स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

मेडिकल जांच में गड़बड़ी से हर साल लाखों लोगों की मौत

कुणाल मिश्रा

नयी दिल्ली। मेडिकल जांच में होने वाली गड़बड़ी सेहत को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकती है। इससे कुछ मामलों में जान जाने तक की स्थिति हो सकती है। हाल ही में a Johns Hopkins Armstrong Institute Center for Diagnostic Excellence में छपी एक रिपोर्ट की मानें तो जांच में गड़बड़ी के कारण हर साल करीब 10 लाख अमेरिकी जान गंवाते हैं। ऐसा केवल इसलिए होता है कि ठीक तरह से जांच नहीं होने पर लोगों को अपनी असल समस्या का पता नहीं लग पाता है।

विकलांगता का भी हो सकते हैं शिकार

शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है कि जांच में होने वाली गड़बड़ी से न केवल मौत बल्कि, विकलांगता भी हो सकती है। अमेरिका में तीन लाख 71 हजार मरीज हर साल जान गंवाते हैं और चार लाख 71 हजार लोग इसके चलते पूर्ण रूप से विकलांगता का शिकार भी होते हैं। ऐसे में स्ट्रोक, सेप्सिस, निमोनिया आदि जैसी समस्याओं का भी काफी खतरा रहता है। गलत जांच के चलते लोगों को स्ट्रोक के साथ-साथ शरीर के एक तरफ के हिस्से में विकलांगता भी देखी जाती है।

जांच कराते समय रखें इन बातों का ध्यान

स्वास्थ्य संबंधी किसी भी जांच को कराते समय कुछ बातों का ध्यान रखना काफी जरूरी होता है। कई बार जांच कराने से पहले आपके द्वारा की जाने वाली कुछ गलतियां भी नुकसानदायक साबित हो सकती हैं। जांच कराने से पहले तला-भुना या फिर मसालेदार खाने से बचें। अधिकतर मामलों में ब्लड टेस्ट कराने से पहले खाली पेट रहना चाहिए, इसलिए कोशिश करें कि ब्लड टेस्ट को खाली पेट ही कराएं। मेडिकल जांच कराने वाले दिन ज्यादा खाने या फिर एक्सरसाइज करने से भी बचें।

बार-बार मेडिकल जांच कराने के नुकसान

अगर आप स्वस्थ हैं तो भी हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक साल में एक बार मेडिकल जांच कराना जरूरी होता है, लेकिन कुछ लोग बीमार होने पर बार-बार जांच कराते हैं। इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। कई बार ज्यादा सिटी स्कैन या फिए MRI कराने से कई बार कैंसर होने का खतरा भी बढ़ सकता है। दरअसल, इन जांचों को करने में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों से निकलने वाली रेडिएशन शरीर के कुछ हिस्सों की सेल्स को डैमेज कर सकती हैं। इसलिए बीमार होने पर चिकित्सक की सलाह के बाद ही जांच कराएं।

साभार

Related posts

विदेशी नागरिकों के लिए आयुष वीजा बनेगा

admin

सुपरबग: कहीं हार न जाए एलोपैथिक चिकित्सा

Ashutosh Kumar Singh

यूपी: अवैध दवा दुकानों के प्रकरण पर PIL दाखिल

Vinay Kumar Bharti

Leave a Comment