स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

70 पार वालों को आयुष्मान कार्ड देने की तैयारी

सौ दिनी एजेंडा में और भी बहुत कुछ

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। मोदी-3 सरकार की 100 दिवसीय कार्य योजना में 70 वर्ष और उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को कवर करने के लिए आयुष्मान भारत का विस्तार सर्वोच्च प्राथमिकता पर है। इसके अलावा राष्ट्रीय स्वास्थ्य दावों का आदान-प्रदान शुरू करना और बच्चों के लिए डिजिटल वैक्सीन रिकॉर्ड रखने के लिए U-win शुरू करना जैसी प्रमुख पहल शामिल होने की संभावना है।

पैनल की रिपोर्ट का इंतजार

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा के लोकसभा चुनाव घोषणापत्र का अनावरण करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि 70 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों और ट्रांसजेंडर समुदाय को आयुष्मान भारत योजना में शामिल किया जाएगा। 100 दिवसीय एजेंडे में इसका विस्तार स्वास्थ्य मंत्रालय की सर्वाेच्च प्राथमिकता है। इस योजना का प्रारूप बनाने के लिए मार्च में गठित और नीति आयोग के वीके पॉल की अध्यक्षता वाले विशेषज्ञ पैनल की रिपोर्ट का इंतजार है। इस रिपोर्ट के आने के बाद योजना को और सुगठित किया जा सकता है। इससे छह करोड़ से अधिक वरिष्ठ नागरिकों को मदद मिलेगी क्योंकि चिकित्सा बीमा कंपनियां उनको बीमा नहीं देती हैं।

आरोग्य मैत्री क्यूब्स की होगी तैनाती

स्वास्थ्य मंत्रालय ने खाद्य नियामक FSSAI के तहत चुनिंदा खाद्य व्यवसायों में शीघ्र लाइसेंस जारी करने या पंजीकरण करने और स्वास्थ्य आपात स्थितियों से निपटने के लिए केंद्र सरकार के अस्पतालों में आरोग्य मैत्री क्यूब्स की तैनाती के लिए एक परियोजना भी तैयार की है।

U-win पोर्टल भी पाइपलाइन में

जानकारी के मुताबिक राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य दावा विनिमय (NHCX) शुरू करने का सुझाव दिया है। यह प्लेटफॉर्म अगले महीने तैयार हो जाएगा और इसे पहले 100 दिवसीय लॉन्च का हिस्सा बनने पर विचार किया जा रहा है। मंत्रालय U-win पोर्टल शुरू करने की भी योजना बना रहा है जिसे CO-win कोविड टीकाकरण एप्लिकेशन के लिए तैयार किया गया था। पोर्टल को सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम (UIP) के तहत नियमित टीकाकरण की इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्री बनाए रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

नवजात और गर्भवती की होगी देखभाल

पोर्टल का लक्ष्य हर साल 2.6 करोड़ नवजात शिशुओं और 2.9 करोड़ गर्भवती महिलाओं की देखभाल करना है और उम्मीद है कि यू-विन भारत की अगली टीकाकरण खुराक का ट्रैक रखने की समस्या का जवाब हो सकता है। प्लेटफ़ॉर्म CO-win के साथ एकीकृत है, जहां मोबाइल नंबर का उपयोग करके रिकॉर्ड तक पहुंचा जा सकता है या पंजीकृत किया जा सकता है।

Related posts

कोविड-19: ये 45 डॉक्टर दे रहे हैं निःशुल्क परामर्श

Ashutosh Kumar Singh

दिल्ली एम्स के सिस्टम पर साइबर अटैक की आशंका

admin

Good News For HOMOEOPATHY

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment