स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

अब विज्ञान के क्षेत्र में भी मिलेगा राष्ट्रीय पुरस्कार

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। भारत सरकार ने विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कारों की एक श्रेणी राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार की बनायी है। राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार (RVP) का उद्देश्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी और प्रौद्योगिकी आधारित नवाचार के विभिन्न क्षेत्रों में वैज्ञानिकों, प्रौद्योगिकीविदों और अन्वेषकों द्वारा व्यक्तिगत रूप से या टीमों में किए गए उल्लेखनीय योगदान को मान्यता देना है।

ये होंगी पुरस्कार की श्रेणियां

जानकारी के अनुसार यह भारत में विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के क्षेत्र में सर्वाेच्च पुरस्कारों में से एक होगा। सरकारी या निजी क्षेत्र में किसी भी अनुसंधान को इसमें जगह मिल सकेगी। विदेश में रहकर भारतीय समुदायों या समाज को लाभ पहुंचाने में असाधारण योगदान देने वाले भारतीय मूल के लोग भी पुरस्कार के पात्र होंगे। यह पुरस्कार चार श्रेणियों में दिए जाएंगे-
A. विज्ञान रत्न (VR) पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में की गई जीवन भर की उपलब्धियों और योगदान को मान्यता देगा।
B. विज्ञान श्री (VS) पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट योगदान को मान्यता देगा।
C. विज्ञान युवा-शांति स्वरूप भटनागर (VY-SSB) पुरस्कार 45 वर्ष की आयु तक के युवा वैज्ञानिकों को मान्यता देगा और प्रोत्साहित करेगा जिन्होंने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में असाधारण योगदान दिया है।
D. विज्ञान टीम (VT) पुरस्कार तीन या अधिक वैज्ञानिकों/शोधकर्ताओं/अन्वेषकों की एक टीम को दिया जाएगा, जिन्होंने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में एक टीम के रूप में काम करके असाधारण योगदान दिया हो।

13 क्षेत्रों में मिलेंगे पुरस्कार

राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार 13 क्षेत्रों अर्थात् भौतिकी, रसायन विज्ञान, जैविक विज्ञान, गणित और कंप्यूटर विज्ञान, पृथ्वी विज्ञान, चिकित्सा, इंजीनियरिंग साइंस, कृषि विज्ञान, पर्यावरण विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार, परमाणु ऊर्जा, अंतरिक्ष विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी और अन्य में प्रदान किया जाएगा। लैंगिक समानता सहित प्रत्येक कार्य-क्षेत्र से प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया जाएगा। इसके लिए प्राप्त सभी नामांकन राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार समिति (RVPC) के समक्ष रखे जाएंगे, जिसकी अध्यक्षता भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (PSA) करेंगे और इसमें विज्ञान विभागों के सचिव, विज्ञान एवं इंजीनियरिंग अकादमियों के सदस्य और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों के कुछ प्रतिष्ठित वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकीविद् शामिल होंगे। इन पुरस्कारों की घोषणा हर साल 11 मई (राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस) को की जाएगी और पुरस्कार वितरण समारोह 23 अगस्त (राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस) को आयोजित किया जाएगा।

Related posts

हर्पीस जूस्टर रोकने के लिए वैक्सीन तैयार

admin

डीएनए बिल-2019: अपराधियों की खैर नहीं…

TB वैक्सीन का भारत में क्लिनिकल ट्रायल शुरू

admin

Leave a Comment