स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

जन-जन तक पहुंचानी हैं सस्ती दवाएं : जन औषधि संघ

भोपाल (स्वस्थ भारत मीडिया)। मध्यप्रदेश राज्य सहकारी जन औषधि विपणन संघ पूरी तरह से जन मानस को सस्ती व गुणवत्तापूर्ण दवाएं पहुंचाने में समर्पित है। इस पंजीकृत संस्था द्वारा देश के अलग अलग हिस्सों में 300 से भी अधिक जन औषधि केंद्र सफलतापूर्वक कार्य कर रहे हैं जिनके माध्यम से लाखों गरीब लोगों को बेहद सस्ते दामों पर दवाएं उपलब्ध हो रही है। जन औषधि केंद्र इस समय केरल, तमिलनाडु, चेन्नई, पंजाब, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और असम में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को हर मर्ज की सस्ती दवाएं उपलब्ध करा रहा है। संस्था इस समय 400 से भी अधिक किस्म की जेनरिक व सस्ती दवाएं आम जनता तक पहुंचा रही है।

गंभीर रोगों की दवायें भी

गंभीर रोगों की दवाओं के अतिरिक्त जन औषधि संघ हेल्थ सप्लीमेंट व पशुचिकित्सा संबंधी दवाएं भी अपने स्टोर के माध्यम से आम जन तक पहुंचा रहा है जिससे ग्रमीण क्षेत्रों में किसानों को अपने पशुओं के लिए सस्ती दवाएं आसानी से मिल सकें। जन औषधि विपणन संघ के इन प्रयासों पर संस्था के अध्यक्ष जागृत प्रभात मिश्रा का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी जी के दिखाए रास्ते पर चलते हुए, हम एक ही उद्देश्य से काम कर रहे हैं। हमारा यह प्रयास है कि कोई भी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग दवाओं के अभाव में अपनी जान न गवाएं। अपने अभी तक के प्रयासों के माध्यम से हम काफी हद तक इस उद्देश्य में सफल भी हो रहे हैं।

आयुर्वेद के क्षेत्र में विशेष भूमिका

जन औषधि संघ आयुर्वेद के क्षेत्र में भी विशेष भूमिका निभा रहा है। जन मानव कल्याण को समर्पित मध्यप्रदेश राज्य सहकारी जन औषधि विपणन संघ आने वाले समय में भी जनमानस के सेवाभाव से जुड़ी कुछ अन्य योजनाएं लेकर आ रहा है जो निश्चित रूप से ही जनमानस के हित को केंद्र में रखकर आरंभ की जाएंगी। समस्त देशवासियों को किफायती दरों पर गुणवत्तापूर्ण दवाइयां उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रारंभ की गई इस परियोजना ने आम जनमानस का विश्वास जीत लिया है और आने वाले समय में भी संस्था अपने कार्यक्षेत्र का बड़े स्तर पर विस्तार करने में पूरी तरह सक्रिय है। संस्था द्वारा समय समय पर स्वास्थ्य संबंधी वर्कशॉप व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाई जा सकें।

Related posts

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लिए ऑनलाइन डैशबोर्ड लॉन्च

admin

हरियाणा सरकार को लगा झटका, डेंटल सर्जन को नहीं हटा सकेगी खट्टर सरकार

Ashutosh Kumar Singh

द लांसेट : जलवायु परिवर्तन से खाद्य उत्पादन पर पड़ने वाला प्रभाव वर्ष 2050 तक ले सकता है 05 लाख अतिरिक्त लोगों की जान

Leave a Comment