स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

ABDM के तहत अब शीघ्र ओपीडी पंजीकरण संभव

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। दिल्ली-एनसीआर वालों के लिए अच्छी पहल। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) अपनी प्रमुख योजना आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (ABDM) के तहत दिल्ली स्थित लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज (LHMC) और श्रीमती सुचेता कृपलानी अस्पताल (SSKH) के नए ओपीडी ब्लॉक में शीघ्र ओपीडी पंजीकरण सेवा के लिए एक प्रायोगिक सेवा शुरू कर रहा है। यह सेवा पुराने और साथ ही नए रोगियों को केवल एक क्यूआर कोड को स्कैन करने और अस्पताल के साथ अपने विवरण जैसे नाम, पिता का नाम, आयु, लिंग, पता और मोबाइल नंबर आदि साझा करने की अनुमति देती है।

मोबाइल के सहारे काम

यह ओपीडी पंजीकरण काउंटर पर लगने वाले समय को कम करने में सहायता करने के साथ अस्पताल के रिकॉर्ड में सटीक डेटा प्रदान करती है। इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इससे लंबी कतारों में प्रतीक्षा करने से बचने की सुविधा देती है। इस सेवा को जल्द ही अन्य स्वास्थ्य केंद्रों और विभागों में भी लागू करने की योजना है। क्यूआर कोड आधारित ओपीडी पंजीकरण सेवा रोगियों को अपने मोबाइल फोन अस्पताल के यूनिक क्यूआर कोड को स्कैन करने और अस्पताल के साथ अपने प्रोफाइल विवरण साझा करने की अनुमति देती है। एक बार प्रोफाइल साझा करने के बाद अस्पताल एक टोकन नंबर देता है। यह टोकन रोगी के चयनित एप को एक अधिसूचना के रूप में भेजा जाता है और रोगियों की आसानी के लिए ओपीडी पंजीकरण काउंटरों पर प्रदर्शित स्क्रीन पर भी दिखाया जाता है। अपने टोकन संख्या के अनुसार रोगी पंजीकरण काउंटर पर जा सकते हैं और सीधे डॉक्टर से परामर्श के लिए अपनी ओपी स्लिप प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि उनका विवरण पंजीकरण काउंटर पर पहले से उपलब्ध है।

अधिक कुशल होगी स्वास्थ्य सेवा

NHA के CEO डॉ. आर.एस. शर्मा ने कहा कि एबीडीएम के तहत हम प्रक्रियाओं को सरल बनाने और स्वास्थ्य सेवा को और अधिक कुशल बनाने के लिए तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। क्यूआर कोड आधारित त्वरित ओपीडी पंजीकरण सेवा इसी दिशा में उठाया गया एक कदम है। इसने एलएचएमसी और एसएसकेएच में इस प्रायोगिक सेवा के शुरू होने के 15 दिनों के भीतर पंजीकरण काउंटर पर काफी कम प्रतीक्षा समय और न्यूनतम समय के साथ 2200 से अधिक रोगियों को लंबी कतारों की भीड़ से बचने में सहायता की है। इसके अलावा प्रत्यक्ष प्रोफाइल साझा करने से उच्च स्तर की सटीकता प्राप्त करने में भी सहायता की है।

समय बचेगा रोगियों का

ABDM की टीम ने अपने ओपीडी ब्लॉक के लिए क्यूआर कोड आधारित त्वरित पंजीकरण सेवा शुरू करने के लिए LHMC/SSKH की टीम के साथ मिलकर काम किया है। रोगियों के लिए प्रतीक्षा समय को काफी कम करने के लिए उचित संदेश और कियोस्क लगाए गए। इसके अलावा रोगियों की सहायता के लिए इस सेवा का उपयोग करने और लाभों को समझने में सहायता करने को लेकर सहायक कर्मियों को भी तैनात किया गया। टीम ने रोगियों को अपना आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता या आभा नंबर बनाने में भी सहायता की।

Related posts

उन्नत वैक्सीन बनाने के लिए सिडनी से समझौता

admin

भारत में मिला मंकीपॉक्स का मरीज, 73 देशों में फैली बीमारी

admin

2030 तक हैजा समाप्त करने का लक्ष्य : डॉं. भारती

admin

Leave a Comment