स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY

आखिर क्यों मनाते हैं विश्व पर्यावरण दिवस

विश्व पर्यावरण दिवस पर खास
धीप्रज्ञ द्विवेदी

पर्यावरण के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए, विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून को मनाया जाता है। 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाएगा, इसकी घोषणा संयुक्त राष्ट्र द्वारा आयोजित पहले पृथ्वी सम्मेलन में स्टॉकहोम में की गई थी जो 5 से 16 जून 1972 तक चला था। इसका पहला आयोजन वर्ष 1973 में केवल एक पृथ्वी (Only one earth) के नारे के साथ हुआ था। बाद के वर्षों में, विश्व पर्यावरण दिवस (WED) हमारे सामने आने वाली पर्यावरणीय समस्याओं जैसे जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, प्लास्टिक प्रदूषण, अवैध वन्यजीव व्यापार, समुद्र के स्तर में वृद्धि, खाद्य सुरक्षा इत्यादि तथा इन समस्याओं के समाधान जैसे टिकाऊ विकास, पर्यावरण संरक्षण टिकाऊ उपभोग इत्यादि के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक मंच के रूप में विकसित हुआ है। इसके अलावा, विश्व पर्यावरण दिवस (WED), खपत पैटर्न और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण नीति में बदलाव लाने में मदद करता है। हर साल, संयुक्त राष्ट्र एक नई विश्व पर्यावरण दिवस थीम की घोषणा करता है।
विश्व पर्यावरण दिवस 2023 की थीम “प्लास्टिक प्रदूषण का समाधान” है। थीम के साथ हैशटैग #BeatPlasticPollution  का इस्तेमाल किया जाएगा। इस वर्ष की थीम लोगों को प्लास्टिक के उपयोग को छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने और इसे पर्यावरणीय अवमूल्यन के स्रोत के रूप में पहचानने पर केंद्रित है। हर साल, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण दिवस के लिए एक नए मेजबान देश की घोषणा करता है। आइवरी कोस्ट (पश्चिम अफ्रीका) विश्व पर्यावरण दिवस 2023 का मेजबान देश है। 5 जून, 2023 को पर्यावरण दिवस के वार्षिक उत्सव का आयोजन करने के लिये नीदरलैंड, आइवरी कोस्ट के साथ साझेदारी करेगा।
वहीं इस वर्ष, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार ने मिशन लाइफ को केंद्र में रखते हुए विश्व पर्यावरण दिवस 2023 मनाने की परिकल्पना की है। लाइफ का अर्थ है-पर्यावरण के लिए जीवन शैली, जिसकी शुरुआत 2021 UNFCCC COP-26 के दौरान प्रधानमंत्री ने ग्लासगो में आयोजित वैश्विक नेताओं के शिखर सम्मेलन में की थी। तब उन्होंने स्थायी जीवन शैली और प्रथाओं को अपनाने के लिए एक वैश्विक लक्ष्य को फिर से हासिल करने का आह्वान किया। समारोह के उपलक्ष्य में लाइफ पर देश भर में जन भागीदारी का आयोजन किया जा रहा है।
विश्व के अधिकांश क्षेत्र पिछले कई वर्षों से लगातार बढ़ रहे तापमान और बढते प्रदूषण के साथ जी रहे हैं। आज वैश्विक तापमान अर्थात लगातार बढ रहे तापमान एवं बढते प्रदूषण का असर सिर्फ इंसानों पर ही नहीं, पृथ्वी पर रह रहे सभी जीवों एवं अजैविक पदार्थों पर हो रहा है। यही वजह है कि कई जीव-जन्तु विलुप्त हो रहे हैं। साथ ही लोग कैंसर जैसी कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इनके अतिरिक्त मौसम में आ रहे बदलाव भी हमारे सामने है। पहाडों पर बर्फ गिरने का समय हो या मैदानी क्षेत्रों में वर्षा, इन सभी में बहुत अधिक बदलाव हुये हैं। साथ ही आप देखते हैं कि चक्रवातों की संख्या और सूखे की समस्या भी बढ रही है। इन सबके पीछे का कारण मौसम में आने वाले परिवर्तन हैं। मौसम के इस परिवर्तन के पीछे मानवीय गतिविधियां हैं। इन सभी कारणों से विश्व पर्यावरण दिवस की महत्ता और बढ जाती है।
विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के पीछे के कारणों की अगर चर्चा करें तो सबसे प्रमुख कारण रहा एक ऐसी विकास (?) व्यवस्था को पूरी दुनिया में लागू करना जो पर्यावरण अनुरूप ना होकर पर्यावरण विरोधी थी। जिसमें किसी भी प्राकृतिक संसाधन को लेकर एकमात्र भाव उसके उपभोग का था, उसके उपयोग का नहीं। तो वास्तव में उपभोग आधारित वैश्विक व्यवस्था ने विभिन्न प्रकार की पर्यावरण समस्याओं को जन्म दिया। विश्व की लगभग सभी प्राचीन सभ्यताओं में पर्यावरण के साथ एक सहजीविता का संबंध बनाए रखने की बात की गई है। इसके कई उदाहरण हमारे यहां अलग-अलग ग्रंथों में दिए गए हैं। उनमें से कुछ उदाहरणों को यहां देखते हैं-
‘रक्षय प्रकृति पातुं लोका :’
अर्थात लोक की रक्षा के लिए प्रकृति की रक्षा आवश्यक है। यह सुभाषित हमें प्रकृति संरक्षण के बारे में बताता है जो वर्तमान में सभी पर्यावरणीय समस्याओं का समाधान है।
अग्निं बूमो वनस्पतिनोषधीरुत वीरुथः।
इद्रं बृहस्पति सूर्य ते नो मुंचन्त्वहंस।।
अर्थात हम परमात्मा की शरण में जाते हैं, हम वनदेवता वृक्षों-पौधों और औषधियों की शरण में जाते हैं, हम इंद्र, बृहस्पति और सूर्य की शरण में जाते हैं।
हम अपने किसी भी ग्रंथ का जब अध्ययन करते हैं तो उसमें प्रकृति के संरक्षण की बात मिलती है, जैसे ऋग्वेद की एक ॠचा में कहा गया है कि वनस्पतियां, जल धाराएं, आकाश, वन और वृक्ष से आच्छादित पर्वत हमारी रक्षा करें।
इसके ठीक विपरीत वर्तमान विकास का आधार प्रकृति का संरक्षण नहीं बल्कि उसका दोहन है। इस विचार के मूल में यह सिद्धांत है कि गॉड ने प्रकृति में मौजूद हर संसाधन को इंसानों के उपभोग के लिए बनाया है और मूलतः यही उपभोगवादी विचारधारा पर्यावरण के लगभग सभी समस्याओं का जन्मदाता है।
पर्यावरण में ह्रास का प्रारंभ औद्योगिक क्रांति के साथ जुड़ा हुआ है। जैसे-जैसे औद्योगिक विकास होता गया, वैसे-वैसे संसाधनों के दोहन की गति तीव्र होती चली गयी। अगर हम वैश्विक स्तर की बात करें तो पर्यावरण से जुड़ी समस्याओं के लिए सबसे पहला कानून 16 वीं शताब्दी में लंदन में बना था जब वहां वायु प्रदूषण की बहुत ही भीषण समस्या से लोगों को जूझना पड़ा था। इसके ठीक बाद मध्य 18वीं शताब्दी में भारत के जोधपुर राज्य के राजा ने बिश्नोई समाज की मांग पर पेड़-पौधों और जानवरों विशेषकर काले हिरणों के संरक्षण पर एक कानून बनाया जो अंग्रेजों ने भी मान्य रखा और स्वतंत्रता के बाद भारत के कानून में भी उसे शामिल किया गया।
पूरे विश्व में पर्यावरण संरक्षण को लेकर लोगों के बीच में चर्चा का प्रारंभ प्रथम विश्व युद्ध के आसपास से गति प्राप्त कर चुका था। द्वितीय विश्वयुद्ध और उसके बाद ही घटनाओं ने लोगों को इस विषय में और अधिक सोचने पर मजबूर किया। विश्व की कुछ प्रमुख पर्यावरण संबंधी घटनाएं रहीं जापान में मिनामाटा एवं इटाई इटाई, अमेरिका में लव कैनल दुर्घटना, इंग्लैंड के लंदन में क्लासिकल स्मॉग और अमेरिका के लॉस एंजिल्स में फोटोकेमिकल स्मॉग का निर्माण इत्यादि। इसी बीच सन 1962 में रसल कार्सन की किताब साइलेंट स्प्रिंग आती है जिसने लोगों को रासायनिक कीटनाशकों के पर्यावरण पर पड़ने वाले गंभीर प्रभावों से अवगत कराया। साइलेंट स्प्रिंग के लिए प्रेरणा जनवरी 1958 में कार्सन के दोस्त, ओल्गा ओवेन्स हॉकिन्स द्वारा द बोस्टन हेराल्ड को लिखा गया एक पत्र था, जिसमें डक्सबरी, मैसाचुसेट्स में उनकी संपत्ति के आसपास पक्षियों की मौत का वर्णन किया गया था, जिसका कारण मच्छरों को मारने के लिए किया गया डीडीटी का हवाई छिड़काव था, जिसकी प्रति हॉकिन्स ने कार्सन को भेजी। कार्सन ने बाद में लिखा कि इसी पत्र ने उन्हें रासायनिक कीटनाशकों के कारण होने वाली पर्यावरणीय समस्याओं के अध्ययन के लिये प्रेरित किया। इस पुस्तक का रासायनिक कंपनियों द्वारा घोर विरोध किया गया, लेकिन इसने जनता की राय को प्रभावित किया और अमेरिकी कीटनाशक नीति को उलट दिया। कृषि उपयोगों के लिए डीडीटी पर एक राष्ट्रव्यापी प्रतिबंध और एक पर्यावरण आंदोलन प्रारम्भ हुआ जिसके कारण यू.एस. पर्यावरण संरक्षण एजेंसी की स्थापना हुयी।
भारत के संदर्भ में देखें तो जहां अमेरिका में डीडीटी प्रतिबंधित है वहीं भारत में उपलब्ध है। वास्तव में विकसित देशों में हुई वैज्ञानिक क्रान्ति के फलस्वरूप हुआ औद्योगीकरण पर्यावरण ही नहीं, समूचे जैवमण्डल के लिए खतरनाक भी बनता गया। कई औद्योगिक इकाइयों के कारण ऐसी भयावह दुर्घटनाएँ हुई कि दुनिया हिल गई। विज्ञान के इस अभिशाप को अमेरिका, इग्लैण्ड, जापान सहित अन्य देशों में देखा गया। इन समस्याओं से परेशान होकर लोगों ने मानव के हित में पर्यावरण के महत्व पर सोचना शुरू किया। लेकिन उपरोक्त घटनाओं के होने के पहले भी 1949 में, संसाधनों के संरक्षण और उपयोग पर संयुक्त राष्ट्र वैज्ञानिक सम्मेलन (लेक सक्सेस, न्यूयॉर्क, 17 अगस्त से 6 सितंबर) उन संसाधनों की कमी और उनके उपयोग को संबोधित करने वाला पहला संयुक्त राष्ट्र निकाय था। हालाँकि, ध्यान मुख्य रूप से इस बात पर था कि आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए उन्हें कैसे प्रबंधित किया जाए, न कि संरक्षण के दृष्टिकोण से।
यह 1968 तक नहीं था कि संयुक्त राष्ट्र के किसी भी प्रमुख अंग द्वारा पर्यावरणीय मुद्दों पर गंभीरता से ध्यान दिया गया था। 29 मई 1968 को आर्थिक और सामाजिक परिषद ने पर्यावरणीय मुद्दों को एक विशिष्ट रूप में अपने एजेंडे में शामिल किया और मानव पर्यावरण सम्बंध पर पहला संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन आयोजित करने का फैसला किया गया जिसे बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा इसका समर्थन किया गया।
1972 में विश्व के पहले पर्यावरण सम्मेलन को याद रखने एवं लोगों के पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिये विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का संकल्प लिया गया।

(लेखक पर्यावरण विज्ञान में स्नात्कोत्तर एवं यूजीसी नेट हैं। विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिये पर्यावरण विज्ञान पढाते हैं। इनके पर्यावरण, ऊर्जा एवं स्वास्थ्य सम्बंधी विषयों पर आलेख प्रकाशित होते रहे हैं। शोध पत्रिका ‘सभ्यता सम्वाद’ के कार्यकारी सम्पादक हैं। स्वास्थ्य सम्बंधी विषयों पर कार्य करने वाली संस्था स्वस्थ भारत के न्यासी हैं।)

Related posts

TEN THINGS PM MODI MUST DO TO SAVE THE INDIAN ECONOMY FROM COVID19

Ashutosh Kumar Singh

स्वस्थ भारत यात्रियों का आंध्रप्रदेश में प्रवेश

Ashutosh Kumar Singh

चीनी वायरस के जाल में फंसती दुनिया

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment