स्वस्थ भारत मीडिया
Uncategorized समाचार / News

आज के नवाचार भविष्य की जीवन शैली होंगे : डॉ. भारती प्रवीण पवार

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने आज डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर, नई दिल्ली में अटल नवाचार मिशन- प्राइम (प्रोग्राम फॉर रिसर्चर्स फॉर इनोवेशन, मार्केट रेडीनेस एंड एंटरप्रेन्योरशिप) प्लेबुक और स्टार्ट-अप शोकेस का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने नवीनतम सोच को मान्यता देते हुए मेक इन इंडिया कार्यक्रम चलाया जिससे स्वास्थ्य और चिकित्सा प्रौद्योगिकी क्षेत्रों को बढ़ावा मिला है। आने वाले दशक में, भारत चिकित्सा उपकरणों, निदान, प्रोटीन-आधारित जीवविज्ञान, पारंपरिक चिकित्सा आदि सहित स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों का एक प्रमुख निर्यातक बनने के लिए तैयार है।

नवाचार का स्थायी चक्र बनाना होगा

उन्होंने कहा कि यदि हमें अनुसंधान आधारित नवाचार और धन सृजन का एक स्थायी चक्र तैयार करना है तो हमें प्रौद्योगिकी व्यावसायीकरण में महारत हासिल करना होगा। इस संदर्भ में AIM PRIME (प्रोग्राम फॉर रिसर्चर्स इन इनोवेशन, मार्केट रेडीनेस एंड एंटरप्रेन्योरशिप) प्रोग्राम सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों में मजबूत स्वदेशी विनिर्माण क्षमताओं को बनाने के एक महत्वपूर्ण उद्देश्य की पूर्ति करेगा। इस पहल के लिए नीति आयोग को बधाई देते हुए डॉ. भारती प्रवीण पवार ने कहा कि आज के नवाचार भविष्य की जीवन शैली होंगे। उन्होंने कहा कि हम प्राचीन काल से अपने दृष्टिकोण में हमेशा नवीन सोच के साथ आगे बढ़े हैं। भारत ने विश्व को आयुर्वेद, योग और शून्य की अवधारणा भी दी है। उन्होंने कहा कि भारत ने विश्व स्तर पर नवाचारों को आकार देने में सक्रिय भूमिका निभाई है। केन्द्र सरकार भारत को एक अग्रणी वैश्विक नवाचार अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

हेल्थ सेक्टर में अच्छा प्रदर्शन

डॉ. पवार ने कहा कि भारत वैश्विक नवाचार स्थिति में लगातार सुधार कर रहा है। महामारी के दौरान जब स्वास्थ्य सेवा प्राथमिकता के रूप में सामने आई तो हमने देखा कि स्टार्ट-अप ने इस अवसर पर वृद्धि करते हुए डायग्नोस्टिक्स, पीपीई, वेंटिलेटर और अंतिम मील के पत्थर के रूप में वैक्सीन वितरण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने कहा कि भारतीय स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की इन समस्याओं को हल करने में भारतीय स्टार्ट-अप ने अपनी क्षमता का जबरदस्त प्रदर्शन किया। उन्होंने शोधकर्ताओं का आह्वान किया कि प्रेरणा हर सफल नवाचार का उत्प्रेरक घटक है और उनसे देश में अनुसंधान एवं विकास और प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास करने का आग्रह किया जिससे नागरिकों को लाभ मिल सके।

Related posts

कोरोना राहत वितरण: काहे की पारदर्शिता!

Ashutosh Kumar Singh

झारखंड में राजपत्रित पशु चिकित्सा अधिकारी के जगह पर अराजपत्रित कृषि अधिकारी की नियुक्ति

Ashutosh Kumar Singh

कोरोना से लड़ते गांव-देहात को सलाम

admin

Leave a Comment