स्वस्थ भारत मीडिया
गैर सरकारी संगठन समाचार

तरनी फाउंडेशन फॉर लाइफ के पदाधिकारी केन्द्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा से मिले, जनऔषधि मित्र टी-शर्ट का हुआ लोकार्पण

स्वस्थ भारत (न्यास) के चेयरमैन ने की सराहना

नई दिल्ली/25.06.19

लोगों को सस्ती दवा मिले, लोगों का सस्ता इलाज मिले, इस ध्येय को लेकर काम कर रही संस्था तरनी फाउंडेशन फॉर लाइफ के पदाधिकारियों ने नई दिल्ली में केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा से मुलाकात की। संस्था द्वारा जनऔषधि के प्रचार-प्रसार के लिए बनारस में किए जा रहे कार्यो के बारे में बताया। केन्द्रीय मंत्री इस अवसर पर जनऔषधि मित्र टी-शर्ट एवं कैप का लोकार्पण किया।

जनऔषधि मित्र टीशर्ट पर अपना हस्ताक्षर करते हुए केन्द्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा

इस बावत संस्था की अध्यक्ष अपर्णा कपूरिया ने बताया कि लोगों को सस्ती दवा मिले उसके लिए उनकी संस्था प्रयासरत है। इसी कड़ी में हमलोग स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत जनऔषधि मित्र बना रहे हैं। हमारा मानना है कि इस अभियान से जितने स्वास्थ्यकर्मी, चिकित्सक जुड़ेंगे उतना ही आम लोगों का भला होगा। शार्दुल कपूरिया ने बताया कि मंत्री जी जनऔषधि मित्र के कॉसेप्ट से बहुत खुश है। उन्होंने कहा कि आपलोग सरकार के काम को आगे बढ़ा रहे हैं। बनारस में एक बड़ा आयोजन कीजिए मैं जरूर आउंगा। इस अवसर पर संस्था के संस्थापक सदस्य सीप कपूरिया भी उपस्थित थे।

स्वस्थ भारत ने की सराहना

तरनी फाउंडेशन फॉर लाइफ द्वारा जनऔषधि मित्र अभियान को आगे बढ़ाने के लिए स्वस्थ भारत न्यास के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने शुभकामानाएं प्रेषित की है। श्री आशुतोष ने बताया कि स्वस्थ भारत द्वरा शुरू किए गए इस अभियान को तरनी फाउंडेशन बनारस में मूर्त रूप दे रहा है। यह खुशी की बात है। उन्होंने कपूरिया परिवार द्वारा जनऔषधि के प्रचार-प्रसार में की जा रही कोशिश की सराहना करते हुए कहा कि पूरे भारत में यात्रा के दौरान जितनी ऊर्जा कपूरिया परिवार में दिखी, वैसी ऊर्जा और कहीं देखने को नहीं मिली।

गौरतलब है कि स्वस्थ भारत (न्यास) एवं प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के तत्वाधान में पूरे भारत में जनऔषधि का प्रचार करने के लिए आशुतोष कुमार सिंह की अगुवाई में स्वस्थ भारत यात्रा निकाली गई थी। जिसमें स्वस्थ भारत ने पूरे देश में जनऔषधि मित्र के रूप में लोगों को जोड़ने का काम किया है।

Related posts

स्वास्थ्य की बात गांधी के साथः 1942 में महात्मा गांधी ने लिखी थी की ‘आरोग्य की कुंजी’ पुस्तक की प्रस्तावना

swasthadmin

सावधान! स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हिंसा आपको जेल पहुंचा सकता है

पीएम केयर फंड में अपनी पुरस्कार राशि दान देने वाली इस डॉक्टर को प्रणाम!

Leave a Comment