स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

झारखंड में 40 फीसद मरीज ओरल कैंसर के

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। झारखंड में प्रति एक लाख की आबादी में 70 लोग कैंसर से पीड़ित हैं। इसमें 40 फीसद मरीज तंबाकू या उसके उत्पाद का उपयोग करने की वजह से ओरल कैंसर की चपेट में आते हैं। NFHS-5 के आंकड़े के अनुसार झारखंड में 47.4 फीसद पुरुष और 8.4 फीसदी महिलाएं तंबाकू का सेवन किसी न किसी रूप में करते हैं। यहां कैंसर मरीजों की वृद्धि 13 फीसद की दर से हो रही है। मृत्यु दर 30 फीसद के करीब है। महिलाओं में सर्वाइकल और ब्रेस्ट कैंसर तेजी से बढ़ रहा है।

EPTB के लिए एम्स में प्रशिक्षण

टीबी रोग सिर्फ फेफड़ों की बीमारी नहीं है। नाखून और बाल को छोड़कर शरीर के किसी भी अंग में टीबी हो सकता है। भारत में टीबी (EPTB) के मरीजों में लगभग 27 फीसद मामले ऐसे मरीजों के होते हैं जिनमें हड्डी, रीढ़, दिमाग आदि में टीबी पाया जाता है। इसे एकस्ट्रा पल्मोनरी टीबी कहते हैं। जागरुकता के अभाव में ऐसे मामलों की पहचान नहीं हो पाती है। इसे देखते हुए एम्स दिल्ली के मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉक्टर नवीत विग और एडिशनल प्रोफेसर डॉक्टर नीरज निश्चल के नेतृत्व में डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। देशभर के लगभग 300 डॉक्टरों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य है।

न्यूक्लियर मेडिसिन एक्सपर्ट की घोर कमी

देश में न्यूक्लियर मेडिसिन विशेषज्ञों और उपचार केंद्रों की संख्या बहुत ही कम है। इस समय देश में केवल 250 सौ विशेषज्ञ एटॉमिक एनर्जी ऑफ इंडिया में पंजीकृत हैं। यदि इसमें तकनीशियनों की संख्या भी जोड़ दी जाए तो यह आंकड़ा करीब 1450 होता है। यह जानकारी जयपुर के महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज के वाइस चांसलर डॉ. अचल गुलाटी ने एक सेमिनार में दी।

Related posts

स्वास्थ्य मंत्री ने किया “मैनेजमेंट ऑफ हेल्थकेयर सिस्टम्स” पुस्तक का लोकार्पण

admin

अंगदान को लोकप्रिय बनाने के लिए जनभागीदारी जरूरी : मांडविया

admin

बाल मृत्यु दर को कम करने में भारत को सफलता

admin

Leave a Comment