स्वस्थ भारत मीडिया
विज्ञान और तकनीक / Sci and Tech

ट्यूमर का पता लगाने के लिए नया मशीन लर्निंग उपकरण विकसित

नयी दिल्ली। Glioblastoma मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में आक्रामक रूप से बढऩे वाला ट्यूमर है। IIT मद्रास के शोधकर्ताओं ने मशीन लर्निंग-आधारित नया कम्प्यूटेशनल उपकरण विकसित किया है, जो मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में कैंसर पैदा करने वाले ट्यूमर का सटीक रूप से पता लगा सकता है।
प्रारंभिक निदान के बाद दो साल से भी कम समय तक जीवित रहने की संभावित दर और सीमित चिकित्सीय विकल्प वाले इस ट्यूमर को समझने के लिए अन्य कई शोध हुए हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि चिकित्सीय विकल्पों में सुधार के लिए ग्लियोब्लास्टोमा में शामिल प्रोटीन रूपों के कार्यात्मक परिणामों का मूल्यांकन महत्वपूर्ण हो सकता है। विभिन्न प्रोटीन रूपों में ड्राइवर (रोगजनक) म्यूटेशन की पहचान के लिए कार्यात्मक परीक्षण कारगर हो सकते हैं।
नए कम्प्यूटेशनल उपकरण जीबीएम ड्राइवर (ग्लियोब्लास्टोमाम्यूटीफार्म ड्राइवर्स) को विशेष रूप से glioblastoma में ड्राइवर म्यूटेशन और पैसेंजर म्यूटेशन (पैसेंजर म्यूटेशन तटस्थ म्यूटेशन होते हैं) की पहचान के लिए विकसित किया गया है। जीबीएम ड्राइवर एक प्रमुख विशेषता यह भी है कि इसको ऑनलाइन देखा जा सकता है। इस वेब सर्वर को विकसित करने के लिए अमीनो एसिड गुणों, द्वि-पेप्टाइड और त्रि-पेप्टाइड रूपांकनों, संरक्षण स्कोर और विशिष्ट स्कोरिंग मैट्रिक्स जैसे कई कारकों को केंद्र में रखा गया है।
इस अध्ययन में glioblastoma में 9,386 ड्राइवर म्यूटेशन और 8,728 पैसेंजर म्यूटेशन का विश्लेषण किया गया है।Glioblastoma में ड्राइवर म्यूटेशन की पहचान 1,809 म्यूटेंट के ब्लाइंड सेट में 81.99 प्रतिशत की सटीकता के साथ की गई है, जिसे मौजूदा कम्प्यूटेशनल तरीकों से बेहतर बताया जा रहा है। यह विधि पूरी तरह से प्रोटीन अनुक्रम पर आधारित है।
आईआईटी मद्रास के बायोटेक्नोलॉजी विभाग के शोधकर्ता प्रोफेसर एम. माइकल ग्रोमिहा बताते हैं-इस अध्ययन में कैंसर पैदा करने वाले रूपांतरणों की पहचान के लिए महत्वपूर्ण अमीनो एसिड विशेषताओं को आधार बनाया गया है। ड्राइवर तथा तटस्थ म्यूटेशन के बीच अंतर करने के लिए उच्चतम सटीकता प्राप्त करने में भी शोधकर्ताओं को सफलता मिली है।
शोधकर्ताओं का कहना है कि यह उपकरण glioblastoma में ड्राइवर म्यूटेशन का पता लगा सकता है और संभावित चिकित्सीय लक्ष्यों की पहचान में सहायता कर सकता है। इस प्रकार यह उपकरण दवा डिजाइन से रणनीतियों को विकसित करने में भी मददगार हो सकता है।
प्रोफेसर ग्रोमिहा के अलावा पीएचडी छात्रा मेधा पाँडेय और IIT मद्रास के दो पूर्व छात्र-डॉ पी. अनुषा और डॉ धनुषा येशुदास शामिल हैं। यह अध्ययन शोध पत्रिका ब्रीफिंग्स इन बायोइन्फोर्मेटिक्स में प्रकाशित किया गया है।

इंडिया साइंस वायर से साभार

Related posts

पुरातन चट्टानों के झरोखे से पृथ्वी के अतीत में झाँकने की कोशिश

admin

ग्रीन हाइड्रोजन प्राप्त करने के लिए नया उत्प्रेरक

admin

मेघालय में मिली मेंढक की नई प्रजाति

admin

Leave a Comment