स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

केरल के आयुष संस्थान को मिली NABL की मान्यता

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। पंचकर्म के लिए राष्ट्रीय आयुर्वेद अनुसंधान संस्थान (NARIP), चेरुथुरुथी, त्रिशूर, केरल के जैव रसायन और विकृति विभाग ने अपनी नैदानिक प्रयोगशाला सेवाओं के लिए NABLM (ईएल) टी की मान्यता प्राप्त किया है। NARIP आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसंधान परिषद के तहत प्रमुख अनुसंधान संस्थानों में से एक है। अपनी नैदानिक प्रयोगशाला सेवाओं के लिए NABL प्रत्यायन प्राप्त करने वाला सीसीआरएएस के तहत यह पहला संस्थान है। प्रोफेसर रबीनारायण आचार्य, महानिदेशक, CCRAS ने 7 जून, 2022 को एक कार्यक्रम के दौरान NABL मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला का उद्घाटन किया।

संस्थान को मिली बधाई

महानिदेशक ने बताया कि प्रयोगशाला मान्यता एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से एक आधिकारिक निकाय तीसरे पक्ष के मूल्यांकन और निम्नलिखित अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर विशिष्ट परीक्षणों के लिए तकनीकी क्षमता की औपचारिक मान्यता देता है। प्रमाणन परीक्षण और कैलिब्रेशन प्रयोगशालाओं के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड द्वारा दिया जाता है। एनएआरआईपी टीम के प्रयासों को स्वीकार करते हुए प्रोफेसर आचार्य ने कहा, “मैं इस संस्थान के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को उनके समर्पण और एनएबीएल मान्यता प्राप्त करने के लिए लगातार प्रयासों के लिए बधाई देता हूं। मुझे उम्मीद है कि टीम अच्छा काम करती रहेगी।‘‘

गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा का वादा

NABL (एंट्री लेवल) टेस्टिंग लैब्स का प्रमाण पत्र एनएआरआईपी-जैव रसायन और पैथोलॉजी विभाग को 14 अप्रैल, 2022 को जारी किया गया है। प्रयोगशाला की यह मान्यता सुनिश्चित करती है कि नागरिकों को विशेष रूप से गांवों, छोटे शहरों में रहने वाले लोगों के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा मिले। एक आयुर्वेद अनुसंधान संस्थान के रूप में इस मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला से जारी वैज्ञानिक डेटा वैज्ञानिक समुदायों के बीच इसकी सटीकता और विश्वास प्रदान करता है। अधिकारियों के अनुसार, एक वर्ष में NARIP की ओपीडी-आईपीडी सेवाओं का लाभ लेने वाले लगभग 80,000 व्यक्तियों की बड़ी संख्या को देखते हुए मान्यता महत्वपूर्ण है। इसके अलावा विभिन्न अनुसंधान परियोजनाओं, आउटरीच चिकित्सा शिविरों आदि पर काम करने वाले वैज्ञानिक समुदायों के सदस्य भी मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं से लाभान्वित होते हैं। डॉ. एन. थामिज सेल्वम, सहायक निदेशक-जैव रसायन ने बताया कि प्रयोगशाला उन्नत उपकरणों जैसे पूर्ण स्वचालित जैव रसायन विश्लेषक, पूरी तरह से स्वचालित हेमेटोलॉजी विश्लेषक, एलिसा सिस्टम के साथ आवधिक कैलिब्रेशन से सुसज्जित है।

Related posts

खुशखबरीः कोविड-19 के परीक्षण के लिए भारतीय वैज्ञानिकों ने विकसित की पेपर-स्ट्रिप किट

Ashutosh Kumar Singh

कोविड-19 से भारत के इन पांच हिंदी भाषी राज्यों में हुई 25% से ज्यादा मौतें

Ashutosh Kumar Singh

कोरोना और हम विषय पर वेबिनार आयोजित

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment