स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

भारत की बड़ी आबादी हाइपरटेंशन का शिकार, WHO चिंतित

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। हाइपरटेंशन अथवा हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों की संख्या समय के साथ भारत में बढ़ती जा रही है। इस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की हालिया रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली है। इसके मुताबिक जून 2023 तक 27 राज्यों में लगभग 5.8 मिलियन (58 लाख) से अधिक हाई ब्लड प्रेशर वाले रोगियों का इलाज इंडियन हाइपरटेंशन कंट्रोल इनेसिएटिव (ISCI) के तहत किया जा रहा था। इस रिपोर्ट में दवाओं की उपलब्धता को लेकर भी चिंता जाहिर की गई है।

दवाओं की उपलब्धता बड़ी चिंता

ISCI नॉन कम्युनिकेबल डिजीज के कारण समय से पहले मृत्यु दर को 25 प्रतिशत तक कम करने के सरकार के लक्ष्य पर 2017 से ही काम कर रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 27 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में हाई ब्लड प्रेशर की रोकथाम के लिए एक मानक उपचार प्रोटोकॉल विकसित किया गया है। लेकिन दवाओं की उपलब्धता सबसे बड़ी चुनौती बनकर उभरी है। बड़े संख्या में ऐसे भी लोग हैं जो हाई ब्लड प्रेशर के शिकार तो हैं पर उनमें इस समस्या का निदान ही नहीं हो पाया है।

वयस्कों मे समस्या ज्यादा

रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि यदि उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोग इसको नियंत्रित करने के लिए उपाय कर लें तो 2040 तक भारत में कम से कम 4.6 मिलियन मौतों को रोका जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक देश में 18.83 करोड़ लोग हाई ब्लड प्रेशर के साथ जी रहे हैं, लेकिन इनमें से केवल 37 फीसद को ही अपनी स्थिति के बारे में पता है। वैश्विक आबादी का अनुमानित 33 फीसद हिस्सा इसका शिकार है जिनमें केवल 50-55 फीसद को ही निदान प्राप्त हुआ है।

Related posts

कोविड-19 से निपटने में महत्वपूर्ण हो सकता है आनुवांशिक अनुक्रमण

Ashutosh Kumar Singh

जनऔषधि केन्द्र खोलने वालों को 15 हजार रुपये तक मासिक इंसेटिव

admin

स्वास्थ्य सेवा के लिए व्यापक और एकीकृत पहुंच की जरूरत : धनखड़

admin

Leave a Comment