स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

डायबिटीज, इन्फेक्शन जैसी बीमारियों की 41 दवाओं के घटेंगे दाम

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। सरकार ने हार्ट, लिवर जैसी कई बीमारियों के इलाज में काम आने वाली दवाओं के दाम में कटौती करने का फैसला लिया है। इसके लिए सरकार ने 41 दवाओं और 6 फॉर्मूलेशन के रेट तय किए हैं, जिनमें शुगर, दर्द, हार्ट, लिवर, इन्फेक्शन, एलर्जी, मल्टीविटामिन, एंटासिड, एंटीबायोटिक्स समेत 41 दवाएं शामिल हैं। NPPA की बैठक की 143वीं बैठक में यह फैसला लिया गया है। कंपनियों को तत्काल प्रभाव से डीलर्स, स्टॉकिस्ट को इस बारे में जानकारी देने के निर्देश दिए गए हैं।

17.5 करोड़ में एक इंजेक्शन

स्पाइनल मस्कुलर बीमारी से पीड़ित हृदयांश नामक एक मासूम को दुनिया का सबसे महंगा इंजेक्शन लग गया जिसकी कीमत 17.5 करोड़ है। इसे अमेरिका से मंगाया गया था। उसे बचाने के लिए बड़े स्तर पर मुहिम चलाई गई थी। वह स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉपी से पीड़ित था। अब तक इस इंजेक्शन से दुनिया में 3500 बच्चों की जान बचाई जा चुकी है।

Covaxin से साइड इफेक्ट्स का दावा

कोविशील्ड के बाद अब भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन covaxin के भी साइड इफेक्ट का पता चला है। साइंस जर्नल स्प्रिंगरलिंक में छपी रिपोर्ट के मुताबिक बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में हुई स्टडी में यह बात सामने आयी है। कोवैक्सीन लेने वाले लोगों में सांस संबंधी इन्फेक्शन, ब्लड क्लॉटिंग और स्किन से जुड़ी बीमारियां मिली। किशोरियों और एलर्जी का सामना कर रहे लोगों तो इससे खास खतरा है। स्टडी में उन लोगों का डेटा कलेक्ट किया गया जिन्हें वैक्सीन लगे एक साल हो गया था। 1,024 लोगों पर स्टडी हुई। इनमें से 635 किशोर और 291 वयस्क शामिल थे। स्टडी में 304 (47.9 फीसद) किशोरों और 124 (42.6 फीसद) वयस्कों में सांस संबंधी इन्फेक्शन मिले।

झारखंड के दवा दुकानदार भी कर सकेंगे प्राथमिक उपचार

झारखंड के दवा दुकानदार भी लोगों का प्राथमिक उपचार कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें फर्स्ट एड स्पेशलिस्ट और पब्लिक हेल्थ का कोर्स करना होगा। ये दोनों कोर्स मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा संचालित है। फर्स्ट एड स्पेशलिस्ट और पब्लिक हेल्थ का कोर्स एक साल का है। कोर्स करने के बाद क्लीनिक खोलने के लिए भी अधिकृत हो सकते हैं या फार्मासिस्ट का भी एक विकल्प हो सकता है।

Related posts

देश में रोज बढ़ रहे कोरोना के मरीज,  दुनिया में 52 फीसद बढ़े 

admin

संक्रमण से सावधानी को लेकर बिहार में नयी गाइडलाइन

admin

कोविड-19 का सकारात्मक पर्यावरणीय प्रभाव

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment