स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लिए ऑनलाइन डैशबोर्ड लॉन्च

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (ABDM) की अपनी प्रमुख योजना के तहत एक सार्वजनिक डैशबोर्ड लॉन्च किया है। इस मिशन के तहत मुख्य रजिस्ट्रियों-आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता (ABHA) संख्या, हेल्थकेयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री (HPR) और स्वास्थ्य सुविधा रजिस्ट्री (HFR) पर विस्तृत जानकारी देगा।

स्वास्थ्य संबंधी सारा डाटा एक साथ

डैशबोर्ड के अनुसार 30 मई 2022 तक सृजित किए गए एबीएचए (जिसे पहले स्वास्थ्य आईडी के रूप में जाना जाता था) की कुल संख्या 22.1 करोड़ है। 16.6 हजार से अधिक स्वास्थ्य कर्मी, 69.4 हजार से अधिक स्वास्थ्य सुविधाओं को इसके तहत पंजीकृत किया गया है। 1.8 लाख से अधिक स्वास्थ्य रिकॉर्ड पहले से ही जुड़े हुए हैं और हाल ही में संशोधित ABDA ऐप को 5.1 लाख से अधिक लोगों ने डाउनलोड कर लिया है।

डाटा तक सुगमता से पहुंच

एनएचए के CE0 डॉ. आर. एस. शर्मा ने सार्वजनिक डैशबोर्ड लाने के पीछे की सोच पर विस्तार से बताते हुए कहा-ABDM सुगमता के साथ पहुंच, पारदर्शिता, समावेशिता और अंतर-संचालन के सिद्धांतों पर बनाया गया है। अब इस योजना से संबंधित अद्यतन जानकारी को पब्लिक डोमेन में रहेगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी जरूरतमंदों के पास पारदर्शी तरीके से डेटा तक पहुंच हो। यह ABDM इकोसिस्टम के भागीदारों द्वारा की गई प्रगति की एक स्पष्ट तस्वीर भी देता है क्योंकि हमने विभिन्न भागीदारों द्वारा बनाए गए एबीएचए की संख्या के साथ-साथ मंचवार जुड़े स्वास्थ्य रिकॉर्ड की संख्या से संबंधित डेटा शामिल किया है।

अन्य ऐप भी संलग्न

उनके मुताबिक ABDM सार्वजनिक डैशबोर्ड एबीएचए संख्या सृजन सुविधा कई लोकप्रिय डिजिटल स्वास्थ्य ऐपं जैसे CO-WIN, पीएमजेएवाई, आरोग्य सेतु, आंध्र प्रदेश सरकार, ई-सुश्रुत रेलवे अस्पताल आदि के माध्यम से भी उपलब्ध है। एबीडीएम डैशबोर्ड प्रत्येक भागीदार के प्रदर्शन और प्रत्येक भागीदार ऐप द्वारा जुड़े स्वास्थ्य रिकॉर्ड की संख्या को भी दिखाता है। हितधारक ABDM वेबसाइट या सीधे https//dashboard.abdm.gov.in/abdm/ से ABDM सार्वजनिक डैशबोर्ड तक आसानी से पहुंच सकते हैं। डैशबोर्ड में दैनिक आधार पर अस्पतालों, प्रयोगशालाओं आदि जैसी पंजीकृत स्वास्थ्य सुविधाओं की संख्या के साथ-साथ आज तक का संचयी विवरण भी उपलब्ध है।

Related posts

कोरोना से हुई मौतों पर WHO और भारत में ठनी

admin

भविष्‍य से जुड़ा हैं बालिका स्वास्‍थ्‍य का चिंतन ''स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज''

Ashutosh Kumar Singh

द लांसेट : जलवायु परिवर्तन से खाद्य उत्पादन पर पड़ने वाला प्रभाव वर्ष 2050 तक ले सकता है 05 लाख अतिरिक्त लोगों की जान

Leave a Comment