स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

कोरोना संक्रमित देशों में अब भारत का भी नाम

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। कोरोना की बढ़ती रफ्तार से भारत एक बार फिर दुनिया उन पांच देशों में शामिल हो गया है, जहां अभी सबसे ज्यादा संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। बीते कुछ दिनों से लगातार तीन हजार से भी ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।

ताजा दौर में संक्रमण से 11 की मौत

सूत्रों के मुताबिक रविवार को संक्रमण की चपेट में आने से 11 लोगों की मौत हो गई। इनमें चार केरल, तीन महाराष्ट्र और दिल्ली, कर्नाटक और राजस्थान से एक-एक मौतें शामिल हैं। आंकड़े बता रहे हैं कि पिछले 24 घंटे के अंदर देश में कोरोना के रिकॉर्ड केस बढ़े हैं। 3,641 लोग पॉजिटिव पाए गए है जिसकेे साथ सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 20 हजार 219 हो गई है।

COVOVAX को COWIN में शामिल करने की मांग

इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ने स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर कोवोवैक्स को वयस्कों के लिए विषम बूस्टर खुराक के रूप में COWIN पोर्टल में शामिल करने की मांग की है। सीरम इंस्टीट्यूट ने इससे पहले भी इसकी मांग की थी। पत्र सीरम इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने लिखा था। बीते महीने डॉ. एन. के. अरोड़ा की अध्यक्षता वाले कोविड-19 वर्किंग ग्रुप ने भी स्वास्थ्य मंत्रालय से पोर्टल पर COVOVAX को शामिल करने की सिफारिश की थी।

DRA ने भी की थी सिफारिश

खबरों के अनुसार केंद्रीय दवा नियामक प्राधिकरण (Drug Regulatory Authority) के एक विशेषज्ञ पैनल ने covovax को बाजार में उतारने की सिफारिश की थी। इसे उन वयस्कों को विषम बूस्टर खुराक के रूप में देने की बात थी जो कोविशील्ड या कोवाक्सिन की दो खुराक ले चुके हों। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने 16 जनवरी को COVOVAX को अनुमोदित किया था। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन की विषय विशेषज्ञ समिति (SEC) की सिफारिश भी यही थी। इस वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (USFDA) द्वारा अनुमोदित किया गया है। इसे सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा नोवावैक्स से प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के माध्यम से निर्मित किया जाता है।

Related posts

शराब बंदी का साइड इफ्फेक्ट: बिहार में नशीले कफ सीरप का बढ़ सकता है कारोबार…

Ashutosh Kumar Singh

बिलासपुर नसबंदी मामलाःफार्मासिस्ट करेंगे स्वास्थ्य मंत्री का घेराव!

Ashutosh Kumar Singh

कोविड हुआ 223 बार म्यूटेट, अब खतरा कम : मांडविया

admin

Leave a Comment