स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

भीषण ठंड से बढ़ी अस्पतालों में मरीजों की संख्या

पटना (स्वस्थ भारत मीडिया)। भीषण ठंड और शीतलहर से अस्पतालों में ब्रेन हैमरेज, अनियंत्रित बीपी, स्ट्रोक और सांस की तकलीफ से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ गई है। इमरजेंसी में 80 से 90 प्रतिशत मरीज ठंड के कारण बीमार पड़े लोगों से भर गए हैं। इनमें कई ब्रेन हैमरेज के शिकार रेलयात्री भी हैं। पिछले पांच दिनों से औसत 35 से 40 मरीज IGIMS में जबकि 20 से 30 मरीज PMCH में पहुंच रहे हैं। इनमें बुजुर्ग मरीज ज्यादा होते हैं। IGIMS के अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल ने कहा कि पिछले एक सप्ताह से ब्रेन हैमरेज के मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

मुजफ्फरपुर में नाइट ब्लड सर्वे

फाइलेरिया परजीवी की खोज को लेकर मुजफ्फरपुर के प्रखंडों में नाइट ब्लड सर्वे की शुरुआत की गयी। इस दौरान प्रखंडों में सेंटिनल एवं रैंडम साइट से लैब टेक्नीशियन द्वारा लोगों का रक्त संग्रह कर उनमें मौजूद छिपे हुए फाइलेरिया परजीवी की खोज की जा रही है ताकि उन्हें इलाज मुहैय्या कराया जा सके। इस बारे एक अधिकारी ने बताया कि सर्वे समाप्त होने के बाद फाइलेरिया प्रभावित क्षेत्रों में 10 फ़रवरी से सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम चलेगा जिसमें 2 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को अल्बेंडाजोल एवं डीईसी की गोली खिलाई जाएगी।

कोरोना की दवा की मांग

कोरोना को देखते हुए मुजफ्फरपुर के स्वास्थ्य विभाग ने सरकार से एंटीबायोटिक की चार लाख, पैरासिटामोल की छह लाख और जिंक की एक लाख व मल्टी विटामिन की पांच लाख गोलियां मांगी है। अस्पतालों को सैनिटाइजर और मास्क की आपूर्ति भी की जानी है। उधर आयुर्वेद चिकित्स संघ नीमा के प्रदेश महासचिव डॉ विपिन बिहारी ने बताया कि कोरोना में इम्युनिटी बढ़ाने वाली दवाएं मंगाई जा रही है। इससे पहले भी इन दवाओं की काफी खपत बीते दिनों हो चुकी है।

Related posts

हरियाणा के रेवाड़ी को मिला एम्स का तोहफा

admin

झारखंड के गांवों के बच्चों में ब्रेन मलेरिया का प्रकोप

admin

डीएनए बिल-2019: अपराधियों की खैर नहीं…

Leave a Comment