को-आर्डिनेटर अशोक प्रियदर्शी ने बताया कि अभी तक हमलोग गुजरात, महाराष्ट्र, दमन, कर्नाटक, केरल, पुड्डुचेरी होते हुए तमिलनाडू पहुंचे हैं और अब यह यात्रा आन्ध्र प्रदेश में प्रवेश करने जा रही है। तिरूपति, विजयवाड़ा, हैदराबाद, नांदेड़ होते हुए हमलोग वर्धा की ओर जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस यात्रा में प्रियंका सिंह, शंभू कुमार, विवेक शर्मा, विनोद रोहिल्ला एवं पवन कुमार सहित कुल 9 लोग शामिल हैं। इस यात्रा की शुरुआत 30 जनवरी को साबरमती आश्रम अहमदाबाद से हुई थी और समापन 28 अप्रैल, 2019 को दिल्ली में प्रस्तावित है। उन्होंने बताया कि अभी तक 4 हजार किमी की यात्रा हो चुकी है जबकि यह यात्रा 90 दिनों तक चलेगी और लगभग 21000 किमी की है।

Related posts

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस विशेष: वैश्विक होता योग

बिहार के 14 लाख से अधिक प्रवासियों को मिली  कोरोना काल में राहत

Ashutosh Kumar Singh

मरीज के साथ संबंध बनाएं

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment