स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

डिजिटल हेल्थ इको-सिस्टम को मजबूत करने की कवायद

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) ने 13 मई को दिल्ली में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (ABDM) के प्रौद्योगिकी साझेदारों के लिए एक विशेष सम्मेलन का आयोजन किया। इसमें सरकारी और निजी क्षेत्र के 40 से अधिक हेल्थ टेक संगठनों के प्रतिनिधियों ने विभिन्न तरीकों से भारत के डिजिटल हेल्थ इको-सिस्टम को और मजबूत करने के बारे में चर्चा की।

प्रौद्योगिकी का लाभ उठाना होगा

NHA के CEO डॉ. आर.एस. शर्मा ने कहा-एबीडीएम का मुख्य उद्देश्य देश के दूर-दराज के क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाना है। बुनियादी ढांचे की कमी को दूर करने और डॉक्टरों तक पहुंच कायम करने के लिए ABDM ने स्वास्थ्य संबंधी सभी गतिविधियों को ऑनलाइन करने की परिकल्पना की है। इसके लिए यह जरूरी है कि हम ABDM द्वारा बनाई जा रही HPR, (हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री) और HFR (हेल्थ फैसिलिटीज रजिस्ट्री) की राष्ट्रीय रजिस्ट्रियों में स्वास्थ्य पेशेवरों और स्वास्थ्य सुविधाओं को शामिल करें। हेल्थ टेक साझेदार प्रकाशित ओपन API का उपयोग करके पेशेवरों और सुविधाओं को ऑनबोर्ड करने के लिए अपेक्षाकृत छोटे प्रयासों के बल पर अभिनव समाधान निकाल सकते हैं। वे अन्य छोटे साझेदारों को ADBM ऑनबोर्ड प्रक्रिया पर प्रशिक्षित कर सकते हैं और GFR-HPR में पंजीकरण के लाभों के बारे में जागरूकता फैला सकते हैं।”

साझेदार भी दें इनपुट

उन्होंने कहा, “हम हेल्थ टेक साझेदारों से भी इनपुट मांगते हैं कि कैसे हम डिजिटल पब्लिक गुड (DPG) के निर्माण, NIC द्वारा तैयार की गई ऑनलाइन आरक्षण प्रणाली (ORS), NIC-CDAC द्वारा ब्लड बैंक जैसे DPG के दायरे का विस्तार करने, व्यापक टीकाकरण, NOTTO और उन्हें अधिक संरचित और आसानी से अनुकूलनीय तरीके से अंतिम-उपयोगकर्ताओं तक ले जाने के लिए इको-सिस्टम को सक्रिय कर सकते हैं।”

सूचनाप्रद सत्र भी आयोजित

ABDM की टीम ने योजना के बारे में नवीनतम जानकारी, एबीडीएम के तहत आने वाली सुविधाओं और रास्ते में आने वाली चुनौतियों पर कुछ सूचनाप्रद सत्र आयोजित किए। प्रत्येक सत्र के बीच मंच को खुली चर्चा और प्रतिक्रिया सत्र के लिए खुला छोड़ दिया गया था। प्रतिभागियों ने अपने जमीनी अनुभव और बाजार की गहरी समझ के साथ-साथ उपयोगकर्ता के व्यवहार के आधार पर महत्वपूर्ण सीख और सुझाव साझा किए। NHA टीम ने ABDM के साथ एकीकृत 40 डिजिटल हेल्थ सॉल्यूशन के डेवलपर को प्रमाणपत्रों के साथ सम्मानित भी किया। ABDM के अपर CEO और मिशन निदेशक डॉ. प्रवीण गेदम ने कहा -चर्चा बहुत सार्थक थी। हमें रोगियों के साथ-साथ डॉक्टरों के ऑनबोर्डिंग में आने वाले तकनीकी मुद्दों पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली।

Related posts

एड्स की जानकारीः टोल फ्री न.1097 डायल करें!

Ashutosh Kumar Singh

लखनऊ: हाईकोर्ट के सामने सड़क पर बिकती रही दवा प्रशासन बेखबर

Ashutosh Kumar Singh

हावड़ा में गंगा किनारे के ग्राम पंचायतों में प्लास्टिक हटाने का अभियान

admin

Leave a Comment