स्वस्थ भारत मीडिया
आयुष समाचार

देश में कुल 525 हैं आयुष महाविद्याल!

ayushहाल ही में भारतीय चिकित्सा पद्धति को विस्तारित करने के लिए आयुष मंत्रालय बनाया गया है। आयुष मंत्रालय के अंतर्गत आयुर्वेद, योग-प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी चिकित्सा पद्धति, सिद्ध चिकित्सा व होमियोपैथ चिकित्सा पद्धति आती है। इन छह पद्धतियों को विस्तारित करने के लिए भारत में कुल 525 महाविद्यालय हैं। आयुर्वेद के 281, यूनानी के 44, सिद्ध के 09 और होमियोपैथ के 191 महाविध्यालय हैं। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता हैं कि इस देश में भारतीय चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देने के लिए क्या किया गया है! संपादक
क्या कहते हैं आयुष राज्य मंत्री श्रीपद येस्सो नाइक…
sripad yesso naikस्‍वाथ्‍य सेवाएं राज्‍य सूची का विषय हैं अत: हर राज्‍य में आयुष चिकित्‍सकों के लिए विनियामक संस्‍थाएं हैं। लेकिन भारत सरकार ने इन चिकित्‍सकों के लिए दो विनियामक संस्‍थाएं स्‍थापित की हैं। भारतीय चिकित्‍सा परिषद (सीसीआईएम) भारतीय केन्‍द्रीय चिकित्‍सा परिषद अधिनियम 1970 के अंतर्गत शिक्षण संस्‍थानों का विनियमन करती है और आयुर्वेद, यूनानी और सिद्ध चिकित्‍सा पद्धतियों तथा केन्‍द्रीय होमियोपैथी परिषद ( होमियोपैथी केन्‍द्रीय परिषद अधिनियम 1973 के अंतर्गत काम कर रही) ये दोनों संस्‍थाएं शिक्षण संस्‍थानों और चिकित्‍सकों के मामले में विनियामक का काम करती हैं। फिलहाल, योग और प्राकृतिक चिकित्‍सा औषधिरहित चिकित्‍सा पद्धतियां हैं, अत: इनका विनियमन नहीं किया जाता।  यह जानकारी आज राज्‍यसभा में आयुष राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्रीपद येस्‍सो नायक ने एक लिखित उत्‍तर में दी।
 
आयुर्वेद, यूनानी, सिद्ध और होमियोपैथी महाविद्यालयों का 2014-15 शिक्षण वर्ष के दौरान राज्‍य/ संघ शासित प्रदेशवार विवरण
 

क्रमसंख्‍याराज्‍य/संघ शासित प्रदेशआयुर्वेदिक महाविद्यालयों की संख्‍यायूनानी महाविद्यलयों की संख्‍यासिद्ध महाविद्यालयों की संख्‍याहोमियोपैथी महाविद्यालयों की संख्‍याकुल आयुष महा विद्यालय
आंध्र प्रदेश020100069
अरुणाचल प्रदेश000000011
असम010000034
बिहार0804001527
चंडीगढ़010000012
छत्‍तीसगढ़040100038
दिल्‍ली020200026
गोवा010000012
गुजरात1300001730
हरियाणा080000019
हिमाचल प्रदेश020000013
जम्‍मू/कश्‍मीर010200003
झारखंड010000045
कर्नाटक5905001175
केरल1700010523
मध्‍य प्रदेश1804001941
महाराष्‍ट्र68060049123
ओडीशा0600000612
पांडीचेरी010000001
पंजाब1300000417
राजस्‍थान1102000821
तमिलनाडु0501081024
तेलंगाना050200007
उत्‍तर प्रदेश2413001047
उत्‍तराखंड060000028
पश्चिम बंगाल0401001217
जोड़ :2814409191525

 
 
 
संदर्भ-पीआईबी/9 दिसंबर/2014
 

Related posts

बिहार भवन में गर्मजोशी से स्वागत

आशुतोष कुमार सिंह

जनऔषधि के समर्थन में है तेजपुर के डॉक्टर

बॉलीवुड के इन कोरोना योद्धाओं को प्रणाम

Leave a Comment