स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

भारतीय भाषाओं में गुणवत्तापूर्ण वैज्ञानिक साहित्य जरूरी

नयी दिल्ली। केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह ने भारतीय भाषाओं में उच्च स्तर के प्रकाशन और अच्छी गुणवत्ता वाले वैज्ञानिक साहित्य तैयार करने के लिए आह्वान किया है।

पुस्तक का विमोचन

जेएनयू के शोध छात्र सबरीश पी.ए. की पुस्तक ‘‘ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ साइंस इन इंडिया’’ का विमोचन करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शासन में विज्ञान ने न केवल मानव जीवन के हर क्षेत्र छुआ है, बल्कि यह जीवन को आसान बनाने का साधन भी बनकर उभरा है। इस अवसर पर जेएनयू की नवनियुक्त कुलपति प्रोफेसर शांतिश्री पंडित और अन्य शिक्षक उपस्थित थे।

भारतीयों का स्वभाव वैज्ञानिक

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत एक स्थायी विचार है, जिसमें उप-विचारों की रचना करने और उत्पन्न करने की एक बड़ी क्षमता है। उन्होंने कहा कि भारत को इस बारे में शिक्षित होने की जरूरत नहीं है कि विज्ञान क्या है क्योंकि प्राकृतिक रूप से भारतीयों का स्वभाव वैज्ञानिक है, जो पर्याप्त साधनों और संसाधनों के बिना भी अस्तित्व में है। उन्होने इसका उल्लेख किया कि हमारे संसाधन हमारी क्षमता की तुलना में अधिक हैं। हमने हमेशा विश्व को अनुसंधान व संसाधन उपलब्ध कराए हैं। आजादी से पहले भी पश्चिमी शोधकर्ता, विशेष रूप से चिकित्सा शोधकर्ता, प्राचीन विषयों की खोज में नियमित रूप से भारत आते रहते थे और यहाँ पर कुछ महान खोजें की गईं।

अब हुई भारत के सम्मान की बहाली

उन्होंने कहा कि यह औपनिवेशिक मानसिकता है कि हमारे संसाधनों और परिणाम के बीच मेल नहीं है, जिसने हमें एक वैज्ञानिक होने के सम्मान से वंचित कर दिया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इसके लिए धन्यवाद दिया कि जब से वे प्रधानमंत्री बने हैं, इस सम्मान की बहाली हो रही है। डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत न केवल सबसे पुरानी, बल्कि सबसे जीवंत सभ्यता है। उन्होंने कहा कि एक मानव के रूप में हम, जिसकी खोज नहीं की जा सकी है, उसकी खोज के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। डॉ. सिंह ने उल्लेख किया कि आज के वैश्विक विकास का निर्माण विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार की नींव पर किया गया है और इसके परिणामस्वरूप उत्पन्न क्रांति ने हमें आधुनिकता की ओर बढ़ाया है। हालांकि, भारत के वैज्ञानिक अतीत की गहरी समझ से पता चलता है कि वैश्विक दार्शनिक और वैज्ञानिक उदारता की नींव भारतीय धरती पर रखी गई थी।

इंडिया साइंस वायर से साभार

Related posts

14000 किमी की दूरी तय कर लखनऊ पहुँची यात्रा

कोविड-19 काल में माँ की भूमिका निभा रहा है शुद्ध मिल्क

Ashutosh Kumar Singh

स्वस्थ भारत ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, कहा जनऔषधि योजना विफल हो चुकी है

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment