स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

बिहार के अस्पतालों में अब एड्स की दवा भी मुफ्त

पटना (स्वस्थ भारत मीडिया)। बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने जीवन रक्षक दवाओं (EDL) की सूची में विस्तार करते हुए एड्स की 21 प्रकार की नयी दवाओं को अब सूची में शामिल किया है। इसके अलावा हीमोफीलिया मरीजों के लिए चार दवाओं को भी जगह मिली है। इनमें फैक्टर सात, फैक्टर आठ और फैक्टर नौ के अलावा डेस्मोक्रेसिन की दवा शामिल है।

दवाओं की संख्या अब 637

विश्व एड्स दिवस पर राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा गठित कमेटी ने इसकी स्वीकृति दी है। अब जीवनरक्षक दवाओं की सूची में दवाओं की संख्या बढ़कर 637 हो गई है। इन दवाओं को अस्पतालों में इलाज को आनेवाले मरीजों को मुफ्त में दिया जाएगा। मीडिया खबरों के मुताबिक ग्रामीण इलाकों के मरीजों के लिए भी मुफ्त में मधुमेह, रक्तचाप, मिर्गी और दमा की दवाएं देने की व्यवस्था की गई है। विभाग ने हर स्तर के अस्पताल के लिए ओपीडी के मरीजों के लिए अलग दवाओं की सूची जारी की गयी है, जबकि भर्ती मरीजों के लिए दवाओं की अलग सूची है।

मानसिक रोगियों पर भी ध्यान

इसी तरह सूची में बिहार राज्य मानसिक स्वास्थ्य एवं सहबद्ध विज्ञान संस्थान (BIMHAS), कोईलवर में मानसिक रोगियों को 144 प्रकार की दवाएं शामिल हैं जो उन्हें मुफ्त मिलेंगी। सूची में मेडिकल कॉलेज अस्पताल, जिला अस्पताल, अनुमंडलीय अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, रेफरल अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, एपीएचसी, शहरी पीएचसी, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर टेलीमेडिसिन सेंटर और स्वास्थ्य उपकेंद्रों के लिए अलग-अलग सूची बनी है।

Related posts

Study : IT सेक्टर के कर्मियों में ज्यादा हेल्थ रिस्क

admin

टीआईएफआर ने शुरू की कोविड-19 पर जागरूकता फैलाने की पहल

Ashutosh Kumar Singh

शारीरिक चक्रों के संतुलन से बनता है स्वस्थ शरीर

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment