स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY

धूम्रपान की आदत से छुटकारा दिलाने में होम्योपैथी कारगर

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर खास
डॉ. ए. के. गुप्ता

इस वर्ष विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर थीम है पर्यावरण की रक्षा करें। भारत में हर साल लगभग 6.5 लाख मौतें धूम्रपान के कारण होती हैं। मादक पदार्थों की लत और दुरुपयोग के खतरे के वर्तमान दौरं में, धूम्रपान एक प्रकार का मामूली दोष माना जाता है। फिर भी अन्य व्यसनों के कारण कुछ अन्य प्रमुख दोषों के प्रवेश के रूप में भी शुरुआत हो सकती है। धूम्रपान, जलने वाले पदार्थ, आमतौर पर तंबाकू से धुएं को बाहर निकालने का कार्य व्यक्तिगत और पर्यावरणीय प्रदूषक भी है। धूम्रपान विरोधी अभियान कभी इतना मजबूत नहीं हुआ जितना आज है, खासकर पश्चिमी देशों में। अनुसंधान और वैज्ञानिकों ने बताया है कि धूम्रपान आज के प्रमुख स्वास्थ्य खतरों में से एक है।

लोगों में जागरूकता का अभाव

औद्योगिक देशों में धूम्रपान कई रोगों, विकलांगता और समय से पहले मौत का प्रमुख कारण है। दुर्भाग्य से हमारे देश में धूम्रपान और इसके जोखिम के बारे में एक आम आदमी की जागरूकता बहुत कम है। लगभग सभी नशा करने वालों में एक सामान्य बात यह पाई जा सकती है कि वे सभी मूल रूप से पहले धूम्रपान करने वाले थे और फिर अन्य शक्तिशाली दवाओं में षिफ्ट हो गए इसलिए मुझे लगता है कि नशामुक्ति के प्रयासों के अलावा बुनियादी धूम्रपान के खिलाफ प्रयास करना आवश्यक है।

बच्चों में भी लत

धूम्रपान के दुष्परिणाम अन्य वायुमंडलीय प्रदूषकों की तुलना में अधिक हैं। यूरोपीय संघ में धूम्रपान के कारण होने वाली बीमारी सभी मौतों का लगभग 15 प्रतिशत है। अधिकांश देशों में धूम्रपान करने वालों का प्रतिशत कम हो रहा है लेकिन हाल के वर्षों में धूम्रपान करने वाली युवतियों की संख्या में, विशेष रूप से पश्चिमी यूरोप और भारत में भी, वृद्धि हुई है। धूम्रपान करने वाले बच्चों में भी वृद्धि हुई है।

औसत आयु में कमी होगी

धूम्रपान को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। सक्रिय (सक्रिय रूप से स्वयं धूम्रपान करना) और निष्क्रिय (धूम्रपान करने वाले से निकटता के कारण धूम्रपान करना)। डब्ल्यूएचओ के अध्ययन के अनुसार भारत में किशोर समूह के 9 फीसद लड़के और 6 फीसद लड़कियां धूम्रपान करने वाले हैं। अधिकांश पुरुष किशोरावस्था में धूम्रपान करना शुरू कर देते हैं। धुआं रहित तंबाकू (तंबाकू चबाना, पाउच और सूंघना, सूई) मुंह की बीमारी और मुंह के कैंसर से होने वाली मौत का एक प्रमुख कारण बनकर उभरा है। औसतन दिन में 20 बार धूम्रपान करने वाला वर्ष में लगभग 70,000 बार तंबाकू के धुएं में सांस ले लेता है। इसलिए यह आश्चर्य की बात नहीं है कि इस तरह के दुरुपयोग से कई बीमारिया जुड़ी हैं। इनमें कैंसर (विशेष रूप से फेफड़े, स्वरयंत्र, मौखिक गुहा, ग्रसनी, अन्नप्रणाली, अग्न्याशय, गर्भाशय ग्रीवा, गुर्दे और मूत्राशय) शामिल हैं। दिल की धमनी का रोग, सेरेब्रोवास्कुलर रोग (स्ट्रोक, इंट्रासेरेब्रल रक्तस्राव) और COAD (क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव एयरवेज डिजीज, जिसमें क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस और एम्फिसीमा शामिल हैं)। यह पाया गया है कि प्रति दिन 15 सिगरेट पीने वाले 30 वर्षीय धूम्रपान करने वाले व्यक्ति की जीवन प्रत्याशा 5 वर्ष से अधिक कम हो जाती है।

हर साल एक लाख मौतें

कई देशों के आंकड़े बताते हैं कि धूम्रपान करने वालों की मृत्यु दर धूम्रपान न करने वालों की तुलना में 70 फीसद अधिक है। 45-54 आयु वर्ग के लोग इसकी चपेट में सबसे ज्यादा आते हैं। धूम्रपान के कारण हर साल लगभग एक लाख मौतें होती हैं। सिगरेट धूम्रपान एक एरोसोल है जो जलते हुए शंकु द्वारा तंबाकू के पत्ते के अधूरे दहन से उत्पन्न होता है। सिगरेट के जलने का तापमान मुंह के टुकड़े पर 30 डिग्री सेल्सियस से लेकर जलने के अंत में 900 डिग्री सेल्सियस तक भिन्न होता है। धुएं में 4,000 से अधिक रसायन होते हैं। उनमें से 43 कार्सिनोजेनिक (कैंसर को बढ़ावा देने वाले) हैं। धुएँ के कुल भार का 92-95 फीसद गैस के रूप में होता है। नाइट्रोजन, ऑक्सीजन और कार्बनडाईऑक्साइड 85 फीसद बनते हैं। शेष गैसें, बिना संघनित वाष्प और छोटे कणों की बूंदें मुख्य चिकित्सा महत्व की हैं। धुएँ के मुख्य घटक टार, निकोटिन और कार्बन मोनोऑक्साइड हैं। हेरोइन और कोकीन की तुलना में निकोटीन अत्यधिक विषैला और व्यसनी है। यह नर्वस सिस्टम को उत्तेजित करने के साथ-साथ डिप्रेस भी करता है। यह हृदय की गति, उत्पादन, मांसपेशियों की शक्ति, उत्तेजना और ऑक्सीजन की खपत को बढ़ाता है। टार में मौजूद कैंसर तत्व जो कैंसर के गठन की शुरुआत करते हैं। इनमें पॉलीन्यूक्लियर एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन (बेन जिलपाइरिन), टार (ट्रेस एलिमेंट्स), बीटा-नेफ्थाइलामाइन (हाइड्राजिन) और एन-नाइट्रोसामाइन (विनाइल क्लोराइड) जैसे रसायन शामिल हैं। इसके अलावा हृदय रोग, दिल का दौरा, फेफड़े का कैंसर, परिधीय संवहनी रोग आदि प्राणलेवा रोग हो जाते है।

निष्क्रिय धूम्रपान के प्रभाव: अजन्मे बच्चे पर तंबाकू के धुएं के प्रभावों को अब अच्छी तरह से सूचीबद्ध किया गया है। कई अध्ययनों ने सिगरेट पीने और जन्म के समय कम वजन वाले बच्चों की बढ़ती घटनाओं, सहज गर्भपात, मृत जन्म और अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम (एसआईडीएस) के बीच संबंध दिखाया है।

गर्भावस्था में जटिलता

इसके अलावा, गर्भावस्था की कुछ जटिलताएँ, जिनमें से कुछ जानलेवा हो सकती हैं (जैसे बढ़ा हुआ रक्तचाप), धूम्रपान से भी जुड़ी हैं। अनैच्छिक धूम्रपान (निष्क्रिय धूम्रपान) वयस्कों और बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है जो हाल के अध्ययनों के अनुसार फेफड़ों की समस्याओं के विकास का एक उच्च जोखिम चलाते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में निष्क्रिय धूम्रपान में फेफड़े के कैंसर के विकास का 1.5 फीसद सापेक्ष जोखिम होता है। दिल के दौरे और मस्तिष्क-संवहनी रोगों के जोखिम भी बढ़ जाते हैं। मृत्यु का संबंध धूम्रपान शुरू करने की उम्र, सिगरेट की खपत की संख्या और सांस लेने वाले धुएं की मात्रा से है। यह बदलता रहता है-यदि धूम्रपान कम उम्र में शुरू कर दिया गया है।-प्रति दिन धूम्रपान करने वाली सिगरेट की संख्या तक।-अगर धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वाले धूम्रपान करते हैं। धूम्रपान गर्भधारण में देरी करता है। गर्भवती महिलाएं न केवल धूम्रपान से खुद को नुकसान पहुंचाती हैं बल्कि भ्रूण, समय से पहले मौत और बच्चे के विकास को प्रभावित करती हैं। यह देखा गया है कि धूम्रपान करने वाले माता-पिता के बच्चे धूम्रपान न करने वाले माता-पिता के बच्चों की तुलना में बहुत कम उम्र में धूम्रपान करते हैं। जिन परिवारों में एक या एक से अधिक लोग धूम्रपान करते हैं, उनमें श्वसन संबंधी बीमारियों जैसे बार-बार होने वाली खांसी, ब्रोंकाइटिस और दमा के प्रकरणों से पीड़ित बच्चे अधिक प्रचलित हैं। पति, पत्नी, चाचा या परिवार के अन्य सदस्य आदि घर पर धूम्रपान करते हैं। क्या आप अपने बच्चों को धूम्रपान के कारण पीड़ित देखना चाहेंगे?

