स्वस्थ भारत मीडिया
Front Line Article SBA विशेष विमर्श

स्वास्थ्य पत्रकारिता का ध्वजवाहक है ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’

स्वस्थ भारत डॉट इन के पांच वर्ष

स्वस्थ भारत डॉट इन ने आज अपना 5 वर्ष पूर्ण किया है। इस अवसर पर स्वस्थ भारत डॉट इन के पांच वर्ष के कार्यों की समीक्षा कर रहे हैं डॉ.रामशंक  ( सहायक प्राध्यापक,पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग ,आईआईएमटी कॉलेज, गौ. बु. नगर) 

)स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का निवास होता है। स्वस्थ शरीर, स्वस्थ विचार एवं स्वस्थ बुद्धि का मूर्त रूप ही आरोग्य है। आरोग्य वह अवस्था है जिसमें हम प्रकृति एवं वातावरण से सामंजस्य स्थापित करते हुए जीवन का आनंद लेते हैं। हम वास्तविक रूप से तभी स्वस्थ होते हैं, जब हम स्वयं को मानसिक, भौतिक, भावात्मक, आध्यात्मिक एवं सामाजिक स्तर पर स्वस्थ अनुभव करते हैं। इसी कारण हम सभी स्वस्थ रहना चाहते हैं।

परंतु आज के इस भागम-भाग समय में अपने को स्वस्थ रख पाना एक चुनौतीपूर्ण दायित्व है। आज का प्रत्येक नागरिक बेहतर स्वास्थ्य का यह आश्वासन भी चाहता है कि स्वास्थ्य संगठन/संस्था या सरकार उसके स्वास्थ्य का ध्यान रखे। उसके साथ आत्मीयतापूर्ण संप्रेषण करे ताकि वह अपने स्वास्थ्य को बेहतर रख सके और इस आवश्यकता की पूर्ति के लिए विविध प्रकार के स्वास्थ्य कार्यक्रमों का आयोजन भी किए जाते रहे हैं। स्वास्थ्य के आयोजनों में उन समस्त कौशलों का समावेश होता भी है जिसके माध्यम से एक बेहतर स्वास्थ्य के लिए एक माहौल विकसित कर सके लेकिन यह सब मीडिया के बगैर असंभव प्रतीत होने लगता है क्योंकि हमारा मीडिया यानी मुख्यधारा का मीडिया स्वास्थ्य की खबरों यानी इसके जागरूकता के पक्ष से जुड़े समाचारों, आलेखों एवं चिंतन से दूर खड़ा दिखाई देता है। समीक्षक यह बिलकुल नहीं कह रहा कि मुख्यधारा का मीडिया उदासीन है लेकिन यह जरूर है कि जितना उसे प्रयास करना चाहिए, वह नहीं कर रहा या कर पा रहा है।

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़ी खबरों, आलेखों और विचार के वैकल्पिक मीडिया के एक मंच के रूप में ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ है जो निर्बाध स्वास्थ्य और सेहत की खबरों और विचारों को जनमानस तक पहुंचाने का कार्य कर रहा है। स्वस्थ भारत के लिए प्रतिबद्ध व्यक्ति जरूर दूर द्रष्टा के रूप है जो भारत को स्वस्थ बनाने के लिए संकल्पबद्ध है। स्वस्थ भारत डॉट इन स्वास्थ्य विषय पर समाचार एवं विचार का राष्ट्रीय मंच है। इसे हम स्वस्थ की खबरों का एक वैकल्पिक मंच भी कह सकते हैं। मुख्यधारा की मीडिया ने जब स्वास्थ्य विषयक खबरों, आलेखों तथा संपादकीय को अपने पब्लिसिटी खांचे से दूर कर काम की खबरें न मानकर इन खबरों को अपने एजेंडे से बाहर कर दिया उस दौरान स्वस्थ चिंतन में प्रतिबद्ध और स्वास्थ्य की खबरों से देश को जोड़ने के लिए पत्रकार आशुतोष कुमार सिंह ने इसकी स्थापना एक वैकल्पिक मंच के रूप में कर शुरुआत की। 2 अक्टूबर 2014 को मुम्बई के प्रेस क्लब में स्वस्थ भारत डॉट इन का लोकार्पण हुआ। तब से अब तक स्वस्थ भारत डॉट इन ने उन सभी खबरों को आवाज़ दी है, जिन्हें दबाने की कोशिश की गई।

स्वस्थ भारत अभियान का संकल्प

भारत स्वस्थ हो यह सपना देश का हर व्यक्ति देख रहा है, लेकिन भारत को स्वस्थ कैसे बनाया जाए ? इसके लिए जागरूक और संकल्पित जनता बहुत ही कम है। समाज के प्रति जागरूक एवं सजग व्यक्ति हों या सरकारें सभी यह मानती हैं कि स्वास्थ्य एक गंभीर समस्या के रूप में उभर कर आ रहा है लेकिन इसका निवारण किया कैसे जाय ? हमारा स्वास्थ्य खराब क्यों हो रहा है ? हमारी सरकारें हमारे प्रति कितना प्रतिबद्ध हैं और स्वयं हम कितना जिम्मेदार हैं अपने स्वास्थ्य के प्रति? भारत की जनता के स्वास्थ्य के प्रति मेरी क्या ज़िम्मेदारी? इन्हीं स्वास्थ्य संदर्भों के प्रति ऊहापोह के प्रश्नों के समाधान के लिए 22 जून, 2012 को स्वस्थ भारत अभियान की संकल्पना की गई। ताकि इस अभियान के अंतर्गत जनमानस से जुड़े विषयों को लेकर लोगों के बीच में जया जा सके।

स्वस्थ भारत डॉट इन का उद्भव

अभियान का मकसद लोगों को स्वास्थ्य से जुड़े विभिन्न विषयों से लोगों को जागरूक करना था। लेकिन आज यदि अगर कोई स्वास्थ्य की खबरों पर कोई विचार, समाचार या आलेख लिखना भी चाहे तो क्या वह मुख्यधारा की मीडिया में स्थान पाएगा ? यह कहा जा सकता है कि मुख्यधारा की मीडिया में उतना स्थान नहीं मिलेगा जितनी खबर को मिलनी चाहिए। यानी अब एक एक ऐसे मंच की तलाश थी जो स्वास्थ्य विषयक खबरों, आलेखों और विचारों को स्थान दे सके। इसी मंतव्य को स्मरण में रख सितंबर में स्वस्थ भारत डॉट इन नाम से एक न्यूज पोर्टल की योजना बनाई गयी।  2 अक्टूबर, 2014 को मुंबई के प्रेस क्लब में स्वास्थ्य के प्रति संकल्पित इस ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ पोर्टल का लोकार्पण हुआ। इस वेब पोर्टल का उद्देश्य हिंदुस्तानी अवाम को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना है। उन खबरों को प्रमुखता दी जाती है जिन खबरों को मुख्यधारा की मीडिया में समुचित स्थान नहीं मिल पाता है।

अनुकरणीय स्वास्थ्य सजग व्यक्तित्त्व

स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के संदेश को घर-घर पहुंचाने वाले तथा स्वास्थ्य केन्द्रित सेवा को आंदोलन का रूप गढ़ने वाले आशुतोष कुमार सिंह स्वस्थ भारत डॉट इन मीडिया के संस्थापक हैं साथ ही स्वस्थ भारत (न्यास) चेयरमैन भी हैं। आशुतोष जी स्वास्थ्य क्षेत्र में अपने कार्यों की वजह से लोगों में प्रशंसनीय और अनुकरणीय भी हैं। स्वस्थ भारत मीडिया के संस्थापक आशुतोष कुमार सिंह जी विगत डेढ़ दशक वर्षों से अधिक पत्रकारिता जगत से जुड़े हैं। इसी क्रम में विगत 7 वर्षों से स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत स्वस्थ विषयक चिंतन को बढ़ावा दे रहे हैं। स्वस्थ भारत (न्यास) के अंतर्गत चेयरमैन ने ‘मेडिसिन मैक्सिमम रिटेल प्राइस’ कैम्पेन, ‘नो योर मेडिसिन’ कैम्पेन, ‘जेनरिक लाइये, पैसा बचाइए’ तथा ‘तुलसी लगाइए, रोग भगाइए’ जैसे जनसरोकारि कैम्पेन्स के माध्यम से लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का समावेश कर रहे हैं। जागरूकता की इसी कड़ी में वर्ष 2017 में ‘स्वस्थ बालिका, स्वस्थ समाज’का संदेश लेकर सम्पूर्ण भारत की स्वस्थ भारत यात्रा कर चुके हैं। इक्कीस हजार किलोमीटर की अखिल भारतीय यात्रा में 28 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों की 1 लाख 40 हजार से अधिक बालिकाओं से प्रत्यक्ष रूप से मिलकर न्यास के चेयरमैन स्वस्थ समाज पर चर्चा कर चुके हैं।

आशुतोष कुमार सिंह ने 150 से अधिक शैक्षणिक संस्थाओं स्वास्थ्य विषयों पर विद्यार्थियों को जागरूक करने वाले आशुतोष कुमार सिंह जी मूलतः बिहार के सिवान जिले के रजनपुरा गाँव के रहने वाले हैं। जागरूकता के अगले क्रम तथा स्वस्थ भारत यात्रा की-द्वितीय यात्रा के अंतर्गत ‘जन औषधि पोषण एवं आयुष्मान भारत योजना’के बारे में जनता को जागरूक कर चुके हैं। यह यात्रा इसी वर्ष ‘30 जनवरी, 2019 से 28 अप्रैल, 2019 को सम्पन्न हुई है। तीसरी अखिल भारतीय स्वस्थ भारत यात्रा को मूर्त रूप देने की योजना है। संस्थापक नई पीढ़ी के लिए प्रेरणास्पद हैं। आपने स्वास्थ्य पत्रकारिता के क्षेत्र में एक्टिविज्म  के प्रतिमान को स्थापित किया है।

स्वस्थ भारत मीडिया के अंतर्गत संचालित ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ के विभिन्न प्रभाग

मुख्यधारा का मीडिया अपने प्रसारण/प्रकाशन के माध्यम से आज स्वास्थ्य के क्षेत्र में योगदान करने का प्रयास भी किया है लेकिन वर्तमान में स्वास्थ्य सेवाओं की योजनाओं/कार्यक्रमों के सफल क्रियान्वयन तथा नियोजन पर विशेष ध्यान देना चाहिए जो वह करने में असफल रहा है। स्वास्थ्य रिपोर्टिंग के नाम पर मुख्यधारा मीडिया अस्पतालों पर ही केंद्रित रहता है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य को लेकर बहुत कम जागरूकता है। ग्रामीण जन साफ-सफाई, खानपान को लेकर को लेकर ज्यादा जागरूक नहीं रहते हैं जहां उन्हें उनके स्तर पर जागरूक करना चाहिए वहाँ उन्हें महज जानकारी ही मिल पाती है। जन स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दे लोगों के लिए अहम होते हैं। स्वास्थ्य पत्रकारिता केवल मेडिकल की ही नहीं बल्कि मेडिको सोशल पत्रकारिता भी कही जाती है। इसमें सिर्फ समाचार ही नहीं बल्कि विचार और पुनर्विचार का भी काफी महत्व होता है। स्वास्थ्य पत्रकारिता के लिए तकनीकी और सही जानकारी बहुत जरूरी है। चिकित्सा क्षेत्र की कोई भी अधूरी या गलत जानकारी जानलेवा या भयावह साबित हो सकती है। अतः जागरूकता स्तर को बढ़ाया जा सकता है। 

2 अक्टूबर, 2014 को मुंबई के प्रेस क्लब में स्वास्थ्य के प्रति संकल्पित ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ पोर्टल पर आज 1260 से अधिक स्वास्थ्य एवं सेहत से संबंधित समाचार, आलेख, यात्रा रपट, शोध-रिपोर्ट, विचार आदि प्रकाशित/प्रसारित होने वाला इकलौता समाचार पोर्टल है। गांधी की स्वास्थ्य नीति को अमली जामा पहनाने तथा राष्ट्र को निरोगी एवं स्वस्थ बनाने को संकल्पित यह पोर्टल स्वास्थ्य चेतना के प्रति समर्पित और प्रतिबद्ध है। इस पोर्टल में मुख्यतः स्वस्थ भारत अभियान वीडियो,  आयुष,  यात्रा रपट,  मन की बात,  दस्तावेज,  फार्मा सेक्टर, समाचार आदि प्रभागों के अंतर्गत स्वास्थ्य चेतना से संबंधित समाचार, आलेख, यात्रा रपट, विचार आदि प्रकाशित/प्रसारित होते हैं।

इन प्रभागों के अलावा इस मंच पर अन्य कई श्रेणियों जैसे फ्रंट लाइन आर्टिकल, SBA वीडियो, SBA विशेष, अनकटेगराइज्ड़, वूमेन टायलेट, अस्पताल, आज का स्वस्थ ज्ञान, आयुष, काम की बातें, कैरियर, गैर सरकारी संगठन, चिंतन, चौपाल, दस्तावेज़, फार्मा सैक्टर, बचाव एवं उपाय, मन की बात, यात्रा रपट, रोग, विमर्श, विविध, समाचार, साक्षात्कार, स्वस्थ भारत अभियान, स्वस्थ भारत यात्रा, स्वास्थ्य की बात गांधी के साथ, स्वास्थ्य मित्र, स्वास्थ्य स्कैन  के अंतर्गत विभिन्न विचार, समाचार, आलेख आदि प्रकाशित किए जाते हैं जो स्वास्थ्य के क्षेत्र में जागरूकता और निवारण के स्तर को बढ़ावा देने का प्रयास करते हैं। विभिन्न प्रकार की श्रेणियों में निम्नलिखित प्रकार के लेख, समाचार आदि प्रकाशित हुये हैं –

फ्रंट लाइन आर्टिकल के अंतर्गत उन सभी मुख्य आलेखों, समाचारों तथा विचारों को शामिल किया गया है जो विभिन्न प्रभागों/ श्रेणियों में विभक्त हैं। सभी श्रेणियों के अंतर्गत निम्नलिखित शीर्षकों को प्रमुखता दी गयी है।  इस श्रेणी के अंतर्गत Spinning of charkha is a harbinger of psychological and emotional well-being, स्वास्थ्य की कसौटी से कोसो दूर भारत, जलवायु परिवर्तन : स्वस्थ समाज के लिए खतरा, चिकित्सकों की सुरक्षा : कुछ हम सुधरें कुछ आप, विश्व जनसंख्या दिवस : सीमित संसाधन असीमित जनसंख्या यानी दुख को बुलावा, दिल्ली वालों के लिए स्वास्थ्य के साथ दिल्ली सरकार कर रही खिलवाड़, बिना चेयरमैन के चल रहा है होमियोपैथिक बोर्ड, एनएमसी बिल 2017: चोर-चोर मौसेरे भाइयों के चंगुल में देश की स्वास्थ्य शिक्षा, मोदी के सपनों का बजट, रांची में सम्पन्न हुआ मुर्गी पालन पर राष्ट्रीय संवाद, स्वास्थ्य जागरूकता में साहित्य का योगदान, डाक्टरों के साथ हिंसा सभ्य समाज की निशानी नहीं, यह सुशासन की मौत है!, ठीक हो चुके बच्चों को जीवन भर सता सकता है चमकी बुखार, ग्रीष्म लहर से बढ़ा ओज़ोन प्रदूषण, बिहार में ड्रग इंस्पेक्टर पर हमला, फुर्सत में नहीं स्वास्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य संकट पर रिपोर्टिंग पत्रकारिता को टेटनेस हो गया है, टेटवैक का इंजेक्शन चाहिए, हिंसा की एजी में झुलसते चिकित्सक, पटना से मुजफ्फरपुर पहुँचने में नितीश को लगे 328 घंटे, लोगों ने कहा वापस जाओ, सूरज की गर्मी एवं व्यवस्था की मार से झुलसते मासूम, स्वास्थ्य पहली बार बना चुनावी मुद्दा, स्वस्थ भारत (न्यास) ने लिखा पीएम को पत्र, भारत भारत को स्वस्थ बनाने के लिए दिए सुझाव, स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमारे साथ बहुत प्रयोग एवं खिलवाड़ होते रहे हैं- राम बहादुर राय, ढोल-नगारे एवं फूल वर्षा से द्वारकावासियों ने किया स्वागत, स्वस्थ भारत यात्रा-2 के चौथे चरण का समापन, 14000 किमी की दूरी तय कर लखनऊ पहुँची यात्रा आदि कई शीर्षकों के आधार पर लेखन कार्य किया गया है। लोगों में जागरूकता स्तर को बढ़ाने का भी प्रयास किया गया है।

 शीर्षक ‘1 लाख से ज्यादा लोगों से किया प्रत्यक्ष संवाद, किया नर्सिंग छात्राओ को जनऔषधि, पोषण के बारे में जागरूक, स्वस्थ भारत यात्रा का तीसरा चरण पूरा, यात्रा का चौथा चरण भागलपुर से शुरू होगा, स्वस्थ भारत यात्रियों ने पूरे किए 50 दिन, जनऔषधि के समर्थन में है तेजपुर के डॉक्टर, 18 राज्यों से गुजरकर पहुंचे नगालैंड, एनसी कॉलेज में यात्रियों ने विद्यार्थियों से किया स्वास्थ्य पर संवाद, 10 हजार किमी की यात्रा कर स्वस्थ भारत यात्री पहुंचे गुवाहाटी, दक्षिण भारत सहित 12 राज्यों के बाद प. बंगाल का दौरा, स्वस्थ भारत के लिए जगन्नाथपूरी में की पूजा अर्चना, नागपुर के जीरो माइलस्टोन से दिया स्वास्थ्य का संदेश, सेवाग्राम में स्वस्थ भारत यात्रा-2 का हुआ पहला चरण पूरा, कादरिया इंटरनेशनल में यात्रियों का स्वागत, दक्षिण भारत में सख्त सुरक्षा के बीच हुई पदयात्रा, केरल में जन-जन को दिया स्वास्थ्य का संदेश, किरण बेदी ने स्वस्थ भारत यात्रा का किया समर्थन, मैसूर में की पदयात्रा, घर-घर दिया संदेश, स्वस्थ भारत यात्री पहुंचे पूणे, निर्धन वर्ग के लोगों ने किया स्वागत, 90 दिन की स्वस्थ भारत यात्रा साबरमती आश्रम से शुरू, स्वास्थ्य की बात गांधी के साथः 1942 में महात्मा गांधी ने लिखी थी की ‘आरोग्य की कुंजी’ पुस्तक की प्रस्तावना, क्यों जरूरी है स्वस्थ भारत यात्रा-2, क्या आप जानते हैं! 65 साल पहले भारत में आया जापानी इंसेफलाइटिस!, इंसेफलाइटिस नहीं, अव्यवस्था से मर रहे हैं नौनिहाल आदि कई शीर्षकों के आधार पर स्वास्थ्य से संबधित विषयों पर लेखन कार्य किया गया हैं।

 इन शीर्षकों में स्वस्थ भारत अभियान, समाज की स्वास्थ्य सुविधाएं तथा स्वास्थ्य व्यवस्था के अवमूलन और निवारण पर ज़ोर दिया गया है। जनमानस को जागरूक करने का भी सराहनीय प्रयास किया गया है। इनमें उन मुद्दों और प्रसंगों को बड़ी ही शालीनता से उठाया गया है जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया में दरकिनार कर दिया जाता रहा है।  स्वास्थ्य की इन खबरों को उठाकर जनसमुदाय को लाभान्वित करने का भरसक प्रयास किया गया। शीर्षकों के साथ-साथ सम्पूर्ण समाचार, विचार व रपट लिखने की शैली बेहद सरल एवं जनसमुदाय में पठनीय है।

स्वस्थ भारत अभियान के वीडियो

इस श्रेणी के अंतर्गत स्वस्थ भारत अभियान से जुड़े वीडियोज़ का प्रसारण किया गया है। इन वीडियोज़ में स्वास्थ्य जैसे मुद्दे पर पत्रकार कितने संवेदनशील हैं, यह एक बड़ा प्रश्न हैः उमाशंकर मिश्र, युवा पत्रकार का साक्षात्कार, जानिए कैसे आशुतोष के गुस्से ने नींव रखी ‘स्वस्थ भारत अभियान’ की साक्षात्कार, यह वीडियो सभी माताओं को जरूर देखनी चाहिए। आप अपने बच्चों को कहीं ‘कैंसर’ तो नहीं खिला रही हैं, अच्छे डॉक्टर मिल जाए तो जिंदगी बदल जाती है, विशेष बातचीत- स्वस्थ भारत का सपना जरूर पूरा होगाः आशुतोष कुमार सिंह, बातचीत-यह विचार यात्रा है, रेल विभाग की लापरवाही का वीडियो-ढाई करोड़ यात्रियों के स्वास्थ्य के साथ रेलवे कर रहा है खिलवाड़!, कई समाचार के वीडियोज़ भी प्रसारित हुये जिनमें- तो हम भी करेंगे ऑनलाइन फार्मेसी का समर्थन: AIOCD, यूपी के फार्मासस्टों को भरमा रहे हैं ड्रग कंट्रोलर!, स्वास्थ्य मंत्रालय को संपादक ने लगाई फटकार, एक डॉक्टर की मौतः जरूर!, सत्यमेव जयतेः भारतीय चिकित्सा व्यवसाय का काला चिट्ठा!, गुजरातः370 बारातियों ने किया रक्तदान!, स्वस्थ भारत डॉट इन का पहला वीडियो- 30 दिनों का स्वस्थ भारत डॉट इन आदि शीर्षकों से विभिन्न वीडियोज़ प्रसारित हुये जिनमें साक्षात्कार, समाचार, यात्रा तथा जागरूकता के कई समाचार विचार थे।

उपसंहार स्वरूप कहा जा सकता है कि स्वस्थ भारत मीडिया के अंतर्गत संचालित ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ समाज के लिए सबसे उपयुक्त खबरों का वह स्वर है जिसे मुख्य धारा की मीडिया में या उपेक्षित किया गया है या उन खबरों को कभी-कभार ही स्थान दिया जाता है। वैकल्पिक मीडिया के एक सरोकारी मंच के रूप में स्थापित हो रहे इस मंच से जनमानस अपने को जोड़ पाता है जिस प्रकार वैकल्पिक मीडिया का उद्देश्य निजी लाभ पर केन्द्रित नहीं होता है और जनमानस की बात करता है, उसी प्रकार यह स्वस्थ भारत मीडिया के रूप में स्थापित मंच भी स्वास्थ्य के विभिन्न मुद्दों जनमानस के बीच अनुकरणीय है। स्वस्थ भारत (न्यास) के संस्थापक द्वारा अखिल भारतीय स्तर की ‘स्वस्थ भारत यात्रा’ स्वास्थ्य के प्रति संजीदगी और मानव कल्याण की भावना प्रदर्शित करता है। आशा ही नहीं विश्वास भी है कि यह मंच स्वास्थ्य के नए आयामों को जोड़कर जनमानस को निरंतर जागरूक करने का प्रयास करता रहेगा। 

लेखक संपर्क- ramshankarpal108@gmail.com

Related posts

केरल में जन-जन को दिया स्वास्थ्य का संदेश

आशुतोष कुमार सिंह

सूरज की आग एवं व्यवस्था की मार से झुलसते मासूम

स्वास्थ्य क्षेत्रः वैश्विक स्तर पर कदम-ताल करता भारत…

Leave a Comment

swasthbharat.in में आपका स्वागत है। स्वास्थ्य से जुड़ी हुई प्रत्येक खबर, संस्मरण, साहित्य आप हमें प्रेषित कर सकते हैं। Contact Number :- +91- 9891 228 151