स्वस्थ भारत मीडिया
कोविड-19

कोविड-19 के खिलाफ़ ज़ंग में पंजाब को हर संभव मदद करेगा केन्द्रः स्वास्थ्य मंत्री

कोविड-19 के खिलाफ़ ज़ंग में पंजाब को हर संभव मदद करेगा केन्द्रः स्वास्थ्य मंत्री

कोविड-19 से लड़ने के लिए केन्द्र सरकार सभी राज्यों के साथ बातचीत कर रही है। इसी कड़ी में स्वास्थ्य मंत्री ने पंजाब के मुख्यमंत्री से बातचीत की है। आशुतोष कुमार सिंह  की  रपट

नई दिल्ली/एसबीएम

कोविड19 से निपटने की तैयारियों को लेकर राज्यों के साथ चल रही बैठकों के क्रम में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए पंजाब के स्वास्थ्यमंत्री श्री बलबीर सिंह सिद्धू के साथ कोविड-19 की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की है।

इसके अलावा रेडजोन के सभी डीएम के साथ भी बातचीत की गई है। पंजाब के सभी 22 ज़िले इस समय कोविड-19 से प्रभावित हैं। राज्य के 3 जिले रेडजोन में हैं। इनमें जालंधर,पटियाला और लुधियाना जिले शामिल हैं। पंजाब में कोविड-19 के 1914 संक्रमित मरीज हैं। जबकि रिकवरी रेट 8.9 है।

इसे भी पढ़ेंः शारीरिक सेहत के साथ आर्थिक सेहत भी जरूरी: डॉ.हर्षवर्धन

पंजाब में हजार प्रवासी मजदूरों का हुआ टेस्ट

राज्य में करीब 20 हजार प्रवासी श्रमिकों में से 8 हजार टेस्ट किए गए जिनमें से 217 संक्रमित पाए गए। नांदेड़ से आए 4216 श्रद्दालुओं में से 1225 संक्रमित पाए गए। वैसे इन सभी का विदेश से आने वाले लोगों से कोई संपर्क नहीं था इसलिए इस वायरस का प्रकोप ज्यादा नहीं फैला और हम सभी धैर्य से काम करते रहें और आगे बढ़ते रहें और इस बीमारी पर जल्द विजय प्राप्त करेंगे। पंजाब के मुख्यमंत्री से स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, आप लोगों को राज्य में कोविड-19 से लड़ने में किसी चीज की आवश्यकता है,किसी तकनीकी सहयोग या किसी परामर्श की जरूरत की है तो बताएं केंद्र सरकार सदैव आपके साथ है।

कोविड-19 से ठीक होने वाले मरीजों की दर 38.8 पहुंची

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि, कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर लगातार बढ़कर 32.8 प्रतिशत पहुंच गई है और मृत्यु दर 3.2 प्रतिशत है। देश में लॉकडाउन से पहले कोविड-19 के मरीजों की संख्या केवल 3 दिन में ही दोगुनी हो रही थी। जो अब 14 दिन के आंकड़ों के आधार पर 11 दिन में दोगुनी हो रही है। जबकि 7 दिन में 11.9 और 3 दिन के आधार पर देखें तो यह 12.6 दिन में मरीजों की संख्या दोगुनी ( डबलिंग) हो रही है।

इसे भी पढ़ेंः लॉकडाउन में छात्रों के लिए सीएसआईआर-निस्केयर की ऑनलाइन प्रतियोगिता

कोविड-19 से लड़ने के लिए 3 प्रकार के अस्पताल बने हैं

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार ने कोविड-19 के खिलाफ जंग में 3 प्रकार के अस्पताल बनाए हैं। इनमें गंभीर मरीजों के लिए 900 डेडीकेटिड कोविड अस्पताल हैं। इनमें 1,79,882 बेड्स की व्यवस्था है। मध्यम रूप से बीमार मरीजों के लिए कोविड हेल्थ सेंटर्स बनाए गए हैं। देश में इनकी संख्या 2040 है, जहां 1,29,689 बेड्स की व्यवस्था है। इनके अलावा हल्के-फुल्के लक्षणों से ग्रसित रोगियों के लिए कोविड केयर सेंटर्स बनाए गए हैं। इनकी संख्या 5577 है। जिनमें 4,93,101 बेड्स हैं। कहने का तात्पर्य है कि कोविड-19 से विषम परिस्थितियों से लड़ने में हमारी पूरी तैयारी है। हांलाकि ऐसी कोई स्थिति आने की कोई संभावना भी नहीं है।

इसे भी पढ़ेंःकोरोना योद्धाः बिहार के इस एएसपी ने बदल दी जिले की तस्वीर

वंदे भारत मिशन पर बोले स्वास्थ्य मंत्री

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आजकल प्रवासी श्रमिकों और वंदे भारत मिशन के जरिए जो लोगों का आवागमन हो रहा है ऐसे लोगों को 14 दिन तक रखने के लिए क्वारेंटीन सेंटर की भी व्यस्था है। देश में इन सेंटरों की संख्या 8708 है।

इसे भी पढ़ेंःकोरोना योद्धाओं पर शराबी पड़ने वाले हैं भारी

प्रति दिन एक लाख टेस्ट किए जा रहे हैं

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अभी तक 78.42 लाख N95 मास्क और 42.18 लाख PPE किट्स राज्यों को भेजे जा चुके हैं। वेंटिलेटर पर मात्र 0.37 प्रतिशत और आईसीयू में 2.75 प्रतिशत मरीज हैं। जबकि कोरोना से पीड़ित केवल 1.89 प्रतिशत लोगों को ही ऑक्सीजन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग क्षमता अब एक लाख Samples प्रतिदिन से ज्यादा की हो गई है। उन्होंने कहा कि हमने यह लक्ष्य 31 मई तक के लिए निर्धारित किया था, लेकिन हमने समय से पूर्व ही अपनी क्षमता बढ़ा ली है। आज तक देशभर में 18,56,477 टेस्ट हो चुके हैं। कल एक दिन में हमने 94,708 टेस्ट किए थे। आज हमारे पास कुल मिलाकर 492 टेस्टिंग लैब्स हैं। इनमें से 352 सरकारी और 140 निजी क्षेत्र में हैं।

 

Related posts

जी हां, पुलिस करेगी चिकित्सकों की सुरक्षा

आयुष को मिला कोरोना को ट्रीट करने का अधिकार,भारत के इन राज्यों ने दी मंजूरी

फ्रंटलाइनर बने आयुर्वेद और होमियोपैथ

Leave a Comment