स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

दावा : चीन से ही दुनिया भर में फैला कोरोना वायरस

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। जैसी उम्मीद थी वैसा ही साबित हुआ। अमेरिका की एक रिर्पोट में बताया गया है कि दुनिया भर में तबाही मचाने वाला कोरोना चीन के लैब से ही निकला था। हालांकि रिपोर्ट इस बारे में कंफर्म नहीं है कि यह अनजाने में हुआ या साजिषन।

अमेरिकी रिपोर्ट में दावा

2020 में कोरोना ने भयावह रूप धारण किया। 2019 में चीन खुद इसे झेल रहा था और तभी से इसकी उत्पत्ति को लेकर चीन संदेह के घेरे में रहा वैसे चीन की ओर से हमेषा खंडन ही आया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका सीनेट कमेटी ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसका शीर्षक है-कोविड-19: महामारी की उत्पत्ति का विश्लेषण। इसमें यह भी कहा गया है कि हो सकता है जानबूझकर वायरस को जन्म ना दिया गया हो लेकिन यह मानवीय भूल, मशीनी खराबी, किसी जानवर पर प्रयोग का परिणाम हो सकता है।

असावधानी भी संभव

सीनेट की हेल्थ एजुकेशन, लेबर ऐंड पेंशन कमेटी का कहना है कि वुहान इंस्टिट्यूट ऑफ वायरॉलजी से ही यह वायरस लीक हुआ। शोध के दौरान सावधानी ना रखने की वजह से ऐसा हुआ था। ट्रांसमिशन के पैटर्न का विश्लेषण करने के बाद कमेटी ने कहा है कि जानवरों से ही यह तेजी से फैला है और वुहान के सीफूड मार्केट से इसका प्रसार तेजी से हुआ। यह रिपोर्ट वुहान इंस्टिट्यूट ऑफ वायरॉलजी के सुरक्षा के मानकों और एपिडेमियोलॉजी के विश्लेषण के आधार पर जारी की गई है।

ऐसे हुआ होगा लीक

रिपोर्ट में कहा गया है कि वुहान के इंस्टिट्यूट में भविष्य की महामारियों से सुरक्षा के लिए रिसर्च चल रही थी। यह इंस्टिट्यूट 2004 से ही रिसर्च कर रहा था। इस क्षेत्र में चमगादड़ों में SARS मिला था और कोरोना वायरस इससे ही मिलता-जुलता था। बताया जाता है कि इसी सार्स-कोव-2 वायरस को रिसर्च के लिए लैब में लाया गया था। इसके बाद यह लैब से लीक हो गया।

Related posts

बिहार में बनेंगे सात नये अस्पताल

admin

डॉ. जे.एल.मीणा को मिला ‘प्राउड मेकर ऑफ इंडिया अवार्ड’, केन्द्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने दिया सम्मान

admin

4 करोड़ भारतीय हुए Long covid के शिकार

admin

Leave a Comment