स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

नए वैरिएंट से अमेरिका में फिर बढ़ रहा कोरोना का खतरा

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। आधिकारिक तौर पर कोरोना का खतरा तो समाप्त हो गया है लेकिन अमेरिका में संक्रमण ने फिर चिंतित करने वाली खबर दी है। वहां कोरोना के नये वैरिएंट ने अस्पतालों में मरीजों की संख्या 10 फीसद तक बढ़ा दी है।

CDC ने की पुष्टि

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार अमेरिका में 16 जुलाई के बाद से देशभर के अस्पतालों में 7,109 रोगियों को भर्ती कराया गया था। यह पिछले सप्ताह के आंकड़ों से 6,444 से अधिक है। चिंताजनक बात यह भी है कि इसमें से कई लोगों को आपातकालीन चिकित्सा की भी आवश्यकता महसूस हो रही है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि जुलाई महीने की 21 तारीख तक इमरजेंसी में भर्ती कराने वाले मरीजों की दर औसतन 0.73 फीसद थी, जो 21 जून तक 0.49 फीसद से अधिक है। सीडीसी के प्रवक्ता कैथलीन कॉनली ने भी इसकी पुष्टि की है।

EG-5 वैरिएंट की आशंका

उनके मुताबिक कई देश अब भी वायरस के प्रसार को धीमा करने के लिए CDC द्वारा सुझाए गए तरीकों का पालन नहीं कर रहे हैं। अभी संक्रमण के लिए किसी नए वैरिएंट की पहचान नहीं की गई है। CDC रिपोर्ट्स के मुताबिक फिलहाल अमेरिका में कोरोना संक्रमण के लिए XBB.1.16, XBB.1.9-1, XBB.2.3, XBB.1.6 स्ट्रेनों को ही प्रमुख कारण पाया गया है, जो 10 से 15 फीसद संक्रमण का कारण हैं। विशेषज्ञों ने पहले EG-5 को एक कारण बताया था। EG-5, XBB.1.9.2 वैरिएंट का ही एक प्रकार है, जिसमें अब भी म्यूटेशन को लेकर आशंका जताई जा रही है।

Related posts

इलाज़ के लिए दर-दर भटक रही है तेजाब पीड़िता पूजा, सरकारी दावों की खुली पोल

Ashutosh Kumar Singh

A stone removed from the 70-year-old patient’s knee was the second largest stone in the world to be excised

admin

2030 तक मलेरिया मुक्त होगा भारतः स्वास्थ्य मंत्री

admin

Leave a Comment