स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

कुछ दुर्लभ और कठिन रोगों के उपचार में भी कारगर है होम्योपैथी

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (HMAI) दिल्ली स्टेट ब्रांच ने लंदन कॉलेज ऑफ होम्योपैथी (LCH), यूके के साथ होटल मेट्रोपॉलिटन कनॉट प्लेस, नई दिल्ली में विश्व होम्योपैथिक सप्ताह और होम्योपैथी के जनक डॉ सैमुअल हैनीमैन की 267वीं जयंती मनाई। अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त एवं प्रख्यात महानायक प्रो. डॉ.एस.एम.सिंह, निदेशक श्री साई नाथ होम्योपैथिक कॉलेज एवं अस्पताल, इलाहाबाद मुख्य अतिथि एवं वक्ता थे।

मीठी गोलियों का जादुई असर

इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में होम्योपैथिक डॉक्टरों ने भाग लिया और डॉ सिंह की एक बहुत ही आकर्षक जानकारीपूर्ण वार्ता से समृद्ध हुए जहां उन्होंने मामलों के वीडियो के साक्ष्य के साथ प्रस्तुत किए गए मामलों के साथ होम्योपैथी के जादुई प्रभावों को साझा किया। कुछ दुर्लभ मामले जैसे HIE (हाइपोक्सिक इस्केमिक एन्सेफैलोपैथी), जीबी सिंड्रोम, टेटनस का मामला जो जीवन के लिए खतरा थे, होम्योपैथी की मीठी जादुई गोलियों से ठीक हो गए। उन्होंने मास्टर्स के खूबसूरत किस्से सुनाए जो कई लोगों के लिए आंखें खोलने वाले थे। उपस्थित सभी लोग डॉ.एस.एम.सिंह के साथ लगभग मंत्रमुग्ध थे और अधिक से अधिक सुनना चाहते थे। डॉ. ए.के.गुप्ता, अध्यक्ष एचएमएआई, दिल्ली ने सारी जानकारी साझा की।

हर चिकित्सा प्रणाली का सम्मान हो

COVID के दौरान, पोस्ट COVID अनुभवों पर खुली चर्चा हुई। कई डॉक्टरों ने अपने व्यक्तिगत और पेशेवर अनुभव साझा किए। सबसे महत्वपूर्ण बिंदु पर सभी ने सहमति व्यक्त की कि सभी चिकित्सा प्रणालियों का सम्मान करना चाहिए। चूंकि हर प्रणाली में मरीजों के लिए कुछ न कुछ होता है और साथ ही इसकी सीमाएं भी होती हैं। यदि इन सभी बातों को समझ लिया जाए तो हमारे पास एकीकृत रूप में भी रोगियों के कल्याण के लिए प्रभावी उपचार का बेहतर विकल्प हो सकता है।

हैनीमैन जयंती पर कार्यक्रम

समारोह की शुरुआत डॉ. के.के.जुनेजा, चेयरमैन बोर्ड ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन, दिल्ली द्वारा डॉ. एस.एम.सिंह के गुलदस्ते के साथ हुई। उनका स्वागत एचएमएआई दिल्ली के अध्यक्ष डॉ. ए.के.गुप्ता ने किया। अध्यक्ष के स्वागत भाषण के बाद डॉ.एस.एम.सिंह, डॉ.के.के.जुनेजा, डॉ.ए.के.गुप्ता, डॉ.संदीप कैला, डॉ. नीरज पसरीचा, डॉ कमल पुरी, डॉ सौरव अरोड़ा, डॉ राजेश जुसल द्वारा दीप प्रज्ज्वलित किया गया। डॉ पूर्णिमा शुक्ला, डॉ. सुरजीत सिंह मक्कड़ के बाद उपस्थित सभी लोगों ने डॉ. हैनीमैन को पुष्पांजलि अर्पित की और होम्योपैथी जैसी सुंदर वैज्ञानिक पद्धति देने के लिए डॉ. हैनीमैन को धन्यवाद दिया। हैनीमैन की जयंती पर केक भी काटा गया। डॉ. मयूर जैन ने 15 मई को यूरोलॉजी पर एस्कॉर्ट्स, ओखला के साथ एचएमएआई दिल्ली के अगले सीएमई की घोषणा की। एचएमएआई दिल्ली राज्य के अध्यक्ष डॉ ए के गुप्ता ने बताया कि होम्योपैथी बच्चों सभी उम्र की पुरुष महिलाओं की सामान्य नियमित बीमारियों के अलावा कुछ दुर्लभ और कठिन बीमारियों के इलाज में भी प्रभावी है। होम्योपैथी का उपयोग कैंसर, गुर्दे की विफलता, मधुमेह संबंधी जटिलताओं आदि के मामलों में भी मानार्थ दवाओं के रूप में किया जा रहा है।

Related posts

अब दवाइयों के जेनरिक नाम बड़े अक्षरों में लिखे जाएंगे: मनसुख भाई मांडविया, रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री

नयी बीमारी : मंकी पॉक्स से कई देशों में संक्रमण से भय

admin

कोविड-19 से बड़ा है इसका भय

रवि शंकर

Leave a Comment