स्वस्थ भारत मीडिया
Uncategorized विज्ञान और तकनीक / Sci and Tech

किफायती सौर बैटरी बनाने की नयी तकनीक विकसित

नयी दिल्ली। सिलिकॉन सौर सेल में उपयोग होने वाले सेमीकंडक्टर में निकेल ऑक्साइड जैसे धातु महत्वपूर्ण होते हैं। भारतीय शोधकर्ताओं को आधुनिक संरचना वाले सिलिकॉन सौर सेल में उपयोग होने वाली सस्ती धातु ऑक्साइड परत विकसित करने में सफलता मिली है। इस अध्ययन के बाद सस्ती सौर बैटरी विकसित करने की राह आसान हो सकती है।

झिल्ली विकसित करने की प्रक्रिया अत्यधिक खर्चीली

सिलिकॉन सौर सेल बनाने के लिए निकेल ऑक्साइड फिल्म (झिल्ली) तैयार करनी होती है, जिसकी मोटाई मनुष्य के बालों की मोटाई से एक लाख गुना कम, नैनो पैमाने पर होती है। नैनो स्तर पर निकेल ऑक्साइड झिल्ली विकसित करने की प्रक्रिया अत्यधिक खर्चीली है, क्योंकि इसके उत्पादन में उपयोग होने वाले उपकरण आयात करने पड़ते हैं। इन झिल्लियों के विकास में उपयोग होने वाले निकेल एसिटाइलसीटोनेट जैसे पूर्ववर्ती घटक भी बेहद महँगे हैं। इस तकनीक का महँगा होना इसके उपयोग की संभावनाओं को सीमित कर देता है।

झिल्ली विकसित करने की सस्ती प्रक्रिया तैयार

IIT मंडी के शोधकर्ताओं के इस अध्ययन में धातु ऑक्साइड की पतली झिल्ली बनाने की सस्ती प्रक्रिया विकसित की गई है। वर्तमान में प्रचलित प्रक्रिया में उपयोग होने वाली पूर्ववर्ती सामग्री की तुलना में नई विकसित तकनीक में उपयोग की गई सामग्री भी सस्ती है। इसमें सिलिकॉन सब्सट्रेट पर निकेल ऑक्साइड की महीन झिल्ली बनाने के लिए एरोसोल की सहायता से रसायनिक भाप के निक्षेपण की तकनीक का उपयोग किया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि सौर सेल बनाने के लिए धातु ऑक्साइड परत बनाने के लिए विकसित की गई यह तकनीक किफायती है।

एरोसोल की सहायता से लक्ष्य हासिल

अध्ययन का नेतृत्व कर रहे शोधकर्ता डॉ कुणाल घोष बताते हैं-एरोसोल की सहायता से रसायनिक भाप के निक्षेपण की तकनीक से सिलिकॉन सहित विभिन्न सतहों पर उच्च गुणवत्ता युक्त पतली झिल्ली बनायी जा सकती है। इसके लिए, एयरोसोल के रूप में भाप अवस्था में पूर्ववर्ती सामग्री का उपयोग किया जाता है। एयरोसोल की मदद से ऑक्साइड आधारित सामग्रियों की विस्तृत श्रेणियों का जमाव सटीक रूप से किया जा सकता है। इसका लाभ सामग्री विज्ञान और इंजीनियरिंग के विभिन्न उपयोगों में किया जा सकता है। डॉ कुणाल घोष के अलावा इस अध्ययन में उनके पीएचडी शोधार्थी सैयद मोहम्मद हुसैन और मोहम्मद सादुल्लाह शामिल हैं।

इंडिया साइंस वायर से साभार

 

Related posts

कोरोना की रफ्तार ने डराया, रोज बढ़ रहे केस

admin

मिठास की इन लाखों देवियों को मौत से कौन बचायेगा!

Ashutosh Kumar Singh

मंकीपॉक्स: वैक्सीन पर स्वास्थ मंत्री से मिले पूनावाला

admin

Leave a Comment