स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

भारत में बनी खास खूबियों वाले एक और वैक्सीन को मंजूरी

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए औषधि महानियंत्रक ने एक और वैक्सीन GEMCOVAC-19 के इस्तेमाल की मंजूरी दी है। इसको पुणे की जेनोवा बायोफार्मा ने विकसित किया है। कुछ खास खूबियों वाले इस वैक्सीन का इस्तेमाल 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों के लिए किया जाएगा। इसकी खासियत यह है कि इसे आसानी से कहीं भी लाया ले जाया सकता है और किसी खास इंतजाम की जरूरत नहीं है। इसे 2 से 8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है।

क्या है mRNA कोविड वैक्सीन?

एक्सपर्ट के मुताबिक यह ऐसी वैक्सीन हैं जिसमें मैसेंजर RNA (mRNA) का इस्तेमाल किया गया है। यह एक तरह का आरएनए ही है जो शरीर में प्रोटीन के निर्माण के लिए जरूरी होता है। शरीर में कोशिकाओं के भीतर प्रोटीन का निर्माण करने के लिए सबसे पहले mRNA एक खाका यानी ब्लूप्रिंट तैयार करता है जिसके बाद प्रोटीन का निर्माण होता है। जैसे ही कोशिकाएं प्रोटीन बना लेती हैं, वह mRNA को ब्रेक कर देती हैं जिससे यह mRNA शरीर में कोशिकाओं के डीएनए को नहीं बदलता है। जेनोवा बायोफार्मा के सीईओ डॉ. संजय सिंह ने मीडिया को बताया कि इसके दोनों डोज के बीच का गैप 28 दिन का होगा।

7 से 11 के बच्चों के लिए भी वैक्सीन

इसके अलावा DGCI ने छोटे बच्चों के लिए कुछ शर्तों के साथ एक नई कोविड वैक्सीन को मंजूरी दी है। यह 7 साल से 11 साल के बच्चों के लिए है जिसे सीरम इंस्टिट्यूट ने विकसित किया है।इस नए टीके कोवोवैक्स के साथ शर्त है कि इसका इस्तेमाल सिर्फ सीमित आपातकालीन समय के लिए किया जाएगा। इससे पहले DGCI ने 28 दिसंबर को वयस्क लोगों में कोवोवैक्स के सीमित इस्तेमाल की मंजूरी दी थी।

 

Related posts

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में नसबंदी के बाद 8 महिलाओं की मौत, चार अधिकारी निलंबित

Ashutosh Kumar Singh

स्वस्थ समाज की परिकल्पना में बालिकाओं का स्वस्थ होना जरूरीः प्रो. बीके कुठियाला

Ashutosh Kumar Singh

जी हां, पुलिस करेगी चिकित्सकों की सुरक्षा

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment