स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

प्रदूषण से दिल्ली-एनसीआर में बढ़ा हेल्थ रिस्क

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण से त्राहिमाम की स्थिति है। सांस संबंधी परेशानियों ने स्वास्थ्य पर जोखिम बढ़ा दिया है। दिल्ली सरकार ने हाथ खड़े करते हुए केंद्र सरकार से बैठक बुलाने की मांग की है। सरकार के एहतियाती कदम भी फेल हो रहे हैं। कई इलाकों में एयर क्वालिटी इतनी खराब हो गई है कि स्मॉग की चादर फैल गई है। लोगों को आसपास भी साफ दिखाई नहीं दे रहा और स्वस्थ लोगों को भी सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दिल्ली से सटे गुरुग्राम में भी दोपहर बाद तक आकाश साफ नहीं होता। पंजाब में वायु प्रदूषण को देखते हुए राज्य सरकार ने मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है।

दिल्ली में 10 तक बच्चों के स्कूल बंद

चरम पर प्रदूषण को देखते हुए सरकार ने बच्चों के स्कूलों को 10 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया है। जानकारी के अनुसार दिल्ली के ज्यादातर इलाकों में AQI 500 के करीब पहुंच चुका है। आनंद विहार में दो दिन पहले एयर क्वालिटी इंडेक्स सबसे ज्यादा 999 तक पहुंच गया। गाजियाबाद यहां से नजदीक है जिसकी वजह से यह क्षेत्र भी प्रदूषण से परेशान है। एक्सपर्ट विवेक चट्टोपाध्याय कहते हैं कि आनंद विहार तो गैस चैंबर बन चुका है। यहां स्वस्थ लोगों को भी सांस संबंधी परेशानियां हो रही हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक गाजियाबाद में AQI 377, ग्रेटर नोएडा में 490, फरीदाबाद में 449 और गुरुग्राम में 392 दर्ज किया गया है। AQI शून्य से 50 के बीच अच्छा, 51 से 100 के बीच संतोषजनक, 101 से 200 के बीच मध्यम, 201 से 300 के बीच खराब, 301 से 400 के बीच बहुत खराब और 401 के पार गंभीर माना जाता है। 500 पर जाने का मतलब है 25 से 30 सिगरेट के धुयें के बीच सांस लेना।

Related posts

साइबर अपराधों को हल करने के लिए फोरेंसिक लैब चालू

admin

कैंसर जागरूकता अभियान चलाया डाॅ. ममता ठाकुर ने

admin

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में नसबंदी के बाद 8 महिलाओं की मौत, चार अधिकारी निलंबित

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment