स्वस्थ भारत मीडिया
Uncategorized

डाबर के प्रोडक्ट पर विदेशों में सैकड़ों मामले दर्ज

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। भारतीय कंपनी डाबर इंडिया की सहायक कंपनियांे पर अमेरिका और कनाडा में ग्राहकों द्वारा मुकदमा चल रहा है। आरोप है कि हेयर उत्पादों के उपयोग से डिम्बग्रंथि कैंसर, गर्भाशय कैंसर और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हुई हैं। नमस्ते लेबोरेटरीज, डर्माेविवा स्किन एसेंशियल्स और डाबर इंटरनेशनल सहित कई कंपनियों पर पांच हजार से अधिक मामले है। हालांकि कंपनी ने कहा है कि आरोप अप्रमाणित और अधूरे अध्ययन पर आधारित हैं।

प्रदूषण से भी डायबिटीज का खतरा

दिल्ली एम्स की स्टडी बता रही है कि प्रदूषण के कारण अस्थमा, हार्ट की बीमारी या कैंसर के अलावा डायबिटीज का भी खतरा है। यह दावा दिल्ली और चेन्नई में की गई स्टडी के आधार पर किया गया है। राजधानी दिल्ली में हवा अभी से खराब श्रेणी में जा चुकी है लिहाजा बीमारियों का खतरा ज्यादा है। जाड़े का मौसम सिर पर है और कई कारणों से इस मौसम में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ जाता है।

मधुमेह के लिए निश्चित खुराक वाली दवा पेश

एक दवा कंपनी ने मधुमेह के इलाज के लिए तीन निश्चित खुराकों (FDC) वाली एक दवा पेश की है। कंपनी ने कहा कि जिटा ब्रांड नाम वाली इस दवा में टेनेलिग्लिप्टिन, डेपाग्लिफ्लोजिन और मेटफॉर्मिन का संयोजन किया गया है। उसका दावा है कि यह दवा टाइप-2 मधुमेह रोगियों में ग्लाइसेमिक को नियंत्रण में रखने में मदद करेगी। इस दवा की कीमत 14 रुपये प्रति टैबलेट (प्रति दिन) है। इससे मधुमेह रोगियों के लिए इलाज की दैनिक लागत 30 प्रतिशत तक कमी आने का दावा किया गया है।

Related posts

जागरूकता अभियान

Ashutosh Kumar Singh

Dissertation appendix – Companies that help with college essay writing

Ashutosh Kumar Singh

हिमाचल में  Muscular Dystrophy के उपचार का काम सराहनीय

admin

Leave a Comment