स्वस्थ भारत मीडिया
नीचे की कहानी / BOTTOM STORY

हुआ खुलासा : कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट भी

अजय वर्मा

नयी दिल्ली। कोरोना के खिलाफ दुनियाभर में वैक्सीन को प्रभावी हथियार बताया गया। भारत में भी एंटी-कोविड वैक्सीन लगने का अभियान सरकार ने पूरे जोर के साथ चलाया। बाद में बूस्टर भी। वह महामारी में जान बचाने की आपाधापी का दौर था। लेकिन अब पता चल रहा है कि वैक्सीन के भी साइड इफेक्ट हैं। राहत की बात यह है कि ये जानलेवा नहीं निकले।

वैज्ञानिकों न मानी साइड इफेक्ट की बात

सरकार की दो संस्थाओं ने इस बात को माना है कि कोरोना रोधी वैक्सीन के एक नहीं बल्कि कई दुष्प्रभाव हैं। इस बारे में पुणे के एक व्यवसायी प्रफुल्ल सारदा ने RTI दाखिल की। इसके जवाब में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने चैंकाने वाला खुलासे किए हैं। कोरोना रोधी 5 वैक्सीन्स के दुष्प्रभावों पर आरटीआई के जवाब में आईसीएमआर डॉ. लियाना सुसान जॉर्ज और CDSCO के सुशांत सरकार ने कई प्रकार के दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी दी है।

किसके क्या साइड इफेक्ट्स

Covishield : यह खुलासा हुआ है कि कोविशिल्ड लगाने वाले लोगों में लगातार उल्टी, लगातार पेट दर्द, सांस फूलना, सीने में दर्द, दौरे, आंखों में दर्द, धुंधली दृष्टि, उल्टी के साथ पेट दर्द, सिरदर्द, लाल धब्बे या खरोंच, किसी विशेष पक्ष या शरीर के अंगों की कमजोरी, बॉडी पेन या हाथ दबाने पर सूजन की दिक्कत सामने आईं हैं। लेकिन स्थायी रूप से नहीं।
Covovax :  इसी तरह कोवोवैक्स में इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द, सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, इंजेक्शन वाली जगह पर खुजली, थकान, अस्वस्थता, बढ़े हुए लिम्फ नोड्स, पीठ दर्द, उल्टी की मतली, ठंड लगना, बुखार, शरीर में दर्द या अंगों में अत्यधिक दर्द, मांसपेशियों में दर्द से ग्रसित हो सकते हैं।
Covaxin :  कोवैक्सिन के हल्के लक्षणों में पसीना, सर्दी, चक्कर आना, उल्टी, बुखार, खांसी, शरीर में दर्द, चक्कर आना, साइट दर्द, पेट में दर्द, मतली, कंपकंपी, सिरदर्द और थकान हो सकता है। Sputnik v के दुष्प्रभाव के रूप में सामान्य बेचैनी, माइलियागिया, शक्तिहीनता, अपच, भूख न लगना, सिरदर्द या कभी-कभी बढ़े हुए क्षेत्रीय लिम्फ नोड्स, इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द, मतली, ठंड लगना, बुखार होता है।

Related posts

जानिए इस साल पद्म सम्मान पाने वाले डॉक्टरों को

admin

कोविड-19 के खिलाफ रक्त प्लाज्मा थेरैपी की संभावना तलाशता भारत

Ashutosh Kumar Singh

पटना के 6 विद्यार्थी बने जनऔषधि मित्र

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment