स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

OMG….एक हफ्ते में सौ से ज्यादा मिनी स्ट्रोक !

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। 65 साल के एक बुजुर्ग को एक हफ्ते में सौ से ज्यादा बार मिनी स्ट्रोक का झटका लगा। दिल्ली के BLK मैक्स अस्पताल लाने पर पता चला कि ब्रेन में दाहिनी इंटरनल कैरोटिड आर्टिलरी में ब्लॉकेज मिला। इसे खोलने के लिए इंट्राक्रैनियल स्टेंटिंग का इस्तेमाल किया गया। यह नस ब्रेन से गले की तरफ आती है। डॉक्टरों ने बताया कि स्मोकिंग के कारण मरीज की खून की नस सिकुड़ गई थीं। खून की सप्लाई दाईं तरफ केवल 90 फीसद हो रही थी और बाईं तरफ पूरा ब्लॉक हो गया था। उन्हें कई महीनों से परेषानी हो रही थी पर मामला पकड़ में नहीं आ रहा था।

कैंसरयुक्त हड्डी का सफल ट्रांसप्लांट

एम्स बिलासपुर में डॉक्टरों ने हड्डी के कैंसर के मरीज की जटिल सर्जरी सफलतापूर्वक की है। सर्जरी छह घंटे तक चली। बुजुर्ग महिला करीब पांच साल से दाहिनी टांग की हड्डी के बार-बार होने वाले कैंसर से पीड़ित थी। इस सर्जरी में डॉक्टरों ने कैंसर ग्रस्त हड्डी को निकालकर वहां पर कृत्रिम हड्डी को लगाया। मरीज अब चल सकती है और अपने दाहिने पैर पर वजन सहन कर सकती है जो असंभव हो गया था।

बंगलुरु की सब्जियां सेहत के लिए नुकसानदेह

बंगलुरु में मिलने वाली हरी सब्जियां सेहत के लिए खतरनाक पायी गयी है। एनवायरमेंटल मैनेजमेंट एंड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (EMPRI) के शोधकर्ताओं ने यहां के 20 स्टोरों से 10 सब्जियों के 400 नमूने लेकर जांच की थी। कारण यह बताया गया कि सब्जियां उगाने के लिए गंदा पानी के इस्तेमाल से उनमें भारी धातुओं की मात्रा अधिक हो गई है। शोधकर्ताओं ने नमूनों में खाद्य और कृषि संगठन (FAO) द्वारा निर्धारित अनुमान सीमा से ज्यादा प्रदूषित पाया। टीम ने बैंगन, टमाटर, शिमला मिर्च, सेम, गाजर, हरी मिर्च, प्याज, आलू, पालक और धनिया आदि के नमूनों की जांच की थी।

Related posts

अब विज्ञान के क्षेत्र में भी मिलेगा राष्ट्रीय पुरस्कार

admin

कोरोना से global pandemic का ठप्पा हटा

admin

…तो फार्मासिस्टों पर लाठीचार्ज की तैयारी थी।

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment