स्वस्थ भारत मीडिया
मन की बात / Mind Matter समाचार / News

स्वदेशी अनुसंधान को आगे बढ़ाने के लिए आत्मविश्वास जगायें: स्वास्थ्य मंत्री

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने यहां राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान अकादमी (NAMS) के 62वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में कहा कि स्वदेशी अनुसंधान को आगे बढ़ाने को लेकर आत्मविश्वास जगाकर रखना होगा।

अकादमी की सराहना

डॉ. मांडविया ने भारत के कल्याण में सकारात्मक योगदान के लिए इस अकादमी की सराहना की। उन्होंने आगे रेखांकित किया कि इस राष्ट्र में कभी भी जनशक्ति या मस्तिष्क शक्ति की कमी नहीं थी। हमें केवल आत्मविश्वासी होना है। स्वास्थ्य मंत्री ने आत्मविश्वास बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने आगे कहा कि इस समय की जरूरत है कि आयुर्वेद, योग जैसी अपनी स्वदेशी चिकित्सा प्रणालियों को आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों के साथ एकीकृत किया जाए। अनुसंधान और नवाचार पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए।

कोविड काल में भारत की महती भूमिका

उन्होंने कोविड महामारी के दौरान भारत की स्वास्थ्य सुविधाओं में हुई प्रगति का उल्लेख किया। मंत्री ने कहा कि हमने न केवल कोविड-19 टीके को विकसित किया, बल्कि बहुत कम समय में उनका निर्माण और निर्यात भी किया। भारत की कोविड प्रबंधन रणनीति को लेकर डराने वाले अनुमान लगाए गए थे, लेकिन हम न केवल महामारी को अच्छी तरह से प्रबंधित करने में सक्षम हुए, बल्कि वैश्विक स्तर पर अपनी सर्वश्रेष्ठ अभ्यासों को भी साझा किया। डॉ. मांडविया ने अनुसंधान व नवाचार में अकादमी और शोधकर्ताओं को निजी क्षेत्र के साथ सहभागिता करने के लिए प्रोत्साहित किया।

पुस्तक का विमोचन भी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने इस मौके पर ‘‘एनएएमएस की यात्रा‘‘ पुस्तक का विमोचन किया और उपस्थित शिक्षाविदों और संघों के अध्यक्षों को सम्मानित किया। इस अवसर पर एनएएमएस के अध्यक्ष डॉ. एस के सरीन, एनएएमएस के उपाध्यक्ष डॉ. आर दयाल, एनएएमएस के पूर्व अध्यक्ष डॉ. एस. सी. गोपाल भी उपस्थित थे।

 

Related posts

भारत फार्मास्युटिकल और चिकित्सा उपकरण सम्मेलन 25 से

admin

ABDM को अपनाने में तेजी लाने के लिए NHA की कार्यशाला आयोजित

admin

कोविड-19: मीडिया कर्मियों की छटनी और वेतन कटौती पर केंद्रीय श्रम मंत्रालय से दखल का अनुरोध

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment