स्वस्थ भारत मीडिया
आयुष / Aayush

आयुष अपार संभावनाओं से भरा क्षेत्र : पीएम

गोवा में खुला AIIA का सेटेलाइट सेंटर

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। आयुष सबके लिए अपार सम्भावनाओ का क्षेत्र है और इसमें सबके लिए अवसर है। गोवा खुद इंटरनेशनल टूरिज्म हब है लेकिन अब मेडिकल टूरिज्म हब बनने की अपार संभावनाएं है। वे गोवा में वर्ल्ड आयुर्वेदा कांग्रेस के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने गोवा की परनेम तालुका के धारगल गाँव में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (AIIA) के सेटेलाइट सेंटर का उद्घाटन भी 11 दिसंबर को किया। साथ ही दिल्ली के सेंटर का भी उद्घाटन हुआ।

दुनिया भर में मिसाल बनेगा संस्थान

उन्होंने कहा कि भारत की पारम्परिक चिकित्सा प्रणाली का विश्व भर में संचार करने के लिए आयुर्वेद एक सशक्त माध्यम है। पीएम ने रिसर्च की मदद से आयुष के असरदार परिणामों को प्रमाणित करने कि ज़रूरत पर बल देते हुए कहा कि यह रिसर्च भारत की प्राचीन पारम्परिक चिकित्सा प्रणाली को पूरे विश्व में एक मिसाल बनाने का काम करेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘भारत सर्वेभवन्तु सुखिना: सर्वे सन्तु निरामया’ यानी हर तरफ सुख और शांति और रोग मुक्ति की धारणा में विश्वास करने वाला देश है।

कोरोना काल में 100 रिकवरी रेट दिया संस्थान ने

केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल कहा कि अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान ने कोरोना काल में सौ फीसद रिकवरी रेट देकर एक इतिहास रच दिया है। संस्थान ने कई देशों के साथ वैश्विक स्तर के समझौते भी किये हैं जिससे आयुर्वेद का प्रचार-प्रसार अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हो। आने वाले समय में भारत पारम्परिक चिकित्सा के क्षेत्र में एक केंद्रीय भूमिका निभाएगा।

आयुर्वेद में शोध और डाटा पर ज़ोर

 

आल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ आयुर्वेद की डायरेक्टर (डॉ) प्रोफेसर तनुजा मनोज नेसरी ने कहा कि हम यह विश्वास दिलाना चाहेंगे कि आयुर्वेद नयी पीढ़ी के सुरक्षित हाथों में है और न सिर्फ प्रैक्टिस बेस्ड एविडेंस पर आधारित है बल्कि एविडेंस बेस्ड प्रैक्टिस पर भी सतत कार्य कर रहा है। उन्होंने आयुर्वेद को कॉमिक बुक्स के माध्यम से बढ़ावा देने की पहल की भी तारीफ की।

Related posts

आयुष डॉक्टरों के लिए बड़ी खबर, मिला कोरोना वायरस पर शोध का अधिकार

Ashutosh Kumar Singh

आयुर्वेद: जिसे दुनिया मान रही है और हम ठुकरा रहे हैं…

admin

कोविड-19 की हर्बल दवा पर शोध कर रहे हैं भारतीय वैज्ञानिक

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment