स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

Sars-CoV-2 संक्रमण को रोकने के लिए मिनीप्रोटीन विकसित

नयी दिल्ली। कोविड-19 महामारी तीसरे वर्ष में प्रवेश कर गई है। दुनिया भर के वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों ने महामारी को और अधिक फैलने से रोकने के लिए सर्वोत्तम संभव उपायों की खोज की है। उनके सामूहिक प्रयासों से Sars-CoV-2  से बचाव करने वाले टीकों की खोज हुई है। हालांकि, वायरस के नए उपभेदों का उभरना COVID-19 टीकों के सुरक्षात्मक प्रभाव के लिए एक चुनौती है। इसने वायरस से इस तरह से लड़ने में मदद करने के लिए वैकल्पिक साधनों की आवश्यकता की है कि यह आगे नहीं फैल सके।

मिनीप्रोटीन का नया वर्ग विकसित

भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC), बेंगलुरु के शोधकर्ताओं ने कृत्रिम पेप्टाइड्स (अमीनो एसिड की छोटी श्रृंखलाएं जो प्रोटीन बनाने के लिए गठबंधन करती हैं) या मिनीप्रोटीन का एक नया वर्ग विकसित किया है जो COVID-19 वायरस को निष्क्रिय कर सकता है। शोध का विवरण नेचर केमिकल बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित किया गया है। प्रोटीन-प्रोटीन परस्पर क्रिया एक ताला और एक चाबी की तरह अधिक है। शोधकर्ताओं ने नोट किया कि प्रयोगशाला-निर्मित मिनीप्रोटीन द्वारा बातचीत को बाधित किया जा सकता है, जो ’कुंजी’ को ’लॉक’ से बांधने से रोकता है और इसके विपरीत काम करता है।

टेस्ट का नतीजा सकारात्मक

कृत्रिम पेप्टाइड्स या मिनीप्रोटीन न केवल मानव कोशिकाओं में Sars-CoV-2  जैसे वायरस के प्रवेश को अवरुद्ध कर सकते हैं बल्कि वायरस कणों को एक साथ मिलाने की क्षमता रखते हैं, जिससे उनकी संक्रमित करने की क्षमता कम हो जाती है। इस संक्रमण को रोकने में SIH-5 (एसएआरएस इनहिबिटरी हेयरपिन-5) नामक एक मिनीप्रोटीन की प्रभावशीलता की जांच करने के लिए शोध दल ने स्तनधारी कोशिकाओं में विषाक्तता के लिए भी इसका परीक्षण किया। डॉ. जयंत चटर्जी, आण्विक जीवविज्ञान इकाई (MBU), IISC में प्रधान अन्वेषक और एसोसिएट प्रोफेसर व अध्ययन के प्राथमिक लेखक कहते हैं कि यह सुरक्षित पाया गया।

परीक्षण में खरा उतरा

इसके बाद SIH-5  को आण्विक जीवविज्ञान इकाई (MBU) के प्रोफेसर राघवन वरदराजन की प्रयोगशाला में हैम्स्टर्स को प्रशासित किया गया। हैम्स्टर्स को तब Sars-CoV-2 के संपर्क में लाया गया था। यह पाया गया कि हैम्स्टर्स ने वजन कम नहीं दिखाया और वायरल लोड को काफी कम कर दिया था और फेफड़ों में बहुत कम सेल क्षति के साथ हैम्स्टर्स की तुलना में केवल वायरस के संपर्क में आने और मिनीप्रोटीन की कोई खुराक नहीं मिली थी। मिनीप्रोटीन Sars-CoV-2 के स्पाइक (S) प्रोटीन को बांध सकते हैं और ब्लॉक कर सकते हैं, जो इसे मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने और संक्रमित करने में मदद करता है। बाइंडिंग को क्रायो-इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी (क्रायो-ईएम) द्वारा व्यापक रूप से चित्रित किया गया था जो एमबीयू में एक सहायक प्रोफेसर और अध्ययन के संबंधित लेखकों में से एक सोमनाथ दत्ता की प्रयोगशाला में किया गया था।

इंडिया सायंस वायर से साभार

Related posts

यहां पढ़ें पीएम मोदी के 12 योग-सूत्र

प्राकृतिक खेती से होंगे व्यापक लाभ : कृषि मंत्री तोमर

admin

भारत आयुर्वेद का घर, इसकी अनूठी ताकत दुनिया के सामने : डॉ. मांडविया

admin

Leave a Comment