स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

पांच दिन के बच्चे के अंग से 6 जिंदगी आबाद

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। सूरत में 5 दिन के बच्चे ने 6 लोगों की जान बचाई है। जन्म के 111 घंटों के अंदर अंगदान करने वाला भारत का पहला और दुनिया का दूसरा बच्चा है। दादी-नानी और मां ने बच्चे के अंगदान का फैसला लेकर समाज के सामने एक मिसाल कायम की है। बच्चे की मौत के बाद उसकी दो किडनी, दो आंखें, प्लीहा और लीवर का दान कर दिया गया है।

13 अक्टूबर को हुआ था जन्म

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सूरत में रहने वाले हर्षभाई और चेतनाबेन संघानी के घर 13 अक्टूबर को डॉ. संजय पीपलवा के कलरव हॉस्पिटल में बेटे का जन्म हुआ था। जन्म के बाद बच्चा न तो हिला न ही रोया। जैसे ही उसकी जांच की गई तो उसे केयर चिल्ड्रेन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां बच्चे को वेंटिलेटर पर रखा गया। 5 दिन बाद डॉ. हिमांशु पंसुरिया (न्यूरो), डॉ. रयेश शाह (न्यूरो), डॉ. अतुल शेल्डिया (बाल रोग विशेषज्ञ) ने बच्चे की जांच की और उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। भारी मन से परिवार ने बच्चे के अंगदान करने के लिए जीवनदीप अंगदान फाउंडेशन के पीएम गोंडलिया और विपुल पोंडिया से संपर्क किया। बच्चे के मां-पिता और करीबी रिष्तेदारों ने अंगदान का निर्णय लिया। इसके बाद बच्चे को अंग दान के लिए पीपी सवानी अस्पताल में ट्रांसफर कर दिया गया।

6 बच्चों को मिला जिंदगी का तोहफा

IKDRC की मदद से बच्चे की दो किडनी, दो आंखें, प्लीहा और लीवर का दान कर दिया गया। बच्चे के ये सभी अंगों को 6 छोटे बच्चों में प्रत्यारोपित किया जा रहा है। किडनी और प्लीहा दोनों IKDRC अहमदाबाद, लीवर दिल्ली ILDS अस्पताल और आंख लोकदर्शी चक्षुबैंक, सूरत को दान किए गए।

Related posts

बिहारःस्वास्थ्य व्यवस्था का मैला होता आंचल

बजट में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के आवंटन में वृद्धि

admin

‘स्वस्थ भारत अभियान’ के ब्रांड एम्बेसडर बने एवरेस्टर नरिन्दर सिंह

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment