स्वस्थ भारत मीडिया
फार्मा सेक्टर / Pharma Sector

HIV-AIDS के खिलाफ वैक्सीन का ट्रायल अंतिम चरण में

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। एक लंबे अरसे बाद तबाही मचा देने वाली बीमारी के लिए अब पहली वैक्सीन आने वाली है। वह रोग है HIV-AIDS । वैज्ञानिकों के मुताबिक ट्रायल में यह वैक्सीन 97 फीसद तक कारगर निकली है। यह जानकारी साइंस जर्नल में एक रिसर्च ने दी है।

दो डोज में सफलता का दावा

रिसर्च के मुताबिक इस वैक्सीन के दो डोज से ही रोग खत्म हो सकता है। इसका नाम eOD-GT8 60mer  है। वैक्सीन का 48 स्वस्थ लोगों पर ट्रायल किया गया जिनकी उम्र 18 से 50 साल के बीच थी। 18 लोगों को पहली खुराक 20 माइक्रोग्राम की दी गई। इसके 8 हफ्ते बाद उन्हें इतनी ही खुराक दूसरी बार दी गई। अगले 18 लोगों को 8 हफ्ते के अंतराल में 100 माइक्रोग्राम के दो डोज दिए गए। बाकी बचे 12 लोगों को सलाइन प्लेसिबो दिया गया। प्लेसिबो कोई दवाई नहीं है। डॉक्टर इसका इस्तेमाल ये जानने के लिए करते हैं कि दवा लेने का किसी व्यक्ति पर मानसिक रूप से क्या और कितना असर पड़ता है।

एक डोज में इम्यूनिटी बढ़ी

इस दौरान यह पाया कि जिन 36 लोगों को वैक्सीन दी गई, उनमें से 35 में वैक्सीन का पहला डोज देते ही असर दिखाई दिया। उनमें बी सेल्स बढ़े। ये इम्यून सिस्टम में बीमारियों के खिलाफ एंटीबॉडी बनाता है। वैक्सीन की दूसरी खुराक के बाद इन लोगों की इम्यूनिटी और बढ़ गई। अब इस पर रिसर्च बाकी है कि वैक्सीन HIV/AIDS  के मरीजों पर कैसे काम करेगी।

ट्रायल के दौर में कई वैक्सीन

इंटरनेशनल एड्स वैक्सीन इनिशिएटिव (International AIDS Vaccine Initiative) के डेटा के अनुसार दुनिया में 3 करोड़ 80 लाख लोग एचआईवी के साथ जी रहे हैं। जानकारी है कि इस जानलेवा वायरस के खिलाफ 20 से ज्यादा वैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल चल रहे हैं।

Related posts

फार्मासिस्ट फाउंडेशन ने बनारस में निकाली जागरूकता रैली

Ashutosh Kumar Singh

जयपुर में फार्मासिस्टों का जोरदार प्रदर्शन, सर्वेश्वर शर्मा की अगुवाई में हजारों फार्मासिस्ट उतरे सड़क पर, विधानसभा का किया घेराव, चिकित्सा मंत्री व स्वास्थ्य सचिव को दिया ज्ञापन

बगैर फार्मासिस्ट की सलाह के दवा लेना खतरनाक – क्षितिज

Leave a Comment