स्वस्थ भारत मीडिया
SBA विशेष कोविड-19 समाचार

बिहार के 14 लाख से अधिक प्रवासियों को मिली  कोरोना काल में राहत

Bihar-bhavan-helpline-work

पिछले 1 महीने में दिल्ली के बिहार भवन द्वारा कोरोना के कारण बेसहारा हुए बिहार के लाखों श्रमिकों को मदद पहुंचाई गई है। अभी भी मदद की मांग जारी है…पढ़ें पूरी रपट

 

आशुतोष कुमार सिंह

नई दिल्ली/ एसबीएम

कोरोना वायरस के संभावित फैलते संक्रमण के मद्देनजर देश के विभिन्न राज्यों में बिहार के प्रवासी श्रमिकों को सहयोग एवं सहायता पहुँचाने के उद्देश्य से बिहार सरकार के आदेश पर बिहार भवन, नई दिल्ली में स्थापित नियंत्रण कक्ष का एक महीना पूरा हो गया। इस दौरान नियंत्रण कक्ष के द्वारा देश के विभिन्न भागों में फंसे बिहार के लाखों प्रवासियों को सहायता पहुँचाने के लिए हरसम्भव कोशिश की गई। कंट्रोल रूम की स्थापना से लेकर दिनांक 26.04.2020 तक कॉल, गूगल डॉक, व्हाट्सएप एवं अन्य माध्यमों से 79,012 ( उन्नासी हजार बारह) सूचनाएं प्राप्त हुई तथा प्रवासी श्रमिकों द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचनाओं के आधार पर 14,15,976  (चौदह लाख पन्द्रह हजार नौ सौ छिहत्तर) व्यक्तियों की समस्याओं के समाधान हेतु आवश्यक कार्रवाई की गई।

इसमें दिनांक 26.04.2020 को 3,171 ( तीन हजार एक सौ एकहत्तर) सूचनाएं प्राप्त हुई तथा प्रवासी श्रमिकों द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचनाओं के आधार पर 63,780 ( तिरसठ हजार सात सौ अस्सी) लोगों की समस्याओं पर एक्शन लिया गया।

बिहार के लोग जो देश के विभिन्न भागों में फँसे हुए हैं उनके लिये स्थानिक आयुक्त, बिहार विपिन कुमार द्वारा संबंधित राज्य सरकारों एवं जिला प्रशासन से समन्वय स्थापित कर भोजन, आवास एवं चिकित्सा की आवश्यक व्यवस्था की जा रही है।

स्थानिक आयुक्त श्री कुमार ने बताया कि इन समस्याओं पर संबंधित राज्यों के वरीय पदाधिकारियों से समन्वय स्थापित करते हुए त्वरित और यथोचित कार्रवाई की गयी। इसके तहत कई स्थानों से अनुपालन प्रतिवेदन भी प्राप्त हुआ है। बिहार सरकार द्वारा लाखों प्रवासियों के बुनियादी सहयोग एवं सहायता हेतु युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है।

कहीं आप भी तो कोरोना के सपने नहीं देखते?

25 मार्च से शुरू है हेल्पलाइन नंबर

ध्यान देने वाली बात यह है कि कि दिल्ली स्थित बिहार भवन में दिनांक 25.03.2020 से नियंत्रण कक्ष (011-23792009, 011- 23014326, 011- 23013884 ) स्थापित किया गया है, जिसमें कॉल्स, फैक्स, इंटरनेट और ईमेल की सुविधा है। इसमें तीन पालियों में 60 पदाधिकारियों और कर्मियों की नियुक्ति की गयी है। नियंत्रण कक्ष के इन तीन टेलीफोन नम्बरों पर दस हंटिंग लाइन भी चालू किया गया है, ताकि सारे फोन निर्बाध रूप से काम करते रहें और फोन करने वालों को किसी भी तरह की तकनीकी परेशानी का सामना न करना पड़े। लॉकडाउन के एक महीने बाद भी बिहार भवन चैबीसो घंटे कार्यरत है और लाखों प्रवासियों की सहायता के लिए प्रतिबद्ध है।

स्थानिक आयुक्त श्री कुमार ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों का सहयोग करना बिहार सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए संपूर्ण तंत्र पूर्णतः सक्रिय व प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें- कोविड-19 : आपके घर में कोई बुजुर्ग है तो यह खबर आपके लिए है

स्वस्थ भारत मीडिया की पहल

इस बीच स्वस्थ भारत डॉट इन की पहल पर दिल्ली में फंसे 40 कामगारों को राशन पहुंचवाने का आश्वासन बिहार सूचना केन्द्र के अधिकारियों ने दिया है। बिहार सूचना केन्द्र के सहायक निदेशक लोकेश झा ने स्वस्थ भारत मीडिया को आश्वस्त किया है कि सरकार जरूरतमंदों को सहयोग दिलाने का कार्य करेगी। स्वस्थ भारत मीडिया को आज सुबह-सुबह सूचना मिली थी कि दिल्ली के टिकरी बोर्डर एरिया में बिहार के 40 श्रमिक फंसे हुए हैं। इस बावत स्वस्थ भारत मीडिया बीआईसी के सहायक निदेशक लोकेश झा से संपर्क किया था।

 

Related posts

यह चिंटुवा की नहीं, 45 करोड़ प्रवासी मजदूरों की कहानी है

स्वास्थ्य मंत्रालय को संपादक ने लगाई फटकार…

swasthadmin

मध्य प्रदेश के संबीदा कर्मी ने सीएम शिवराज को लिखा खुला पत्र

Vinay Kumar Bharti

Leave a Comment