धूम्रपान छोड़ने से लाभ

धूम्रपान छोड़ने के बाद धीरे-धीरे मृत्यु दर में कमी आती है। फेफड़े और स्वरयंत्र के कैंसर का खतरा एक से दो साल बाद कम होने लगता है। धूम्रपान बंद करने के एक साल बाद दिल का दौरा पड़ने के जोखिम में तुरंत कमी आती है। यह भी माना जाता है कि COAD विकसित होने का जोखिम कम हो जाता है। किसी भी स्तर पर धूम्रपान छोड़ना हमेशा श्वसन प्रणाली को हुए नुकसान को कम करने या अन्यथा के रूप में फायदेमंद होता है।

प्रेरणा देनी होगी

कई लोग इस आदत को छोड़ना चाहते हैं लेकिन किसी न किसी कारण से खुद को ऐसा करने में असमर्थ महसूस करते हैं। धूम्रपान करने वालों में अधिकांष ने छोड़ने की पहल नहीं की है। उन्हें शुरू में अपने डॉक्टरी सलाह और प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है। चूंकि किसी भी व्यसन के उपचार में प्रेरणा प्रमुख चीज है। चिकित्सक सबसे अच्छा है जो एक ऐसे रोगी वाले को नियमित बातचीत में मना सकता है। जब तक किसी को धूम्रपान छोड़ने के लिए प्रेरित नहीं किया जाता, तब तक कोई भी उनसे संपर्क नहीं कर सकता। हमें एक मरीज से उसकी धूम्रपान की आदत के बारे में नियमित पूछना चाहिए। याद रखें कि यह मनो-सामाजिक ताकतें हैं जो धूम्रपान की शुरुआत करती हैं और बाद में नशीली दवाओं पर निर्भरता और मनोवैज्ञानिक कारक इसे जारी रखते हैं।

ऐसा करके भी देखें

सिगरेट का एक पैकेट न रखें, केवल तभी खरीदें जब धूम्रपान करने की आवश्यकता हो। किसी से मत पूछो या कहो। हर बार जब भी आपको इसकी आवश्यकता महसूस हो, सिगरेट लेने के लिए हमेशा नीचे उतरें क्योंकि इसका आप पर प्रभाव पड़ेगा। धूम्रपान करने के बाद ठूंठ को फेंके नहीं। इसे पारदर्शी जार में रखने की कोशिश करें और देखे। दिन, सप्ताह या महीने आदि के अंत में उन्हें गिनें और इन पर खर्च किए गए प्रयास, समय और धन का विश्लेषण करें। फिर उसी प्रयास, समय और धन के बारे में सोचें जो आपने अपने परिवार और बच्चों के लिए किसी चीज पर खर्च किया है। धूम्रपान न करने वालों के साथ अधिक से अधिक समय बिताने की कोशिश करें। धूम्रपान की आदत से संबंधित किसी भी समस्या के संबंध में अपने चिकित्सक से बेझिझक बात करें। धूम्रपान की आदत को रोकने या कम करने पर कुछ लक्षण उभर सकते हैं जैसेः-चिंता, घबराहट, थकान, चिड़चिड़ापन, एकाग्रता में कमी, अत्यधिक लार, नींद में गड़बड़ी, रक्तचाप में बदलाव।

असरकारी होंगे होम्योपैथिक उपचार

लक्षणों की समग्रता के अनुसार कुछ होम्योपैथिक उपचारों का उपयोग बड़ी सफलता के साथ किया जा सकता है। असफलता के डर के लिए सोरिनम, लाख.कैन। कैलेडियम जो तंबाकू की लालसा को कम करता है और धीरे-धीरे तंबाकू के प्रति अरुचि पैदा करता है। यदि आप धूम्रपान का आनंद लेते हैं तो धूम्रपान न करने के वास्तविक आनंद का आप अनुमान नहीं लगा सकते हैं। आप शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से स्वतंत्र महसूस करेंगे। मुझे यह कहते हुए बहुत खुशी हो रही है कि मेरे बहुत से रोगियों और लोगों ने पहले ही धूम्रपान और गुटखा आदि को छोड़ दिया है। होम्योपैथिक उपचार के साथ ‘‘किक द बट‘‘ कर सकते हैं। होम्योपैथिक दवाएं सिगरेट पीने से रोकने और उससे उत्पन्न लक्षणों से बहुत आवश्यक राहत प्रदान कर सकती हैं। यह उपचार का एक बहुत ही कुशल और सुरक्षित है जो धूम्रपान के बिना स्वस्थ रहने में सहायता करता है।

Related posts

कोविड-19 के खिलाफ रक्त प्लाज्मा थेरैपी की संभावना तलाशता भारत

Ashutosh Kumar Singh

नफरत की वायरस का ऐतिहासिक मूल्यांकन

Ashutosh Kumar Singh

स्वास्थ्य-द्रोहियों को मिले कड़ी सजा!

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment