स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY फ्रंट लाइन लेख / Front Line Article विविध / Diverse समाचार / News स्वस्थ भारत अभियान / Healthy India Campaign स्वस्थ भारत यात्रा / Healthy India Travel स्वस्थ भारत यात्रा रपट / Healthy India Travel Report

नागपुर के जीरो माइलस्टोन से दिया स्वास्थ्य का संदेश

नाग नदी के तट से शुरू हुआ स्वस्थ भारत यात्रा-2 का दूसरा चरण
• दूसरे चरण में पांच राज्यों में जनऔषधि, पोषण एवं आयुष्मान पर अलख जगाएंगे स्वस्थ भारत यात्री
• नागपुर में जनऔषधि केन्द्रों का लिया जायजा, जल्द ही खुलेंगे 3 और केन्द्र
• यात्री दल ने नागपुर के जीरो माइलस्टोन से दिया स्वास्थ्य का संदेश
• पहले चरण में पूरी हुई दक्षिण भारत सहित 9 राज्यों की यात्रा, 21 दिनों में हुए 51 आयोजन
• 21 हजार किमी की यह यात्रा 90 दिनों में होगी पूर्ण
• देश भर में मिल रहा है यात्रा को अपार समर्थन
• दूसरे चरण के दूसरे दिन जबलपुर पहुचेगी यात्रा

नागपुर/ 21.02.19
साबरमती आश्रम से गांधी के स्वास्थ्य चिंतन की धारा को फैलाने के लिए निकले स्वस्थ भारत यात्री दल ने यात्रा का दूसरा चरण नाग नदी के उद्गम स्थल नागपुर से शुरू किया। 20 फरवरी को नागपुर पहुंचे स्वस्थ भारत यात्रा दल ने यहां के प्रभाकर टटके स्मृति अस्पताल में पूअर पीपल्स वेलफेयर सोसायटी के द्वारा संचालित जनऔषधि केन्द्रों का जायजा लिया। इस अवसर पर केन्द्र संचालक नितिन गोथे को स्वस्थ भारत (न्यास) द्वारा आभार पत्र देकर सम्मानित किया गया। नितिन गोथे ने बताया कि जल्द ही शहर में तीन और जनऔषधि केन्द्र उनकी संस्था खोलने जा रही है। इस बावत नगरपालिका से उन्हें स्थान आवंटित हो गया है। इसके पूर्व यात्री दल के सभी सदस्य भौगोलिक रूप से महत्वपूर्ण माने जाने वाले जीरो माइलस्टोन पर गए और यहां से देश के लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने का संदेश दिया।
स्वस्थ भारत यात्रा के दूसरे चरण की जानकारी देते हुए यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने बताया कि इस चरण में यात्रा नागपुर से शुरू होकर जबलपुर, रायपुर, बस्तर, बिलासपुर, संबलपुर, कटक, भूवनेश्वर, कोलकाता, रांची, जमशेदपुर, धनबाद, पांकुड़ होते हुए सिलीगुड़ी तक जायेगी और स्वस्थ भारत के तीन आयामः जनऔषधि पोषण एवं आयुष्मान के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा। प्रथम चरण की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए आशुतोष ने बताया कि दक्षिण भारत जैसे अहिंदी प्रदेशों में भी आम जनता तक यात्रा के संदेश को आसानी से फैलाने में हमें कामयाबी मिली। इस दौरान 9 राज्यों में 51 छोटे-बड़े आयोजन आयोजित किए गए, जिनमें सभी वर्ग के लोगों ने अपनी हिस्सेदारी निभाई।

Related posts

दांव पर चिकित्सकों की साख!

आरएमएल और सफ़दरजंग में दो करोड़ के उपकरण बेकार हो गए

Ashutosh Kumar Singh

फार्मासिस्ट लायसेंस की जुगाड़ में महाराष्ट्र के दवा व्यापारी

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment