स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

प्रो. संजय द्विवेदी को मिला ‘पीआरएसआई लीडरशिप अवॉर्ड‘

नयी दिल्ली। भारतीय जन संचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी को पब्लिक रिलेशंस सोसायटी ऑफ इंडिया द्वारा ‘पीआरएसआई लीडरशिप अवॉर्ड 2021‘ से सम्मानित किया गया है। इंटरनेशनल पब्लिक रिलेशंस एसोसिएशन की अध्यक्ष सुश्री एत्सुको सुगिहारा एवं आयरलैंड में भारत के राजदूत श्री अखिलेश मिश्रा ने एक ऑनलाइन कार्यक्रम में प्रो. द्विवेदी को यह सम्मान दिया। इस अवसर पर पीआरएसआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजीत पाठक भी उपस्थित थे।

लंबा योगदान रहा शिक्षा के क्षेत्र में

प्रो. संजय द्विवेदी देश के प्रख्यात पत्रकार, मीडिया प्राध्यापक, अकादमिक प्रबंधक एवं संचार विशेषज्ञ हैं। डेढ़ दशक से अधिक के अपने पत्रकारिता कॅरियर के दौरान वह विभिन्न मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों का निर्वहन कर चुके हैं। वे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के प्रभारी कुलपति और वह कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर में पत्रकारिता विभाग के संस्थापक अध्यक्ष भी रह चुके हैं। वर्तमान में वे भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई), पुणे की सोसायटी एवं गवर्निंग काउंसिल के सदस्य हैं। वह महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन, मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद एवं असम विश्वविद्यालय, सिलचर के ‘बोर्ड ऑफ स्टडीज‘ के सदस्य हैं।

26 पुस्तकों का लेखन

राजनीतिक, सामाजिक और मीडिया के मुद्दों पर उनके 3000 से ज्यादा लेख विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। उन्होंने 26 पुस्तकों का लेखन एवं संपादन किया है। वह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा अनुमोदित शोध पत्रिकाओं ‘कम्युनिकेटर‘ एवं ‘संचार माध्यम‘ के प्रधान संपादक हैं। प्रो. द्विवेदी ‘राजभाषा विमर्श‘ एवं ‘संचार सृजन‘ के प्रधान संपादक तथा ‘मीडिया विमर्श (त्रैमासिक)‘ के मानद सलाहकार संपादक भी हैं। मीडिया क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

Related posts

देश में डिजिटल स्वास्थ्य इकोसिस्टम के निर्माण की तैयारी

admin

तैयार रहे दुनिया जानलेवा महामारी से : WHO की चेतावनी

admin

अब कोविड-19 के दौरान “फर्स्ट ऐड साइकोलॉजिकल सपोर्ट” लेकर आया यह संस्थान

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment