स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

सभी एम्स में ICMR-AYUSH शोध केंद्र बनाने की प्रक्रिया शुरू

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। एकीकृत चिकित्सा मॉडल को विस्तार देते हुए सरकार ने सभी एम्स में ICMR-आयुष शोध केंद्र स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इससे आने वाले दिनों में कैंसर, श्वसन संक्रमण, लिवर सिरोसिस सहित कुल 30 तरह की बीमारियों को लेकर वैज्ञानिकों की टीमें कार्य करेंगी। इनका एलोपैथी के साथ आयुष इलाज भी तलाशा जाएगा।

हाल ही हुआ था करार

खबर के मुताबिक एकीकृत चिकित्सा अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद और केंद्रीय आयुष मंत्रालय के बीच एक करार हुआ था। इसके मुताबिक शैक्षणिक सत्र 2024 से खुलने वाले नए मेडिकल कॉलेजों में एकीकृत चिकित्सा का एक अलग से विभाग होगा। साथ ही सभी एम्स में एकीकृत स्वास्थ्य अनुसंधान केंद्र की स्थापना की जाएगी। सभी कागजी कार्यवाही के बाद ICMR ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है।

इन बीमारियों पर होगा शोध

एम्स में एलोपैथी और आयुष चिकित्सा के जरिये जिन बीमारियों की एकीकृत चिकित्सा सेवाओं की खोज करनी है, उनमें रोगाणुरोधी प्रतिरोध, कैंसर, एनीमिया और सूक्ष्म पोषक तत्व की कमी, रूमेटाइड गठिया, टीबी, मधुमेह, बचपन का कुपोषण (अल्पपोषण, स्टंटिंग, कमजोरी, मोटापा), सोरियाटिक गठिया, वेक्टर जनित रोग, क्रोनिक लीवर, मातृ स्वास्थ्य (प्रसवपूर्व और प्रसवोत्तर), मल्टीपल स्क्लेरोसिस, क्रोनिक श्वसन रोग, तंत्रिका संबंधी विकार और ऑटोइम्यून विकार शामिल हैं।

200 करोड़ रुपये का आवंटन

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस प्रोजेक्ट के लिए सरकार से करीब 200 करोड़ रुपये की अनुमति मिली है। प्रत्येक एम्स को केंद्र की स्थापना के लिए छह से 10 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे। जिन 30 बीमारियों की सूची तैयार की है, इनमें से अलग-अलग टीमें शोध करेंगी। इस सूची में बीमारियों की संख्या बढ़ सकती है। सरकार ने इस पूरे प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी ICMR के साथ आयुष मंत्रालय के केंद्रीय आयुर्वेदीय विज्ञान अनुसंधान परिषद को सौंपी है।

Related posts

अस्पतालों में भीड़ से बचायेगा ये पोर्टल

admin

विश्वमंगल के लिए एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य जरूरी : केंद्रीय मंत्री

admin

स्वस्थ भारत यात्रा पॉण्डीचेरी

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment