स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

26 राज्यों के 3579 प्रखंडों में खुलेंगे जन औषधि केंद्र

अजय वर्मा

नयी दिल्ली। भारतीय जन औषधि परियोजना की कार्यान्वयन एजेंसी फार्मास्युटिकल्स एंड मेडिकल डिवाइसेस ब्यूरो ऑफ इंडिया ने जन औषधि केंद्र खोलने के लिए व्यक्तियों, बेरोजगार फार्मासिस्टों, सरकार द्वारा नामित संस्थाओं, गैर सरकारी संगठनों, ट्रस्ट, सोसायटी आदि से आवेदन मांगे गए हैं। एक ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से ये आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इच्छुक आवेदक पीएमबीआई की वेबसाइट janaushadhi.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

अभी 8610 जनऔषधि केंद्र कार्यरत

आम आदमी के लिए सस्ती दर पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार ने मार्च 2024 तक जनऔषधि केंद्रों की संख्या को 10000 तक बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। मार्च 2022 तक इनकी संख्या बढ़कर 8610 हो चुकी है। देश के सभी 739 जिले इस योजना में शामिल है। 406 जिलों के 3579 प्रखंडों को कवर करने के लिए नए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। छोटे शहरों और प्रखंड मुख्यालयों के निवासी भी अब जन औषधि केंद्र खोलने के अवसर का लाभ उठा सकते हैं। यह योजना महिलाओं, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पहाड़ी जिलों, द्वीप जिलों और पूर्वोत्तर राज्यों सहित विभिन्न श्रेणियों को विशेष प्रोत्साहन प्रदान करती है। इससे देश के कोने-कोने में लोगों तक सस्ती दवा की पहुंच आसान होगी। PMBJP केंद्र खोलने और विभिन्न श्रेणियों के लिए प्रोत्साहन योजना के विस्तृत नियमों एवं शर्तों को PMBI की वेबसाइट पर देखा जा सकता है।

नयी दवायें भी बढ़ेंगी

PMBJP के उपलब्ध औषध समूह में 1616 दवाएं और 250 सर्जिकल उपकरण शामिल हैं, जो देश भर में संचालित जनऔषधि केंद्रों (PMBJK) के माध्यम से बिक्री के लिए सुलभ हैं। इसके अलावा कुछ आयुष उत्पादों जैसे आयुष किट, बलरक्षा किट और आयुष-64 टैबलेट को प्रतिरोधक क्षमता बूस्टर के रूप में इस परियोजना से जोड़ा गया है। औषधियों की विस्तृत श्रृंखला में सभी प्रमुख चिकित्सीय समूहों जैसे कार्डियोवास्कुलर, एंटी-कैंसर, एंटीडायबिटिक, एंटी-इंफेक्टिव, एंटी-एलर्जी, गैस्ट्रो-इंटेस्टाइनल दवाएं, न्यूट्रास्यूटिकल्स आदि को शामिल किया गया है। इसके अलावा FMGC वस्तुओं एवं खाद्य उत्पादों के लॉन्च पर कार्य किया जा रहा है और अत्यधिक मांग वाले आयुर्वेदिक उत्पादों को विस्तार देने के लिए भी काम हो रहा है।

चार बड़े शहरों में गोदाम

पीएमबीआई ने गुरुग्राम, चेन्नई, गुवाहाटी और सूरत में चार भंडार गृह स्थापित करके आपूर्ति श्रृंखला प्रणाली को मजबूत किया है। इसके अलावा देश के हर हिस्से में समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए पूरे भारत में 39 वितरकों का एक मजबूत वितरक नेटवर्क भी उपलब्ध है।

Related posts

46% Indian women take leave from work during periods: everteen Menstrual Hygiene Survey 2018

Waste से Wealth : प्लास्टिक वेस्ट की रीसाइक्लिंग से प्रदूषण कम करने का आह्वान

admin

डरने की नहीं, कोरोना से लड़ने की है जरूरत

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment