स्वस्थ भारत मीडिया
SBA विशेष कोविड-19 मन की बात समाचार

ब्रिटेन से वरिष्ठ प्रवासी लेखक ने कोरोना पर यह संदेश भेजा है…

कोरोना से लड़ने के लिये अमरीका समेत बहुत से देश भारत से मदद माँग रहे हैं। ब्राज़ील के राष्ट्रपति ने तो भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की तुलना भगवान महावीर (हनुमान) से कर दी है। भारत के  कई राज्यों ने लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया  है। कुछ खास हॉट-स्पॉट्स पर तो कर्फ़्यू भी लगा दिया गया है। सभी भारतीयों को सरकार का साथ देना चाहिये और इस वायरस को हराने में सहायता करनी चाहिये।

तेजेन्द्र शर्मा, वरिष्ठ प्रवासी लेखक

 विश्व भर में कोरोना की कुछ ऐसी दहश्त फैली है कि कोई भी लेख सहीं आंकड़े दे ही नहीं सकता। लेख लिखने, भेजने और प्रकाशित होने में इतना समय लग जाता है कि आंकड़े इतिहास बन जाते हैं।

इस समय लंदन में 12 अप्रैल 2020 की सुबह के 05.30 बजे हैं। आज सुबह तक के आंकड़े कहते हैं कि ब्रिटेन में 78,991 केस कोरोना पॉज़िटिव के मौजूद हैं जबकि 9875 मरीज़ों की मृत्यु हो चुकी है। केवल 344 लोग इस बीमारी से ठीक होकर घर वापिस आ पाये हैं।

भारत और अमेरिका-तब और अब

 

सोचने की बात यह है कि ब्रिटेन में जनवरी 2020 के अंतिम सप्ताह में पहला कोरोना वायरस केस दर्ज हुआ था। तीस जनवरी को ब्रिटिश सरकार ने इस ख़तरे को ‘लो’ से बढ़ा कर ‘मॉडरेट’ घोषित किया। 31 जनवरी 2020 को आम जनता के लिये एक निर्देशिका जारी की गयी कि वायरस से कैसे बचा जाए। मगर अभी तक स्थिति की गंभीरता को किसी ने नहीं समझा था।

याद रहे कि इटली के शहर मिलान में वहां की पहली कोरोना मृत्यु 22 फ़रवरी 2020 को एक 77 वर्ष की महिला की हुई। और वहां के आज के आंकड़े हैं –1,52,271 कोरोना पॉज़िटिव केस और 19468 मौतें।

पीएम मोदी ने जो कहा, आपने पढ़ा क्या?

अमरीका और ब्रिटेन ने इटली, स्पेन और ईरान से कोई सबक नहीं सीखा और लॉक-डाउन के आदेश जारी करने में बहुत देरी कर दी। आज अमरीका के आंकड़े कहते हैं – 5,32,879 मामले पॉज़िटिव, 20,577 मौतें। कोरोना वायरस से हुई मौतों के मामले में टॉप फ़ाइव देशों में – अमरीका (20,577), इटली (19468), स्पेन (16,606), फ़्रांस (13832) और ब्रिटेन (9,875) के नाम शामिल हैं। यदि चीन के आंकड़ों को सच माना जाए तो वहां केवल 3,339 लोग कोरोना वायरस की भेंट चढ़े।

अमरीका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बॉरिस जान्सन का रवैया लगभग एक सा रहा। वे समझते रहे के कोरोना उनके देशों तक नहीं पहुंच सकता। वे हर मामले में ढील देते रहे और देरी करते रहे। ब्रिटेन में जब लॉक-डॉउन की बात कही गयी उसके बाद भी बहुत से रेस्टॉरेण्ट खुले थे। लोग काम पर आ जा रहे थे। यहां तक कि प्रिंस चार्ल्स और बाद में स्वयं बॉरिस जॉन्सन भी कोरोनाग्रस्त हो गये।

याद रहे कि आज कोरोना से मरने वाले लोग केवल संख्या बन गये हैं। विश्व भर में जो 1,08,830 लोगों की मृत्यु हो चुकी है वे केवल संख्या नहीं थे। उन सबके परिवार थे। वे किसी के बेटा, भाई, पति, प्रेमी, मामा, चाचा थे। उनकी एक अपनी निजी दुनियां थी। उनके मरने से परिवारों के लिये सदमें से बाहर आ पाना आसान नहीं।

चीनी वायरस के जाल में फंसती दुनिया

 

17 मार्च 2020 को ब्रिटेन के चीफ़ साइंटिफ़िक एडवाइज़र सर पैट्रिक वैलाँस ने घोषणा की थी कि यदि कोरोना वायरस के चलते ब्रिटेन में केवल 20,000 तक लोगों की मृत्यु तक सीमित किया जा सके तो यह एक उपलब्धि होगी। यह घोषणा सुबूत है इस बात का कि ब्रिटिश सरकार की सोच शुरू से ही निगेटिव रही। कहने वाले तो यह आरोप भी लगा रहे हैं कि ब्रिटिश सरकार चाहती थी कि यहां के सीनियर सिटिज़न कोरोना की भेंट चढ़ जाएं। मगर इन आरोपों की पुष्टि कर पाना संभव नहीं।

यह प्रश्न सामने मुंह बाए खड़ा है कि आख़िर ब्रिटेन की इतनी दयनीय स्थिति क्यों हो गयी। ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ स्कीम की तो दुनियां भर में चर्चा रही है। आख़िर कैसे इतनी बड़ी संस्था नें इस विश्वमारी के सामने घुटने टेक दिये हैं। यहां ध्यान देने लायक बात यह है कि पिछले कुछ समय से ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ स्कीम का बजट लगातार कम किया जा रहा है। 2015 के मुक़ाबले बजट करीब 25 प्रतिशत कम हो चुका है।

डॉक्टरों की शिकायत है कि लगातार डॉक्टरों और नर्सों की संख्या में गिरावट हो रही है और नयी आधुनिक मशीनें नहीं ख़रीदी जा पा रहीं क्योंकि बजट में निरंतर कमी आ रही है। वर्तमान सरकार हेल्थ सेवा को प्राइवेट करने की फ़िराक़ में है। वे चाहते हैं कि अमरीका की तरह ब्रिटेन के लोग भी निजी इन्श्योरेंस के भरोसे रहना शुरू कर दें और धीरे धीरे नेशनल हेल्थ स्कीम बस स्कीम ही बन कर रह जाए।

इस पड़ोसी देश से सीखें कोरोना से जीतने की तरकीब

आज हालत यह है कि अन्य बीमारियों की तो औक़ात ही ख़त्म हो गयी है। मुझे मेंरी डॉक्टर ने बताया कि मेरे दिल में एक ‘मरमर’ जैसी आवाज़ सुनाई दे रही है। मुझे ई.ई.जी. करवाना होगा। मगर पिछले 4 सप्ताह से तो कोई बात ही शुरू नहीं हो पा रही। डॉक्टर स्वयं कह रही हैं कि फ़िलहाल हस्पताल से दूर रहना ही ठीक है। कहीं ईईजी करवाने जाएं और कोरोना लेकर वापिस आएं।

यह भी पढ़ें… आइए भारतीयता’ का दीप हम भी जलाएं

यह भी पढ़ें…  प्रसव वेदना’ के दौड़ में वैश्विक समाज

आजकल दोपहर को धूप निकल रही है। ब्रिटेन के नागरिकों के लिये धूप एक लग्ज़री है। धूप खिलते ही सब पार्क और समुद्र तट की ओर निकल पड़ते हैं। इस ईस्टर पर उन्हें सलाह दी जाती है कि घरों में बन्द रहें। कोरोना के वाहक बनने से बचें।

कोरोना से लड़ने के लिये अमरीका समेत बहुत से देश भारत से मदद माँग रहे हैं। ब्राज़ील के राष्ट्रपति ने तो भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की तुलना भगवान महावीर (हनुमान) से कर दी है। भारत के कई राज्यों ने लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया  है। कुछ खास हॉट-स्पॉट्स पर तो कर्फ़्यू भी लगा दिया गया है। सभी भारतीयों को सरकार का साथ देना चाहिये और इस वायरस को हराने में सहायता करनी चाहिये।

 

Tejendra Sharmaलेखक परिचय: तेजेंद्र शर्मा (जन्म २१ अक्टूबर १९५२) ब्रिटेन में बसे भारतीय मूल के हिंदी कवि लेखक एवं नाटककार है। इनका जन्म 21 अक्टूबर 1952 में पंजाब के जगरांव शहर में हुआ। तेजेन्द्र शर्मा की स्कूली पढ़ाई दिल्ली के अंधा मुग़ल क्षेत्र के सरकारी स्कूल में हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय में एम.ए. तथा कम्प्यूटर में डिप्लोमा करने वाले तेजेन्द्र शर्मा हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी, उर्दू तथा गुजराती भाषाओं का ज्ञान रखते हैं। उनके द्वारा लिखा गया धारावाहिक ‘शांति’ दूरदर्शन से 1994 में अंतर्राष्ट्रीय लोकप्रियता प्राप्त कर चुका है। अन्नू कपूर निर्देशित फ़िल्म ‘अमय’ में नाना पाटेकर के साथ उन्होंने प्रमुख भूमिका निभाई है। वे इंदु शर्मा मेमोरियल ट्रस्ट के संस्थापक तथा हिंदी साहित्य के एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय सम्मान इंंदु शर्मा अंतर्राष्ट्रीय कथा सम्मान प्रदान करनेवाली संस्था ‘कथा यू.के.’के सचिव हैं।

 

Related posts

वायरस बनाम इंसानियत की जंग में चिकित्सा पद्धतियों के प्रति पूर्वाग्रह सबसे बड़ा दुश्मन है!

कोविड-19 के खिलाफ इस विश्वविद्यालय के वालंटियर्स को प्रशिक्षित कर रहा है सीसीएमबी

New option emerges for treatment of inflammatory diseases

swasthadmin

Leave a Comment