स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

देश में डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम के निर्माण की तैयारी

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) ने सभी इच्छुक पार्टियों को रुचि की अभिव्यक्ति (EOI) साझा करने के लिए खुले रूप में आमंत्रित किया है, जो भारत के लिए एक राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम के निर्माण में सहायता करेगा। एनएचए, आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) के लिए एक कार्यान्वयन एजेंसी है।

ऑनलाइन मंच का निर्माण

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) का उद्देश्य एक सहज ऑनलाइन मंच का निर्माण करना है, जो डिजिटल स्वास्थ्य देखभाल इकोसिस्टम के तहत अंतर-संचालनीयता को सक्षम करेगा। इस मिशन की अवधारणा ‘डिजिटल बिल्डिंग ब्लॉक्स‘ के एक सेट के रूप में की गई है। हर एक बिल्डिंग ब्लॉक को ‘डिजिटल पब्लिक गुड्स‘ के रूप में देखा जाता है। इसका उपयोग डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम में किसी भी इकाई के माध्यम से किया जा सकता है और एबीडीएम की सोच को सक्षम करने वाली प्रमुख क्षमताएं प्रदान करता है।

एकजुट कठिन परिश्रम की जरूरत

एनएचए के सीईओ डॉ. आर. एस. शर्मा ने इसके पीछे के विचार को साझा करते हुए कहा-एबीडीएम डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम में खुले और अंतःक्रियाशील मानकों को प्रोत्साहन देने का प्रयास करता है। इस तरह के उपक्रम से न केवल भारत में सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज लक्ष्यों में तेजी आएगी बल्कि, वैश्विक स्वास्थ्य वातावरण पर भी इसका प्रभाव पड़ेगा। हालांकि, इस तरह की महत्वाकांक्षा के लिए सभी को एकजुट होकर कठिन परिश्रम करने की जरूरत होती है। इस संबंध में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण सभी इच्छुक पार्टियों को एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस (यूएचआई), स्वास्थ्य दावा प्रोटोकॉल (एचसीपी) और डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम का विस्तार करने के लिए बनाए जा रहे विभिन्न अन्य ओपन-सोर्स डिजिटल पब्लिक गुड्स में योगदान करने के लिए खुले रूप से आमंत्रित कर रहा है। एबीडीएम के प्रमुख बिल्डिंग ब्लॉक हैं -एबीएचए, स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर पंजीकरण (हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री, एचपीआर), स्वास्थ्य सुविधा पंजीकरण (हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री, एचएफआर) और स्वास्थ्य सूचना विनिमय और सहमति प्रबंधनक( हेल्थ इंफॉर्मेशन एक्सचेंज व कंसेंट मैनेजर, एचआईई -सीएम)।

जानकारी यहां मिलेगी

इन बिल्डिंग ब्लॉक्स को प्रतिभागी संस्थाओं (स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता, रोगी और स्वास्थ्य पेशेवरों) की पहचान को सक्षम करने और रोगी की सहमति से स्वास्थ्य डेटा के आदान-प्रदान को सक्षम करने के लिए डिजाइन किया गया है। यह विकसित डिजिटल इकोसिस्टम अब एकीकरण के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं और स्वास्थ्य तकनीकी विशेषज्ञों के लिए सुलभ है। अभी एबीडीएम की पंजीयनों के साथ 800 से अधिक प्रतिभागी एकीकृत हैं और एचआईई-सीएम के माध्यम से स्वास्थ्य डेटा विनिमय को सक्षम करते हैं। एबीडीएम इकोसिस्टम के साथ जुड़ने और एकीकृत करने के बारे में अधिक जानकारी एबीडीएम सैंडबॉक्स पोर्टल: ीजजचेध्ध्ेंदकइवगण्ंइकउण्हवअण्पदध् पर उपलब्ध है। राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम के विकास में योगदान देने के लिए इच्छुक पार्टियों के पास कोई अन्य विचार होने पर वे विशिष्ट प्रस्ताव के साथ पहुंच सकते हैं। इस बारे में अधिक जानकारी यहां उपलब्ध है : https://abdm।gov।in/assets/uploads/eoi_docs/Open_Call_for_Expression_of_Interest_(EoI)_vF.pdf

इसके लिए अपनी रूचि की सूचना abdm@nha.gov.in पर ईमेल के माध्यम से दी जा सकती है।

Related posts

एसिड अटैक पीड़िता पूजा के मामले में हरकत में आई हरियाणा सरकार, न्याय की आस बढ़ी!

Ashutosh Kumar Singh

कोरोना-वार या बायोलॉजिकल वार

Ashutosh Kumar Singh

जी हां, कोविड-19 योद्धा ऐसे होते हैं…

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment