स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

झारखंड के गांवों के बच्चों में ब्रेन मलेरिया का प्रकोप

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। झारखंड के गोड्डा जिले के छह गांवों में सौ से भी ज्यादा बच्चे ब्रेन मलेरिया और प्लाज्मोडियम मलेरिया से संक्रमित मिले हैं। सभी संक्रमित पहाड़िया नामक आदिम जनजाति समुदाय के हैं। पिछले एक हफ्ते में सात बच्चों की मौत हो चुकी है। हाल ही 16 गांवों में बीमारी के मास सर्वे के लिए कैंप लगाया गया है। प्रभावितों को दवाइयां, मेडिकेटेड मच्छरदानी और चिकित्सा किट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। अभियान के लिए कुल 15 मेडिकल टीमों का गठन किया गया है। कैंपों में कुल 233 मरीजों की जांच की गई। इनमें से 88 ब्रेन मलेरिया से संक्रमित पाए गए। आठ बच्चों में पीवी (प्लाज्मोडियम) मलेरिया के लक्षण मिले। बीमारी फैलने की सूचना सबसे पहले विश्व आदिवासी अखिल एभोन संगठन के संजय किस्कू द्वारा जिला प्रशासन को दी गई।

महाराष्ट्र में मिले जीका वायरस के मामले

महाराष्ट्र में जीका वायरस एक बार फिर से सिर उठाने लगा है। वहां अब तक 10 मामले सामने आ चुके हैं। पुणे से 9 संदिग्ध मरीजों के सैंपल जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NAV) के पास भेजे गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पुष्टि की है। इनमें से चार मामले कोल्हापुर, दो-दो मामले मुंबई और इचलकरंजी में जबकि एक-एक मामले पंढरपुर और पुणे में मिले। जीका वायरस के ताजा प्रकोप को लेकर मुंबई में भी टास्क फोर्स को अलर्ट पर रखा गया है।

हरियाणा में कैंसर पीड़ितों को पेंशन

हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार अपने कैंसर पीड़ित नागरिकों को पेंशन देने जा रही है। पेंषन की रकम हर महीने 2750 रुपए है। कैंसर के स्टेज तीन और चार के मरीज को ताउम्र इसका फायदा मिलेगा। पेंशन का लाभ उन मरीज़ों को भी मिलेगा जिन्हें ब्रेन ट्यूमर की समस्या है। इसका लाभ लेने के लिए हरियाणा का मूल निवासी होना जरूरी है। पात्रता के लिए आयु की कोई पाबंदी नहीं है। पीड़ित की सालाना पारिवारिक आय तीन लाख रुपये तक होनी चाहिए।

Related posts

चाय बागान के दुश्मन कीटों के विरुद्ध नया जैविक अस्त्र

admin

कोविड काल के अनुभव और भविष्य की चिकित्सा पद्धतियां विषय पर महामंथन 2 को

admin

न चेते तो आयेगी कैंसर से मौत की बड़ी तबाही

admin

Leave a Comment