स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

विकास का आधार बन सकता है हिमालयी भू-संसाधनों का अन्वेषण

नई दिल्ली। हिमालय के हिमनद और हिमक्षेत्र सिंचाई, उद्योग, जल विद्युत उत्पादन आदि अरबों लोगों के जीवन को आधार प्रदान करते हैं। हिमालयी भू-संसाधनों का अभी पूरी तरह अन्वेषण नहीं हो पाया है, जो इस क्षेत्र के साथ-साथ पूरे देश के सामाजिक-आर्थिक विकास में योगदान दे सकते हैं। केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) य पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी (डब्ल्यूआईएचजी) में रिसर्च स्कॉलर और ट्रांजिट हॉस्टल के उद्घाटन के अवसर पर यह बात कही है।

हिमालय के संसाधनों का उपयोग

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भू-गतिकी के दृष्टिकोण से हिमालय क्षेत्र के मूल्यांकन के साथ-साथ भूकंप, भूस्खलन, हिमस्खलन या आकस्मिक बाढ़ जैसी घटनाओं की वैज्ञानिक व्याख्या और भू-तापीय ऊर्जा स्रोत, खनिज, अयस्क निकाय, हाइड्रोकार्बन, झरने, नदी प्रणाली जैसे भू-संसाधनों की खोज और उनके बारे में विस्तृत वैज्ञानिक समझ विकसित करने में भी डब्ल्यूआईएचजी ने योगदान दिया है। उल्लेखनीय है कि भौतिकी, रसायनिकी और गणित के सिद्धांतों के आधार पर पृथ्वी की भौतिकीय प्रक्रियाओं को समझने के विज्ञान को भू-गतिकी (Geodynamics) के रूप में जाना जाता है। डॉ. सिंह ने कहा कि हिमालय क्षेत्र के संसाधनों का उपयोग सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए किया जा सकता है।

पर्यावरणीय प्रभाव का मूल्यांकन

उन्होंने कहा कि अधिक ऊंचाई वाले हिमनदों पर अपस्ट्रीम जलवायु परिवर्तन के प्रभाव और डाउनस्ट्रीम नदी प्रणाली पर उनके परिणामों को समझना महत्वपूर्ण है, जो सिंचाई, पेयजल, जल के औद्योगिक एवं घरेलू उपयोग, जल विद्युत परियोजनाओं के माध्यम से करोड़ों लोगों, पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को भी भोजन उपलब्ध कराने के लिए जाने जाते हैं। जल विद्युत परियोजनाओं के प्रभाव के मूल्यांकन के अतिरिक्त डब्ल्यूआईएचजी हिमालय क्षेत्र में सड़क निर्माण, रोपवे, रेलवे, सुरंग निर्माण इत्यादि से जुड़ी कई अन्य विकासात्मक गतिविधियों से संबंधित पर्यावरणीय प्रभाव का मूल्यांकन भी कर रहा है।

हिमनदियों से कई लाभ

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि ऊर्जा सुरक्षा से लेकर जल सुरक्षा, औद्योगिक विस्तार, प्राकृतिक आपदाओं के शमन, पारिस्थितिकी और जैव विविधता पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव, पर्यावरण संरक्षण आदि में भू-विज्ञान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड हिमालय में लगभग एक हजार हिम नदियां और इतनी ही संख्या में ग्लेशियर झीलें हैं। उपग्रह डेटा का उपयोग आमतौर पर एक बड़े और दुर्गम क्षेत्र में हिम नदियों या ग्लेशियर झीलों के आयाम और संख्या के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है, लेकिन भूमि-आधारित डेटा सटीक मॉडलिंग के लिए आवश्यक हैं।

ग्लेशियरों की निगरानी भी

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा जारी वक्तव्य में बताया गया है कि डब्ल्यूआईएचजीय उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और सिक्किम में कई ग्लेशियरों की निगरानी कर रहा है। इस संस्थान ने मौसम विज्ञान, जल विज्ञान, भूकंपीय स्टेशन, वीसैट-जीएसएम के माध्यम से डेटा का ऑॉनलाइन प्रसारण, स्वचालित विश्लेषण-मॉडलिंग, और एआई-एमएल एल्गोरिदम के माध्यम से डेटा का एकीकरण, मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) की स्थापना का एक नेटवर्क स्थापित करके निरंतर मोड पर ग्लेशियरों और झीलों की दीर्घकालिक निगरानी की योजना की परिकल्पना की है। डॉ. सिंह ने कहा कि हितधारकों को अलर्ट जारी करना तथा एक पूर्व चेतावनी प्रणाली के प्रभावी निष्पादन हेतु समय पर प्रतिक्रिया के लिए स्थानीय लोगों को संवेदनशील बनाना समय की आवश्‍यकता है।

बिजली उत्पादन का प्रयास

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, डब्ल्यूआईएचजी ने उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के हिमालयी क्षेत्र में प्रत्येक में 40 भू-तापीय स्प्रिंग्स की मैपिंग की है और तपोवन में एक बाइनरी पावर प्लांट द्वारा प्रारंभिक चरण में पाँच मेगावाट बिजली उत्पन्न करने का प्रयास कर रहा है। अगर यह सफल होता है तो इसे बिना किसी कार्बन फुटप्रिंट के अंतरिक्ष तापन और विद्युत ऊर्जा में रूपांतरण के लिए सभी भू-तापीय क्षेत्रों में विस्तारित किया जाएगा।

इंडिया साइंस वायर से साभार

 

Related posts

10 हजार किमी की यात्रा कर स्वस्थ भारत यात्री पहुंचे गुवाहाटी

Ashutosh Kumar Singh

10 करोड़ आदिवासी जनसख्या के स्वास्थ्य पर राष्ट्रीय कार्यशाला

Ashutosh Kumar Singh

कोविड-19 से लड़ने के लिए सीएसआईआर लैब के शोधार्थियों ने बढ़ाया हाथ

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment