स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY

हेल्थ सेक्टर में समर्पित लोगों-संस्थानों को किया गया सम्मानित

नयी दिल्ली/भोपाल (स्वस्थ भारत मीडिया)। भोपाल में संपन्न स्वास्थ्य संसद के समापन सत्र में हेल्थ सेक्टर में समर्पण भाव से काम करने वाले तीन संस्थानों को सुशीला नायर स्वस्थ भारत उत्कृष्टता सम्मान से नवाजा गया। इसके अलावा स्वस्थ भारत सारथी सम्मान और स्वस्थ भारत नारी शक्ति सम्मान भी वितरित किया गया।
सुशीला नायर स्वस्थ भारत उत्कृष्टता सम्मान-2023 के लिए पहला नाम रहा कोल्हापुर के कनेरी स्थित सिद्धगिरी हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर का। 17 एकड़ में फैले इस सेंटर में इलाज की अंतरराष्ट्रीय स्तर की सभी सुविधायें हैं। इसका लाभ वंचित तथा कमजोर वर्ग के लोगों को मुफ्त या कम-से-कम खर्च में दिया जाता है। इसकी स्थापना 12 साल पहले हुई थी।
यह सम्मान पाने वाला दूसरा संस्थान है उज्जैन स्थित अंकितग्राम सेवाधाम आश्रम। यह एक स्वैच्छिक संगठन है जो जनता के समर्थन से देश भर से आने वाले परित्यक्त, उपेक्षित, वृद्ध, विकलांग, मानसिक बीमार, मरणासन्न और निराश्रित लोगों के लिए आश्रय और पुनर्वास केंद्र है। बाबा आम्टे और विनोवा भावे की प्रेरणा से सुरेश भाई गोयल इसका संचालन कर रहे हैं।
तीसरा संस्थान है भोपाल का महर्षि वैदिक हेल्थ सेंटर। रोगमुक्त समाज के निर्माण के संकल्प के साथ यहां आयुर्वेद और वैदिक उपायों से उपचार किया जाता है। यह वैदिक स्वास्थ्य जागरूकता पाठ्यक्रम भी प्रदान करता है।
ज्ञात हो कि 2022 में सुशीला नायर स्वस्थ भारत उत्कृष्टता सम्मान के लिए कर्नाटक के घटप्रभा स्थित कर्नाटक हेल्थ इंस्टीट्यूट, वर्धा के कस्तूरबा हेल्थ सोसाइटी, जबलपुर के विराट हॉस्पिस का चयन हुआ था। 1929 से कार्यरत कनार्टक हेल्थ इंस्टीच्युट ग्रामीण आबादी को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा देने के साथ-साथ लड़कियों को मुफ्त नर्सिंग शिक्षा के साथ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में कई प्रोजेक्ट चलाये जा रहे हैं।
कस्तूरबा हेल्थ सोसाइटी बापू के करीबी डॉ. सुशीला नायर के प्रयास से 1945 में स्थापित हुआ था। यहां भी मुख्य रूप से वंचित ग्रामीण समुदायों को सुलभ और सस्ती स्वास्थ्य देखभाल की जाती है।
जबलपुर में स्वामी ज्ञानेश्वरी दीदी ने विराट हॉस्पिस की स्थापना की थी जहां उन मरणासन्न कैंसर रोगियों की सेवा की जाती है जिन्हें डॉक्टर ने इलाज करने और परिजनों ने घर में रखकर संभालने से इनकार कर दिया है। इसकी स्थापना 2013 में हुई थी।
माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय को कोरोना काल के दौरान स्वास्थ्य क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य एवं योगदान के लिए स्वस्थ भारत उत्कृष्टता सम्मान-2023 (विशेष रेखांकन) प्रदान किया गया। विश्वविद्यालय की ओर से कुलसचिव डॉ. अविनाश वाजपेयी ने यह सम्मान ग्रहण किया। उन्होंने इस उपलब्धि का श्रेय कुलपति प्रो. केजी सुरेश के नवाचारों और उनके प्रयासों को देते हुए कहा कि कोरोना काल में हमारे विद्यार्थियों ने दो दिन में 200 से ज्यादा जागरुकता के वीडियो बनाकर इस संबंध में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

इसी तरह नारी सशक्तिकरण सम्मान अपर्णा कपूरिया, डॉ. शताक्षी प्रेमसन, प्रियंका सिंह, अपर्णा संत सिंह, डॉ. मंजुला जगतरामका, डॉ. जुही गुप्ता, फौज़िया ज़ेड. हक़, श्रीमती लीना सिंह और सबिता ठाकुर को दिया गया।
स्वस्थ भारत सारथी सम्मान डॉ. अभिजीत देशमुख, श्री ऋतेश पाठक, श्री शेखर अस्तित्व, डॉ. सागर, श्रीमती सुमिता दत्ता, श्री मिहिर झा, श्री ऋतेश सिन्हा, श्रीमती शुभ्रा सिंह, डॉ. दिलीप मिश्रा, जयवर्धन जोशी तथा श्री अनुपम चौकसे को दिया गया।

Related posts

आशा, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी आयुष्मान कवर

admin

Encephalitis means inflammation of Brain

दांव पर चिकित्सकों की साख!

Leave a Comment