स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

सॉफ्ट ड्रिंक्स से कैंसर का खतरा, बैन करने की तैयारी

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन WHO) कोका-कोला समेत अन्य सॉफ्ट ड्रिंक्स और च्यूइं गम जैसे फूड आइट्म पर बैन लगाने की तैयारी में है। उसने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि इन सबको मीठा करने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे आर्टिफिशियल स्वीटनर एस्पार्टेम से कैंसर होने का खतरा है।

घातक द्रव्य की सूची इसी माह बनेगी

खबरों के मुताबिक इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (IARC) जुलाई में ऐसे पदार्थों की सूची में शामिल करेगी जिनसे कैंसर हो सकता है या इसका खतरा बढ़ जाता है। एस्पार्टेम का इस्तेमाल कोका-कोला, डायट सोडा से लेकर मार्स एक्स्ट्रा च्यूइंग गम और कुछ अन्य ड्रिंक्स में होता है। WHO ने अभी ये नहीं बताया है कि एस्पार्टेम युक्त उत्पाद का कितनी मात्रा में सेवन सुरक्षित है। नुकसान पहुंचाने वाले पदार्थ का कोई कितना सेवन कर सकता है, यह सुझाव एक अलग एक्सपर्ट कमेटी देती है। आमतौर पर यह सुझाव जॉइंट WHO एंड फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन एक्सपर्ट कमेटी ऑन फूड एडिटिव्स (JECFA) देता है।

एस्पार्टेम के इस्तेमाल की हो रही समीक्षा

WHO की समिति JECFA एस्पार्टेम के इस्तेमाल की समीक्षा कर रही है। 1981 में उसने कहा था कि अगर एक सीमा तक रोज एस्पार्टेम का सेवन किया जाता है तो यह सुरक्षित है। उदाहरण के लिए 60 किलोग्राम वजन वाला एक शख्स अगर दिन में 12-36 कैन डाइट सोडा पीता है तो वह जोखिम उठा रहा है। पिछले साल फ्रांस में एस्पार्टेम पर एक रिसर्च हुई। इस दौरान आर्टिफिशियल स्वीटनर का सेवन करने वाले एक लाख लोगों पर स्टडी हुई। इसमें पाया गया कि जो लोग भारी मात्रा में आर्टिफिशियल स्वीटनर (जिसमें एस्पार्टेम भी शामिल है) का सेवन कर रहे हैं उनमें कैंसर का खतरा ज्यादा था।

350 ML की बोतल में 10 चम्मच चीनी

एक रिपोर्ट के मुताबिक 350 ML की छोटी कोल्ड ड्रिंक्स कैन में भी 10 से 12 चम्मच चीनी घुली होती है। दूसरी ओर रिपोर्ट कहती है कि दिन में 5-6 चम्मच से ज्यादा चीनी का सेवन करना खतरनाक है। यानी कोल्ड ड्रिंक्स की एक छोटी बोतल पीने के बाद आप अपने दो से तीन दिनों की चीनी का कोटा पूरा कर लेते हैं। न्यू हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ (HSPH) की रिपोर्ट (2015) के मुताबिक हर साल लगभग 2 लाख मौतों के लिए ऐसी ड्रिंक्स सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं।

Related posts

पैथोलोजी जांच के लिए आयेगा सस्ता बायोसेंसर

admin

दरभंगा में एम्स निर्माण को लेकर सियासत गरम

admin

कोरोना मरीजों में 76 फीसद पुरुष, 47 फीसद 40 से कम आयु के

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment